फॉरवर्ड प्रेस

बिहार : धर्म और जाति के आधार पर अलग-अलग कक्षाओं में पढ़ाये जा रहे बच्चे

भारतीय संविधान में अस्पृश्यता खत्म करने व समाज में समता के लिए कानून बनाये गये हैं। लेकिन बिहार में इस कानून का उल्लंघन सरकारी स्कूलों में किया जा रहा है। छपरा के दो सरकार स्कूलों में धर्म और जाति के आधार पर अलग-अलग कक्षाओं में बच्चों काे पढ़ाया जा रहा है। इस संबंध में पूर्व उपमुख्यमंत्री सह विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने ट्वीट के जरिए अपना विरोध व्यक्त किया है।

छपरा के एक सरकारी स्कूल का दृश्य (फाइल फोटो)

मामला सामने आते ही मचा हंगामा

सारण जिले के बनियापुर प्रखंड के कोल्हुआं उच्च विद्यालय में जाति के आधार पर स्कूल का वर्ग बनाया गया था। जिसमें अनुसूचित जाति का वर्ग अलग रखा गया है। इसकी जानकारी मिलते ही अभिभावकों ने विद्यालय पहुंच कर हंगामा किया। इसकी सूचना मिलने के बाद बीडीओ और थाना अध्यक्ष पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच कर मामले काे शांत कराया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक उच्च विद्यालय में जाति के आधार अलग से कक्षा की शिकायत अभिभावकों को मिली थी। वे हंगामा करने लगे। जहां बनियापुर उप प्रमुख संजय राम और इसुआपुर जिला पार्षद गीता सागर राम भी मौके पर पहुंच गईं। अभिभावकों ने इनसे भी यही शिकायत की। इसकी जानकारी मिलते ही बीडीओ दीपक कुमार और थानाध्यक्ष राम विनय पासवान पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गये। अधिकारियों ने प्रधानाध्यापक संजय ¨साह से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि सरकारी योजनाओं के लाभ के लिए अनुसूचित जाति के छात्रों की नामांकन सूची अलग बनाई गई है।

सारण जिले के नगरा प्रखंड स्थित बीबी राम माध्यमिक सह प्लस टू स्कूल

 

 तीन महीने पहले उजागर हुआ नगरा का मामला

वर्ष 2017 के नवंबर माह में सारण जिले के नगरा प्रखंड स्थित बीबी राम माध्यमिक सह प्लस टू स्कूल के शिक्षकों द्वारा दलित छात्र-छात्राओं को अलग क्लास रूम में पढ़ाने का मामला प्रकाश में आया था। इसका कड़ा विरोध किया गया था। अांबेडकर रविदास महासंघ के महासचिव रामलाल राम ने जिलाधिकारी हरिहर प्रसाद एवं जिला शिक्षा पदाधिकारी राजकिशोर सिंह से इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने की मांग की थी। लेकिन हालात जस के तस हैं। बताते चलें कि  बीबी राम माध्यमिक सह प्लस टू हाई स्कूल में पढ़ने वाले अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राओं को अलग क्लास रूम पढ़ाया जा रहा है। वहीं विद्यालय में जातीय आधार पर दलित छात्र-छात्राओं का सेक्शन बनाया गया है तथा अलग उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया है। जिसके आधार पर ही दलित छात्र-छात्राओं को पढ़ाया जा रहा है।

जिलाधिकारी बोले- विद्यालय की जांचकर होगी कार्रवाई

वहीं छपरा के जिलाधिकारी हरिहर प्रसाद ने कहा कि इस तरह का मामला उनके संज्ञान में नही आया है। अगर बनियापुर के कोल्हुआं उच्च विद्यालय व नगरा केबीबी राम माध्यमिक सह प्लस टू विद्यालय में दलित छात्र-छात्राओं को अलग क्लास रूम में पढ़ाया जा रहा होगा तो जांच करायी जाएगी। दोषियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। किसी भी सूरत में दलित छात्र-छात्राओं को अलग क्लासरूम में पढ़ाने वाले को नहीं बख्शा जाएगा।


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

‘महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार