केंद्रीय विश्वविद्यालय कर्मियों को मिलेगी और मोटी तनख़ाह

केंद्रीय शिक्षा संस्थानों में कार्यरत शिक्षकों को समान्यतः 80 हजार रुपये से लेकर 2.25 लाख रुपये प्रतिमाह वेतन मिलता है। सातवें वेतन आयोग द्वारा प्रस्तावित भत्ते मिलने के बाद इसमें और बढ़ोत्तरी होगी

केंद्रीय उच्च शिक्षा संस्थानों में कार्यरत प्राध्यापकों और कर्मचारियों को मोटी रकम वेतन के रूप मिलेगी। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि विश्वविद्यालय कर्मियों के भत्ते में बढ़ोत्तरी का मामला अंतिम चरण में है। गौरतलब है कि उन्हें सातवें वेतन आयोग के अनुरूप भत्ता दिया जाना है।

एक हिंदी दैनिक से बातचीत में मंत्री ने कहा कि इसे जल्द ही कैबिनेट को भेज दिया जाएगा। विश्वविद्यालय कर्मियों की मांग रही है कि केंद्र सरकार के अन्य कर्मचारी जहां सातवें वेतन आयोग के अनुरूप भत्ता पा रहे हैं, वहीं उन्हें अब भी छठे वेतन आयोग का एचआरए और टीए मिल रहा है, इसमें शीघ्र बढ़ोत्तरी होनी चाहिए।

प्रकाश जावड़ेकर

ध्यातव्य है कि केंद्रीय शिक्षा संस्थानों में कार्यरत शिक्षकों को समान्यतः 80 हजार रुपये (असिस्टेंट प्रोफेसर) से लेकर 2.25 लाख रुपये (प्रोफेसर) प्रतिमाह वेतन मिलता है।

अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय द्वारा वर्ष 2018 में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में विभिन्न क्षेत्रों में नियमित तौर पर नियुक्त 57 प्रतिशत कर्मचारियों का वेतन 10,000 रुपये प्रति माह से कम है। जबकि भारत की कुल आबादी के लगभग 22 फीसदी हिस्से की आय 3 हजार रुपये प्रतिमाह से कम है।

(कॉपी संपादन : अर्चना)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply