श्रमिक संगठनों ने श्रम सुधारों का विरोध किया

2 दिसम्बर को देश भर से आये लगभग 15 हजार मजदूरों और अधिकार कार्यकार्ताओं ने ‘अबकी बार हमारा आधिकार’ बैनर के तहत रैली और सभा की

नई दिल्ली : 2 दिसम्बर को देश भर से आये लगभग 15 हजार मजदूरों और अधिकार कार्यकार्ताओं ने ‘अबकी बार हमारा आधिकार’ बैनर के तहत रैली और सभा की। महात्मा गांधी रोजगार गारंटी क़ानून में भाजपा सरकार द्वारा की जा रही छेड़छाड़, श्रम क़ानूनों में सुधार के नाम पर छीने जा रहे अधिकार और शिक्षा के अधिकार क़ानून में बदलाव सहित कई मुद्दों को लेकर अलग-अलग जनसंगठनों ने इस रैली की अगुआई की। रैली का नेतृत्व अरुणा राय, मेधा पाटेकर व निखिल डे ने किया। इनके अलावा सभा को एनएफआईडब्लू की एनी राजा, ऐपवा की कविता कृष्णन, राज्यसभा सांसदो – डी राजा, सीपीआई, अली अनवर, जदयू, मणिशंकर अय्यर, कांग्रेस और अन्य नेताओं ने भी संबोधित किया। विभिन्न जन संगठनों के प्रतिनिधियों ने इस त्रिदिवसीय, 30 नवम्बर से 2 दिसंबर तक आयोजन में झंडेवालान स्थित आंबेडकर भवन में दो दिनों तक कार्यशाला का आयोजन किया और तीसरे दिन जंतरमंतर पर रैली और सभा की।

 

(फारवर्ड प्रेस के जनवरी, 2015 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

About The Author

Reply