जल्द रिलीज होगी विभाजन की त्रासदी के चितेरे मंटो पर बनी फिल्म

हिंदी साहित्य में देश का बंटवारा महत्वपूर्ण विषय रहा है। सआदत हसन मंटो ने भी बंटबारे की त्रासदी को अपने कथा साहित्य का विषय बनाया था। उनकी कई कहानियाें पर अश्लीलता का आरोप भी लगा और मामला अदालत तक पहुंचा था। अब मंटो के जीवन पर एक बायोपिक फिल्म रिलीज होने जा रही है। एक खबर :

“मंटो” एक ऐसे लेखक की जिंदगी पर बनी फिल्म है जिसने बंटवारे की भीषण तस्वीर को अपनी कहानियों के ज़रिये दुनिया के सामने लाने का साहस किया था। इस फिल्म के ट्रेलर को देश की आज़ादी के 72वें वर्षगांठ यानी 15 अगस्त 2018 को रिलीज़ किया गया। यूट्यूब पर इस ट्रेलर को बहुत पसंद किया जा रहा है।

सआदत हसन मंटो बंटवारे के समय के लेखक रहे। उन्होंने अपने लिखे को अपनी सोच से तरह पिरोया था कि सब सोचने पर मजबूर हो गए। हालांकि उनकी कई कहानियों पर ‘अश्लील’ होने का आरोप लगाकर मुकदमा भी चलाया गया, लेकिन वे साबित नहीं किये जा सके।

सआदत हसन मंटो पर बनी फिल्म का पोस्टर (दायें) व फिल्म की निर्देशक नंदिता दास अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी और अभिनेत्री रासिका दुगल के साथ

इस फिल्म के ट्रेलर को दो ही दिन में 40 लाख से ज्यादा लोग देख चुके है। मंटो के किरदार में नवाज़ुद्दीन अपनी संवाद शैली से सबका दिल जीत रहे हैं । ट्रेलर में मंटो के जीवन और बंटवारे के दर्द को बयान किया गया है। फिल्म में उन लम्हों को दिखाने की कोशिश की गयी है जब एक धर्म के लोग दूसरे धर्म के खून के प्यासे हुए जा रहे थे।

‘मंटो’ को बहुत जल्द सिनेमा घरों में भी रिलीज़ किया जाएगा। बस अब देखने वाली बात यह है कि अपनी कहानियों से सबके दिलों पर छा जाने वाले मंटो पर बनी यह फिल्म दर्शकों के दिलों पर राज कर पाती हैं या नहीं।

(कॉपी संपादन : एफपी डेस्क)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply