h n

घर बैठे खरीदें फारवर्ड प्रेस की किताबें

फारवर्ड प्रेस बहुजन साहित्य, संस्कृति और समाज पर केंद्रित हिंदी और अंग्रेजी पुस्तकों का प्रकाशन करता है

फारवर्ड प्रेस बहुजन साहित्य, संस्कृति और समाज पर केंद्रित हिंदी और अंग्रेजी पुस्तकों का प्रकाशन करता है। इसकी किताबों को अकादमिक क्षेत्र में काफी सराहा और भारत के ग्रामीण एवं सुदूर इलाकों में भी आम लोगों के बीच काफी पसंद किया गया है।

एफपी बुक्स का प्रकाशन जून, 2016 में आरंभ हुआ था। अब तक 20 किताबें प्रकाशित हुईं हैं। इन पुस्तकों की लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इतने कम अंतराल में ही कुछ पुस्तकों के अनेक संस्करण प्रकाशित हो चुके हैं।

ये किताबें भारत की अब तक की मूक आबादी की आवाज हैं और दबे-कुचले लोगों के संघर्ष का रास्ता। इसके केंद्र में हैं– आदिवासी, दलित और पिछड़े।

इन्हें आप अमेजन, फ्लिपकार्ट और किंडल से भी खरीद सकते हैं। अधिक संख्या में आर्डर करने के लिए मोबाइल नंबर 7827427311 पर संपर्क करें। किताबें आर्डर करने के लिए चार्ट में दिये गये किताबों के नाम और मूल्य पर क्लिक कर सकते हैं।

BookHardback
(Rs)
Paperback
(Rs)
Kindle (e-Book) Rs
कबीर और कबीरपंथ
- 200/--
आंबेडकर की नजर में गांधी और गांधीवाद
400/-

200/--
गुलामगिरी
400/-

220/--
हिंदू धर्म की पहेलियां : बहुजनो! जानो ब्राह्मणवाद का सच

400/-
200/--
भारतीय कार्यपालिका में सामाजिक न्याय का संघर्ष : अनकही कहानी, पी. एस. कृष्णन की जुबानी- 350/-

-
प्रेमचंद की बहुजन कहानियाँ (Hindi)- 200/--
ई.वी. रामासामी पेरियार : दर्शन-चिंतन और सच्ची रामायण (Hindi) 400/- 200/-100/-
दलित पैंथर: एक आधिकारिक इतिहास (Hindi) 500/- 250/-100/-
मदर इंडिया (Hindi) 850/- 350/-100/-
The Case for Bahujan Literature (English) 300/- 150/- 100/-
बहुजन साहित्य की प्रस्तावना (Hindi) 300/- 150/- 100/-
Mahishasur : A People's Hero (English) 300/- 150/ 100/-
महिषासुर : एक जननायक 300/- 150/- 100/-
चिंतन के जनसरोकार (Hindi) 300/- 150/- 100/-
The Common Man Speaks Out (English) 300/- 150/- 100/-
Dalit Panthers: An Authoritative History (English) 500/- 250/- 150/-
जाति के प्रश्न पर कबीर (Hindi) 400/- 165/- 150/-
महिषासुर : मिथक एवं परंपराएं (Hindi) 850/- 350/- 250/-
जाति का विनाश (Hindi) 400/- 220/-100/-

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

गुलामगिरी : सामाजिक न्याय का आधार ग्रंथ
सरकारी विभागों में भटों के वर्चस्व को समाप्त करने के लिए तथा शूद्रों के प्रतिनिधित्व को स्थापित करने के लिए फुले के द्वारा सुझाये...
जोतीराव फुले की नजर में दीपावली और भैयादूज
जोतीराव फुले के मुताबिक, बाणासुर ने अपने युद्ध में जीते हुए सारे धन को गिनकर आश्विन मास के कृष्ण पक्ष के तेरहवें दिन उसकी...
‘गैर-भारतीय इतिहासकारों ने ही लिखा है बहुजन आंदोलनों का इतिहास’
एक गैर-भारतीय की पद्धति क्या है? गैर-भारतीय काम करता है किसी भारतीय व्यक्तित्व पर या भारतीय समाज पर तो वह कैसे काम करता है—...
कबीर का इतिहासपरक निरपेक्ष मूल्यांकन करती किताब
आमतौर पर हिंदी में कबीर के संबंध में उनके पदों का पाठ उनकी व्याख्या और कबीर के काव्य में सामाजिकता जैसे शीर्षक पर साहित्य...
‘अगर हमारे सपने के केंद्र में मानव जाति के लिए प्रेम है, तो हमारा व्यवहार भी ऐसा होना चाहिए’
गेल ऑम्वेट गांव-गांव जाकर शोध करती थीं, उससे जो तथ्य इकट्ठा होता था, वह बहुत व्यापक था और बहुत लोगों से जुड़ा होता था।...