मायावती ने दिल्ली में फूंका चुनावी बिगुल

सत्ताधारी कांग्रेस व विपक्षी दल भाजपा ने नवंबर, 2013 में होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनावों में जीत के अपने-अपने समीकरण बनाने शुरू कर दिए हैं। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने भी चुनाव के लिए जोर-शोर से पार्टी कार्यकर्ताओं को जमीनी स्तर पर कार्य करने को कहा है। क्या मायावती दिल्ली विधानसभा चुनाव के रास्ते केंद्र की सत्ता पाना चाहती हैं, या बसपा को राष्ट्रीय स्तर की पार्टी की छवि बनाने की तैयारी में लगी हैं। जितेन्द्र कुमार ज्योति की रपट।

दिल्ली विधानसभा चुनाव नवंबर, 2013 में होंगे। लेकिन चुनावी बिसात बिछनी शुरू हो गई है। बयानबाजी का दौर भी शुरू हो चुका है। दिल्ली विधानसभा में कुल 69 सीटें हैं, जिसमें 57 विधानसभा क्षेत्र सामान्य हैं और 12 अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं। पिछले विधानसभा चुनाव 2008 में कांग्रेस को 42, भाजपा को 23 बसपा को 2 एवं अन्य को 2 सीटें मिली थीं।

दिल्ली की राजनीति में विकास के साथ-साथ जाति व समुदाय भी अहम मुद्दे हैं। शीला दीक्षित जमीनी तौर पर काफी मजबूत हैं, इसमें दो राय नहीं। भाजपा के पास उनके मुकाबले कोई चेहरा नहीं है। हिमाचल की जीत से कांग्रेस उत्साहित है तो गुजरात की जीत से भाजपा भी उत्साह से लबरेज है। ऐसे में मायावती की बहुजन समाज पार्टी दिल्ली में अपनी धमक नए अंदाज में करना चाहती हैं। मायावती ने पदोन्नति में आरक्षण के मुददे को उठाकर अनूसूचित जातियों/जनजातियों को स्पष्ट सामाजिक-राजनीतिक संदेश दिया है।

मायावती ने दिल्ली विधानसभा चुनाव 2013 के लिए जमीनी आधार पर जोर-शोर से चुनावी तैयारी करने की घोषणा की है। चुनाव को लेकर बसपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष ब्रह्मसिंह का कहना है कि उनकी पार्टी आनेवाले विधानसभा चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है। बहन मायावतीजी के आदेशानुसार हम चुनाव में सभी सीटों पर दावेदारी पेश करेंगे। सवाल अब यह है कि क्या मायावती की पार्टी कांग्रेस और भाजपा का विकल्प बन सकेगी या दिल्ली के रास्ते मायावती पार्टी को राष्ट्रीय स्तर पर निखारना चाहती हैं। कई ऐसे कारक हैं जो बसपा की दिल्ली विधानसभा में सीटों की वर्तमान संख्या में इजाफा करवा सकते हैं। विधानसभा में अनूसूचित जाति कोटे की कुल 12 सीटें हैं और यह सच्चाई है कि आरक्षण के मुददे पर मायावती ने जो तेवर अख्तियार किए थे, उन्हें पूरे देश की जनता ने देखा था। एक और है पूर्वांचल के लोगों के मत। बहरहाल, आनेवाले विधानसभा चुनाव में बसपा किंगमेकर के रूप में उभरती है या राष्ट्रीय स्तर की छवि वाली पार्टी के रूप में यह विधानसभा चुनाव के परिणाम से ही पता चल पाएगा।

(फारवर्ड प्रेस के मार्च 2013 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

About The Author

Reply