कार्टूनों में गांधी : रावण से लेकर महात्मा और मजबूर इंसान तक

गांधी से जुड़ा इतिहास क्या वही इतिहास है जिसे आज परोसा जा रहा है? कार्टून बताते हैं कि गांधी केवल झाड़ू, आश्रम, गोल चश्मे और फकीरी तक सीमित नहीं थे

मोहनदास करमचंद गांधी (2 अक्टूबर 1869 – 30 जनवरी 1948)

देश और दुनिया के कई संग्रहालय गांधी और गांधी से संबंधित छाया-चित्रों, वीडियो, ऑडियो, मूर्तियों और गांधी की दिनचर्या से संबंधित वस्तुओं से भरे पड़े हैं। परंतु, शायद ही किसी संग्रहालय में गांधी से संबंधित कॉर्टूनों काे संरक्षित किया गया है। गांधी के कॉर्टूनों की प्रदर्शनी भी आज तक मैंने कभी देखी नहीं है। हां, सुना जरूर है कि सन 1997-98 में राजघाट पर ‘पंच पत्रिका’ द्वारा पत्रिका में आज़ादी के दौरान गांधी से संबंधित छपे कार्टूनों की प्रदर्शनी लगाई गई थी। भूले-बिसरे कभी-कभी गांधी के किसी कार्टून पर कोई विवाद उत्पन्न होता है, तो यकायक गांधी इतिहास को महत्वपूर्ण बना जाते हैं।

ऐसा ही कुछ हुआ था, जब 1945 में नाथूराम गोडसे द्वारा सम्पादित मराठी पत्रिका ‘अग्रणी’ में गांधी जी का एक कार्टून विवादों में छा गया था, जिसमें गांधी को रावण के रूप में दिखाया गया था। आज गांधी को महात्मा बनाने की प्रक्रिया और अधिक तीव्र होती जा रही है। गांधी को उनकी राजनीति और गांधी नामक विषय-वस्तु से निकालकर उन्हें आश्रम, झाड़ू, गोल चश्मे और उनकी फकीरी तक सीमित करने का अथक प्रयास जारी है।

अमेरिकी पत्रिका ‘द लाइफ’ में प्रकाशित गांधी पर केंद्रित कुछ कार्टून

इतिहास ने गांधी के साथ जो इस कदर अन्याय किया है वो हमारे इतिहास की नहीं, बल्कि हमारे इतिहास लेखन की समस्या है। ज्यादातर इतिहास लेखन की प्रक्रिया इतिहास को व्यक्ति और व्यक्ति-विशेष द्वारा किए गए कार्यों तक सीमित करने का दावा करती है। फिर चाहे बुद्ध हों या मार्क्स या फिर गांधी ही क्यूं न हों। गांधी की विडम्बना तो इस कदर अपेक्षित है कि गांधी के विरोधी भी गांधी को महात्मा और उनके चश्मे को राष्ट्रीय सम्मान के साथ जोड़ चुके हैं। ऐसे समय में कार्टून एक वैकल्पिक इतिहास बन सकता है जो इतिहास में व्यक्ति को व्यक्ति विशेष के रूप में नहीं, बल्कि व्यक्ति को विचार और विषयवस्तु के रूप में सम्प्रेषित करने का प्रयास करता है।

नमक सत्याग्रह के दौरान एक कार्टून में गांधी और लार्ड इरविन

कार्टूनों की यही विशेषता हमें गांधी को फिर से एक विषय-वस्तु के रूप में पेश करने में मदद कर सकती है। गांधी के दौर के कार्टूनों ने न सिर्फ गांधी को सहलाने, बहलाने, फुसलाने, गुदगुदाने का प्रयास किया था; बल्कि इतिहास लेखन को उकसाने के लिए ढेर सारी सामग्री अपने पीछे छोड़ दी थी। परंतु, अफसोस है कि इतिहास ने इन कार्टूनों को न तो किताबों में उचित स्थान दिया, न  संग्रहालयों या प्रदर्शनी-कक्षों में इन कॉर्टूनों को कोई कोना मिला। कुछ किताबों ने गांधी के कुछ कार्टूनों को ‘गांधी इन कार्टून’ आदि जैसे शीर्षकों से संकलित कर किसी कोने में डाल दिया है; ताकि इतिहास, इतिहास लेखन और गांधी में दिलचस्पी रखने वालों से सवाल न कर पाए।

गांधी के समसामयिक कार्टूनों के दौर में कार्टूनिस्टों ने मोहनदास के साथ-साथ गांधी, गांधी जी, बापू और महात्मा पर भी अपना हाथ जमकर आजमाया। ये सारे कार्टून देश और दुनिया के प्रसिद्ध कई पत्र-पत्रिकाओं में छपे थे। गांधी को उनके दौर में प्रचलित जिन अलग-अलग सोचों और विचारधाराओं के आईनों ने अपने ऊपर उकेरा, उनमें गांधी को न सिर्फ ठग, बेवकूफ और तानाशाह के रूप में दिखाया गया, बल्कि रावण भी कहा गया और ईश्वर का अवतार भी माना गया। गांधी के अहिंसात्मक आंदोलन की विधियों से असहमति रखने और उसके विपरीत कार्य करने वालों में भारतीय सह-आंदोलनकर्मी भी थे और उनके अहिंसात्मक आंदोलन की विधियों को गांधी के ही खिलाफ उपयोग करने वालों में अंग्रेज़ भी थे।

1945 में नाथूराम गोडसे द्वारा संपादित पत्रिका अग्रणी में प्रकाशित कार्टून में गांधी को रावण की उपमा दी गई है

गांधी के इन कार्टूनों में से एक कार्टून में गांधी को 1930 के दौर का सर्वाधिक ताकतवर और प्रभावशाली व्यक्तित्व वाला दर्शाया गया, तो वहीं 1940 के दशक में गांधी को ज्यादातर कार्टूनों में शक्ति-विहीन, असहाय और लाचार दिखाया गया है।

असहयोग आंदोलन के दौरान 1921 में ‘जन्मभूमि’ पत्रिका में ‘द एक्स्क्यूज़िंग रॉबर नाम से छपे एक कार्टून में गांधी को औपनिवेशिक ताकतों द्वारा ठग कहकर भी संबोधित किया जा रहा है। 1920 का दशक खत्म होते-होते गांधी से संबंधित कार्टूनों में औपनिवेशिक शासकों को गांधी के सामने लाचार प्रतीत होता दिखाया गया है। वहीं 1930 के दशक में गांधी और गांधी के मूल्यों को युवा भारत से मिल रही ताकतवर चुनौती भी कई कार्टूनों में खुलकर उभरी थी। ऐसा ही एक शंकर द्वारा बनाया गया कार्टून है, जो 17 फरवरी 1933 में हिंदुस्तान टाइम्स अखबार में छपा था, जिसमें जातिवादी गांधी को आंबेडकर और पेरियार से चुनौती मिलती दिखाई गई है। जिस तरह से आज भी विभिन्न तबके के लोग अपनी-अपनी सहूलियत और जरूरत के अनुसार गांधी और गांधीवाद का विश्लेषण कर उसका उपयोग अपनी सोच और अपने कृत्यों को उचित सिद्ध करने के लिए करते हैं; ठीक उसी प्रकार गांधी के दौर में भी भिन्न-भिन्न विचार रखने वाले लोग गांधी का नाम लेकर गांधी के मूल्यों के ठीक विपरीत कार्य करते थे। इसी पक्ष को उजागर करता एक कार्टून ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ के दौरान ‘द पायनियर’ अखबार में छपा, जिसमें गांधी और शांति का प्रतीक साथ लिए कुछ लोग अंग्रेजी शासन को धमकी भरे अंदाज में उनसे स्वराज की मांग कर रहे हैं और अंग्रेजों को चौरी-चौरा घटना को याद रखने की नसीहत दे रहे हैं, जिसमें गांधी जी द्वारा चलाए गए असहयोग आंदोलन (1920-1922) के दौरान कुछ भारतीय प्रदर्शनकारियों की उग्र भीड़ ने एक थाने को आग लगा दी थी और दर्जनों अंग्रेजी पुलिस के सिपाही को जिंदा जला दिया गया था।

यूरोपीय मीडिया की नजर में गांधी

गांधी कोई हमसे परे नहीं थे। वे भी अपना सिर खुजाते थे, जब उन्हें कोई दानदाता (फंडर) उनके आंदोलन के स्वरूप और चरखा-खादी से असहमति जताते हुए फंड देने से मना करता था। वह भी असहज महसूस करते थे, जब 1930 के दशक में भारतीय आंदोलन में अपनी पैठ बनाने वाले नेहरू, भगत सिंह, आंबेडकर और सुभाष जैसा युवा वर्ग गांधी से मतभेद को बखूबी खुलेआम रखता था। हालांकि, यह वही 1930 का दशक है, जब गांधी अपने राजनीतिक जीवनकाल में सर्वाधिक ताकतवर नेता के रूप में कई कार्टूनों में उकेरे जाते हैं। ऐसा ही एक कार्टून है और एक रिपोर्ट है, जिसमें गांधी को तानाशाह के रूप दिखाया गया है।

वर्णाश्रम को संरक्षित करते गांधी और प्रहार करते आंबेडकर

वहीं एक अन्य कार्टून में यह दर्शाने की कोशिश की गई है कि कैसे अंग्रेज किसी भी हालत में गांधी को गिरफ्तार नहीं करना चाहते थे, पर गांधी उन्हें मजबूर कर देते हैं अपनी गिरफ्तारी करने के लिए। वहीं एक अन्य कार्टून में यह दर्शाया गया है कि गांधी का व्यक्तित्व 1930 के दशक में इतना प्रभावशाली हो गया था कि जब अंग्रेज गांधी को जेल में डालते हैं, तो जेल के बाहर हजारों गांधी पैदा हो जाते हैं। 1930 का दशक आते-आते तो गांधी की आंदोलन की अहिंसक विधि ‘भूख हड़ताल’ इतनी प्रभावकारी हो चुकी थी कि 1932 के एक कार्टून में यह दिखाया गया कि कैसे गांधी को मनाने के लिए भारत के वायसराय वेलिंग्टन खुद भूख हड़ताल पर चले जाते हैं।

भारत-पाक विभाजन और मजबूर गांधी को प्रदर्शित करता एक कार्टून

लेकिन गांधी हमेशा इतने प्रभावशाली नहीं रह पाते हैं। गांधी विभाजन के दौरान अपने आपको असहाय महसूस कर रहे थे, जिसे उस दौर के कार्टूनों ने बखूबी उकेरा है। एक अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट में 1947 में छपे एक कार्टून की मानें तो हिंदुस्तान में विभाजन के दौर में उत्पन्न अराजकता के लिए गांधी जिम्मेदार थे। 20 मई 1947 को ‘फ्री इंडिया’ नामक पत्रिका में गांधी को भारत के विभाजन के दौरान मूक-दर्शक के रूप में दिखाया है। 1942 की अमेरिकी पत्रिका ‘द लाइफ’ के मुताबिक तो ज्यादातर अमेरिकी अखबार गांधी को या तो बेवकूफ समझते थे या नमक-हराम।

बहरहाल, इतिहास लेखन महत्वपूर्ण इसलिए नहीं है कि यह ऐतिहासिक तथ्यों को सही और गलत निर्धारित करने का दावा करता है, बल्कि इतिहास वस्तुतः उक्त ऐतिहासिक दौर में किसी एक विषयवस्तु पर उस दौर में विद्यमान अलग-अलग विचारों को वर्णित करता है और इतिहास की जटिलताओं को उभारकर सामने लाता है। गांधी को वर्तमान न सही, पर कम-से-कम एक वैकल्पिक और जनवादी इतिहास तो नसीब हो; जिसे जानने और समझने के लिए अंग्रेजी, हिंदी या किसी प्रकार की कोई भाषा आवश्यक न हो; जिसे अनपढ़, मूक-बधिर सभी समान रूप से पढ़ने और समझने में सक्षम हों। और इसके लिए कार्टून से बेहतर कौन-सी भाषा हो सकती है?

(लेख में शामिल कार्टून https://www.gandhiheritageportal.org; http://www.gandhimedia.org; https://gandhi.gov.in और https://www.gandhiserve.net से साभार लिए गए हैं)

(कॉपी संपादन : प्रेम बरेलवी/एफपी डेस्क)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

One Response

  1. Sanjeev Kumar Reply

Reply

Leave a Reply to Sanjeev Kumar Cancel reply