दलित स्त्री विमर्श का जन्म

हिन्दी साहित्य के इतिहास में दलितों, स्त्रियों एवं आदिवासियों के अमूल्य योगदान सब पर एक चुप्पी छाई हुई थी। इस अनुपस्थिति और अपने अस्तित्व, अस्मिता और श्रम का अवमूल्यन होते देख आज सचेत दलितों, स्त्रियों तथा आदिवासियों ने साहित्य में अपनी उपस्थिति और स्थान के लिए संघर्ष करना शुरू कर दिया है

कोई भी विमर्श हवा में नहीं उठ खड़ा होता है, उसके जन्म लेने के पीछे कारण होते हैं। जैसे कि, हिंदी साहित्य के इतिहास में भक्ति आन्दोलन या फिर प्रगतिशील आन्दोलन का उदय। उनके लिए परिस्थितियां पहले से ही जन्म ले रही होती हैं। आज हिन्दी साहित्य में दलित और स्त्री विमर्श के स्वर सुनाई पड़ रहे हैं तो इसके पीछे सदियों के शोषण का इतिहास है और प्रतिरोध की इस आवाज ने उत्पीडऩ की दास्तान को केन्द्र में ला खड़ा किया है, जिसे अब तक मुख्यधारा के साहित्य ने अनदेखा किया था।

दलित स्त्री विमर्श भी इसी का एक अहम् हिस्सा है, जिसकी सवर्ण साहित्य का स्त्री विमर्श और दलित पुरुषों का दलित विमर्श भी एक तरह से अनदेखी कर रहा था। हिन्दी साहित्य के इतिहास में दलितों, स्त्रियों एवं आदिवासियों के अमूल्य योगदान-सब पर एक चुप्पी छाई हुई थी। इस अनुपस्थिति और अपने अस्तित्व, अस्मिता और श्रम का अवमूल्यन होते देख आज सचेत दलितों, स्त्रियों तथा आदिवासियों ने साहित्य में अपनी उपस्थिति और स्थान के लिए संघर्ष करना शुरू कर दिया है। यही कारण है कि दलितों में दलित यानी दलित स्त्री भी समाज और साहित्य में अपना स्थान निर्धारित करने के लिए आंदोलन कर रही है। दलित महिलाएं अपनी लेखनी के माध्यम से अपने मुद्दों को साहित्य के केन्द्र में ला रही हैं।

दलित स्त्री आन्दोलन और उसके मुद्दों को लेकर जो सशक्त और क्रांतिकारी लेखन किया जा रहा है उसमें अनिता भारती का नाम प्रमुख रूप से लिया जा सकता है। अभी हाल में प्रकाशित उनकी पुस्तक ‘समकालीन नारीवाद और दलित स्त्री का प्रतिरोध’ सवर्ण स्त्री और पुरुष लेखन के साथ-साथ सामान्य दलित लेखन का एक जोरदार और क्रांतिकारी प्रतिकार है, यह उस साहित्य और लेखन की तरफ भी हमारा ध्यान आकर्षित करती है, जिसमें अभी तक दलित स्त्री के प्रश्न, मुद्दे और उसकी अस्मिता तथा अस्तित्व एक सिरे से नदारद थे। यह पुस्तक पितृसत्तात्मक व्यवस्था को चुनौती देती है, भले ही वह सवर्ण पुरुष की हो या फिर दलित पुरुष की। दलित साहित्य में जिस तरह की राजनीति और गुटबाजी मनुवादी दलित पनपा रहे हैं उनके खिलाफ भी यह पुस्तक समस्त दलित स्त्री समाज को लामबद्ध करती है और कहती है कि हमें अब ऐसे मनुवादियों से सजग रहने के साथ-साथ उन्हें जवाब भी देना होगा।

अगर हम मान भी लें कि स्त्रियां आजाद हैं तो वो कौन सी स्त्रियां हैं ? क्या समूचा स्त्री वर्ग स्वतंत्र और बेखौफ है? उत्तर साफ है, नहीं। दलितों में दलित माने जाने वाला तबका है दलित स्त्री समाज, जिसे अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता नहीं है। अगर वो निडर होकर अपनी बात जनता के समक्ष रखती हैं तो परिणाम क्या होता है- उन्हें सरेआम बेइज्जत किया जाता है, उनसे बलात्कार किया जाता है, उन्हें प्रताडऩाएं सहनी पड़ती हैं और उन्हें धमकियां सुननी पड़ती हैं। जब अनिता भारती जैसी ईमानदार और साहसी दलित लेखिका की पुस्तक आती है तब उन्हें भी धमकियां दी जाती हैं। सबसे हैरानी कि बात तो यह है कि यह न सिर्फ गैर-दलित लेखकों की धमकियां होती हैं बल्कि इनमें धर्मवीर जैसे तथाकथित दलित चिंतक भी शामिल होते हैं। हकीकत तो यह है कि सवर्ण पुरुष लेखन हो या स्त्री लेखन या फिर सामान्य दलित लेखन, सबने उसे छला है। वोट की राजनीति कर रहे ये लेखक केवल सहानुभूति जता के आम दलित जनता के हाथों में झुनझुना पकड़ा देना चाहते हैं कि तुम झुनझुना बजाते रहो बाकी पूरे साहित्य और देश की कमान हम संभाल लेंगे। हम लिखेंगे तुम्हारा साहित्य। तुम्हारे दुख, पीड़ा, अपमान सबको साहित्य में हम जगह देंगे। अनिता भारती की यह पुस्तक यहीं महत्वपूर्ण हो जाती है और हमें आगाह करती है कि दलित स्त्री समाज को इस साजिश को समझना होगा। ऐसे सवर्ण मनुवादी पितृसत्तात्मक व्यवस्था को धराशायी करना होगा जो बाबासाहेब आम्बेडकर के सपनों और उनके उद्देश्यों पर पानी फेरना चाहते हैं। दलित स्त्री विमर्श सबको समग्रता में लेकर चलता है। अनिता भारती का लेखन समस्त दलित लेखन और दलित स्त्री लेखन के लिए एक बीजमंत्र है जो समाज में चाहे पिछड़े हों, शोषित-दलित हों सबको साथ लेकर चलने के लिए प्रतिबद्ध है।

पुस्तक : समकालीन नारीवाद और दलित स्त्री का प्रतिरोध
लेखक : अनिता भारती
प्रकाशक : स्वराज प्रकाशन, दरियागंज, नई दिल्ली
फोन : +91-9350544790
पेज : 325

(फारवर्ड प्रेस के सितम्बर 2014 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

‘महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

 

About The Author

Reply