author

Vishad Kumar

आदिवासियों के संघर्षों का यादगार है नवंबर का महीना
नवंबर का महीना झारखंड के आदिवासियों के लिए यादगार महीना है। बिरसा मुंडा के जन्म से लेकर सीएनटी...
दुर्गा की प्रतिमा हमारे चंदे से, फिर हम अछूत कैसे? पूछ रहे हैं झारखंड के कोरवा जनजाति के सदस्य
झारखंड के गढ़वा जिले के सुदूर पाल्हे नामक गांव में कोरवा आदिम जनजाति के पांच युवकों के साथ...
Kurmis of Jharkhand, Bengal and Odisha demand ST status
The agitation by the Kurmis has picked up pace since 14 September 2022, when the Union Cabinet gave...
आदिवासी दर्जा चाहते हैं झारखंड, बंगाल और उड़ीसा के कुर्मी
कुर्मी जाति के लोगों का यह आंदोलन गत 14 सितंबर, 2022 के बाद तेज हुआ। इस दिन केंद्रीय...
नेतरहाट फील्ड फायरिंग रेंज प्रकरण : हेमंत के अगले कदम का इंतजार
केंद्रीय संघर्ष समिति, लातेहार-गुमला के सचिव जेरोम जेराल्ड कुजूर का कहना है कि मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणा...
आंखन-देखी : झारखंड में ‘हर घर तिरंगा’ का हाल
विशद कुमार बता रहे हैं झारखंड के बुनियादी सुविधाओं से विहीन दुमका जिले के एक गांव निझोर की...
More posts