author

Swadesh Kumar Sinha

परिणाम बदल सकता है गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र में पिछड़ा बनाम अगड़ा का नॅरेटिव
गोरखपुर में पिछड़े और दलित मतदाताओं की संख्या सबसे ज़्यादा है। एक अनुमान के मुताबिक़ यहां पर क़रीब...
उत्तर प्रदेश : बांसगांव में मायावती ने फिर दिया श्रवण निराला को ऐन मौके पर धोखा
निराला बताते हैं कि इस चुनाव में बांसगांव से टिकट देने के लिए मायावती ने उन्हें आश्वस्त किया...
बीएचयू में मनुस्मृति पर शोध कराए जाने का विरोध जारी
भगत सिंह स्टूडेंट्स मोर्चा के सदस्यों का आरोप है कि सत्ता में बैठे लोगों ने ब्राह्मणवाद को सर्वश्रेष्ठ...
पिछले पांच वर्षों में रोज औसतन 7 एससी, एसटी और ओबीसी छात्र छोड़ रहे हैं उच्च शिक्षा
केंद्र सरकार ने यह नहीं बताया कि दलित-बहुजन समाज के छात्र-छात्राओं को पढ़ाई क्यों छोड़नी पड़ी है। जाहिर...
सांप्रदायिक व जातिगत सियासत का दंश झेल रहे गोरखपुर के बुनकर
हथकरघा उद्योग इस समूचे इलाक़े के लाखों लोगों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार देता है। इसके...
आत्मकथ्य : बौद्धधर्म से समाजवाद तक की यात्रा (दूसरा भाग)
पूर्वी उत्तर प्रदेश में माफिया गैंगवार, जिसे ब्राह्मण-ठाकुर के बीच संघर्ष का नाम दिया जाता है, इसकी शुरुआत...
हिंदी प्रदेशों में जाति उन्मूलक सांस्कृतिक आंदोलन आवश्यक
बहुजन आंदोलन के संदर्भ में उत्तर और दक्षिण के फ़र्क को देखना पड़ेगा। आज उत्तर भारत हिंदूवादी फासीवादियों...
हरिशंकर परसाई : विचारधाराओं को कसौटी पर कसनेवाले व्यंग्यकार
हरिशंकर परसाई के लेखन का कैनवास बहुत बड़ा था। विचारों से वे वामपंथी थे, लेकिन जब वे सामाजिक-राजनीतिक...
और आलेख