फॉरवर्ड प्रेस

डीयू में बने एससी, एसटी व ओबीसी सेल

दिल्ली विश्वविद्यालय में एकेडमिक काउंसिल के सदस्य प्रो. हंसराज सुमन ने एससी, एसटी और ओबीसी के लिए विशेष सेल का गठन किए जाने की मांग की है।

गौर तलब है कि दिल्ली विश्वविद्यालय से संबद्ध कॉलेजों और विभागों में शैक्षिक सत्र 2018–19 के अंडरग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स, डिप्लोमा कोर्स, सर्टिफ़िकेट कोर्स के अलावा एमफिल और पीएचडी जैसे कोर्सों के लिए एडमिशन की तिथि घोषित हो चुकी है। अंडरग्रेजुएट कोर्स के लिए पहली एडमिशन लिस्ट 19 जून को आनी है। प्रो. हंसराज ने कुलपति प्रो. योगेश कुमार से मांग की है कि आरक्षित वर्गों से आने वाले छात्र/छात्राओं के लिए विशेष सेल का गठन की जाय ताकि उनकी समस्याओं का निराकरण हो सके।

प्रो. हंसराज सुमन, सदस्य, एकेडमिक काऊंसिल, दिल्ली विश्वविद्यालय

प्रो सुमन के अनुसार यूजीसी के द्वारा सख्त निर्देश दिए गए हैं कि प्रत्येक यूनिवर्सिटी/कॉलेज/संस्थान में एससी, एसटी सेल बने। लेकिन देखने में आया है कि अधिकांश कॉलेजों में सेल की स्थापना नही की गई है। सेल छात्रों के एडमिशन, स्कॉलरशिप, जातीय भेदभाव, शिक्षा संबंधी किसी तरह का भेदभाव किया जाता है तो सेल में अपना केस दर्ज कराया जा सकता है।

प्रो. सुमन के मुताबिक कई सालों से देखने में आया है कि कॉलेजों में एससी, एसटी और ओबीसी कोटे के फर्जी जाति प्रमाण पत्र पाए गए। वे भी तभी संभव हो पाया कि जब संदेह हुआ कि इन कॉलेजों के जाति प्रमाण पत्रों की जांच हो,और फर्जी जाति प्रमाण पत्र पाए जाने पर उनका एडमिशन रदद् कर दिया गया और कुछ दंड नहीं दिया गया। कॉलेजों में भी एडमिशन के समय एससी, एसटी और ओबीसी कोटे के जाति प्रमाण पत्रों की ठीक से जांच नहीं की जाती है।


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार