author

Anamika Das

शैक्षणिक बैरभाव मिटाने में कारगर हो सकते हैं के. बालगोपाल के विचार
अपने लेखन में बालगोपाल ने ‘यूनिवर्सल’ (सार्वभौमिक या सार्वत्रिक) की परिकल्पना की जो पुनर्विवेचना की है, उसे हम...
How can late K. Balagopal’s learnings on the ground benefit academia today
In his writings, Balagopal has revisited the concept of ‘universal’ in a way which I believe, can be...