फॉरवर्ड प्रेस

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटेटिव हिस्ट्री

‘जेवी, आंबेडकर-पश्चात दलित आंदोलन के विश्वकोश हैं। दलित पैंथर के संस्थापकों में एक होते हुए उन्होंने, दूसरों से अलग, कभी प्रसिद्धि पाने की कोशिश न की। वे आंबेडकरवादी आंदोलन के लिए प्रतिबद्ध और अपनी आस्था के प्रति सच्चे बने रहे।’

– डॉ आनंद तेलतुंबडे

 

‘हमने इतनी सारी चीजें बनाईं लेकिन जेवी ने आंदोलन का दस्तावेजीकरण किया। यदि हमलोगों या जेवी के अलावा किसी अन्य ने इसे दस्तावेजीकरण किया होता तो आंदोलन का इतिहास अवश्य ही विकृत होता।’

– शाहिर संभाजी भगत

 

अंततः दलित पैंथर आंदोलन का आधिकारिक इतिहास, अंग्रेजी में आ गया। ढाले और ढसाल अपने संस्करण पहले ही प्रकाशित कर चुके हैं। तो क्या है जो दलित पैंथर्स के पवार की “आत्मकथा” को आधिकारिक इतिहास बनाता है? सबसे पहले, वह नए समूह को उसका प्रसिद्ध नाम देने वाले, आंदोलन के दो संस्थापकों में से एक थे। समूह के महासचिव के रूप में उन्होंने सभी पत्राचार किए और दस्तावेज़ीकरण किया। इसके अलावा, पैंथर्स पर इसके अल्प अस्तित्व काल के पुलिस और खुफिया रिपोर्ट समेत महाराष्ट्र सरकार के अभिलेखागार तक उनकी पहुंच थी।

पवार जिसे विनम्रतापूर्वक पैंथर्स के इतिहास का रेखांकन कहते हैं, दरअसल वह संगठन और आंदोलन को, महाराष्ट्र के आम्बेडकर-पश्चात दलित समाज, खासकर इसके मुद्दों और चुनौतियों – समाजार्थिक, राजनीतिक और सबसे ऊपर मनोवैज्ञानिक – के संदर्भ में रखता है। यहां एक उपन्यासकार (बलिदान के लेखक) का कौशल ऐतिहासिक ढांचे में जान डालने का काम करता है।

अंग्रेजी का यह ग्रंथ आधुनिक भारतीय इतिहास, खासकर निचले तबके के दलित आंदोलनों, के छात्रों को महत्वपूर्ण सामग्री उपलब्ध कराता है। इसमें सभी बहुजन कार्यकर्ताओं के लिए कई मूल्यवान सबक हैं। इसके बिना कोई व्यक्तिगत या अकादमिक पुस्तकालय पूर्ण नहीं होगा।

 

कहाँ से खरीदें :

थोक खरीददारी :

fpbooks@forwardpress.in फोन : 7827427311

अमेजन पर :

सजिल्द : https://www.amazon.in/gp/product/B079HXK9PD

पेपरबैक : https://www.amazon.in/gp/product/B079HZ51SN

ई-बुक : https://www.amazon.in/dp/B07951BDFC

फ्लिपकार्ट पर :

पेपरबैक : https://www.flipkart.com/dalit-panthers-authoritative-history/p/itmffyrjrjh5grzz

फारवर्ड प्रेस में ‘दलित पैंथर्स’

https://www.forwardpress.in/2018/01/the-dalit-panther-as-a-convergence-of-hope-and-rage/

https://www.forwardpress.in/2018/02/dalit-panther-dalit-asmita-ke-lie-sanghrs-ka-ahvan/

मीडिया में ‘दलित पैंथर्स’

https://www.hindustantimes.com/books/excerpt-dalit-panthers-an-authoritative-history-by-jv-pawar/story-llJqyQ3CVRrMrJ3byvbBBP.html

https://www.hindustantimes.com/books/excerpt-chapter-on-the-blinding-of-the-gavai-brothers-from-dalit-panthers-an-authoritative-history/story-JoBqCKTFV3qMQyawL7Tu9I.html

https://thewire.in/caste/dalit-panthers-jv-pawar-interview

https://thewire.in/214393/examining-evolution-dalit-politics/?utm_source=alsoread

http://indianculturalforum.in/2018/06/07/j-v-pawar-dalit-panthers/

https://scroll.in/article/875573/how-indias-dalits-had-to-cope-when-the-backlash-began-after-ambedkars-death

 

(अनुवाद : अनिल गुप्ता, संपादन : नवल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार