भगवानदास मोरवाल की ‘नरक मसीहा’ लोकार्पित

‘किसी भी कथाकार की श्रेष्ठता उसकी कथा की संरचना व दृश्य चित्रण और संवाद प्रेषण में उसकी पटुता पर निर्भर करती है। ये तीनों ही विशेषताएं भगवानदास मोरवाल के उपन्यास ‘नरक मसीहा’ में हैं

पटना : ‘किसी भी कथाकार की श्रेष्ठता उसकी कथा की संरचना व दृश्य चित्रण और संवाद प्रेषण में उसकी पटुता पर निर्भर करती है। ये तीनों ही विशेषताएं भगवानदास मोरवाल के उपन्यास ‘नरक मसीहा’ में हैं। मोरवाल की कलम में बहुत ताकत है, बहुत शहजोर कलम है इनकी।’उक्त बातें हिंदी के प्रख्यात काव्यालोचक नंदकिशोर नवल ने पटना पुस्तक मेले में मोरवाल के नए उपन्यास ‘नरक मसीहा’ के लोकार्पण समारोह में अपने अध्यक्षीय संबोधन में कही। मेले के मुख्य मंच से 14 नवम्बर को अर्थशास्त्री शैवाल गुप्ता, नंदकिशोर नवल व उषाकिरण खान ने संयुक्त रूप से इस पुस्तक का लोकार्पण किया। सांस्कृतिक संगठन ‘बागडोर’ द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में अवधेश प्रीत, विनोद अनुपम, पूनम सिन्हा, फिरोज मंसूरी, पुष्पराज, जयप्रकाश, विनीत, अनीश अंकुर आदि लेखक-संस्कृतिकर्मी उपस्थित थे।

 

(फारवर्ड प्रेस के जनवरी, 2015 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

About The Author

Reply