फॉरवर्ड प्रेस

संविधान बचाने को सभी साथ आयें : प्रकाश आंबेडकर

आरएसएएस 2022 तक संविधान बदलने के प्रयास में जुटा है। वह मनुवाद आधारित संविधान देश में लागू करना चाहता है। आवश्यकता है कि बाबा साहब डॉ आंबेडकर द्वारा बनाये गये संविधान को बचाया जाय। इसके लिए सभी चाहे वह किसी धर्म या जाति के हों। यह कहना है बाबा साहब डॉ. आंबेडकर के प्रपौत्र प्रकाश आंबेडकर का। इन दिनों वे पूरे देश में संविधान बचाओ मुहिम चला रहे हैं। इस क्रम में आगामी 26 फरवरी को दिल्ली के पार्लियामेंट स्ट्रीट पर उन्होंने एक प्रदर्शन का आह्वान किया है। फारवर्ड प्रेस के संपादक (हिंदी) नवल किशोर कुमार के साथ दूरभाष पर संक्षिप्त बातचीत के दौरान उन्होंने संविधान बचाओ मुहिम के बारे में जानकारी दी। बातचीत का संपादित अंश :

प्रकाश आंबेडकर

इन दिनों आप पूरे देश में एक मुहिम चला रहे हैं। इसका मुख्य एजेंडा क्या है?

प्रकाश आंबेडकर : आरएसएस ने देश में एक बड़ी साजिश रची है। वह बाबा साहब के संविधान के बदले मनुवाद आधारित संविधान लागू करना चाहती है। आरएसएस के लोगों ने कहा भी है। उनकी योजना है कि वे 2022 तक जब राज्यसभा में बहुमत हो जाने के बाद वे अपने हिसाब से संविधान में संशोधन कर सकेंगे। वे दलितों, आदिवासियों और पिछड़ों को उनके अधिकार से वंचित कर देना चाहते हैं। यह मुहिम हमने उनके खिलाफ इसलिए शुरू किया है ताकि हम उन्हें ऐसा करने से रोक सकें। हमें यह समझना होगा कि संविधान ही हमें हमारा अधिकार सुनिश्चित करता है।

आपने दलितों और पिछड़ों को एक साथ आने का आह्वान किया है।

प्रकाश आंबेडकर : नहीं, हमने तो सभी तबकों को एक साथ आने के लिए कहा है। यह हमारी लाइन है। जो संविधान बचाना चाहते हैं, वे हमारे साथ आयें।

क्या आपको लगता है कि हाल के दशक में दलितों और पिछड़ों में दूरी बढ़ रही है? आपके मुहिम से वे एक-दूसरे के साथ आयेंगे?

प्रकाश आंबेडकर : मेरे हिसाब से इस मुद्दे पर दलितों में कोई अंतर नहीं है। हमने सभी को बुलाया है। वे आयेंगे।

आपके इस मुहिम को लेफ्ट पार्टियां कितना सहयोग कर रही हैं?

प्रकाश आंबेडकर : हमने उन्हें इस मुहिम से दूर रखा है। वे अपना काम करें। हम अपना काम करेंगे।

भाजपा और आरएसएस आरक्षण की समीक्षा करने की बात कर रही है। कहीं न कहीं इसका सबसे अधिक शिकार ओबीसी होगा। इसे आप कैसे एड्रेस करेंगे?

प्रकाश आंबेडकर : हम एड्रेस कर रहे हैं। इसलिए तो हमलोगों ने यह मुहिम चलाया है। हम सब साथ होंगे और संविधान बचायेंगे।


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

‘महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार