h n

भागवत बनाम मुलायम : राष्ट्रपति के रेस में

यदि भागवत के नाम पर मुहर लगती है तो एक बार फ़िर एक ब्राह्मण के बाद दूसरे ब्राह्म्ण की ताजपोशी मुमकिन है। जबकि उपराष्ट्रपति पद के लिए एक आदिवासी चेहरे की तलाश की जा रही है

एक बार फ़िर से देश के सर्वोच्च पद को लेकर राजनीतिक बिसात बिछ चुकी है। अगले राष्ट्रपति का चुनाव 17 जुलाई को होगा और मतगणना 20 जुलाई को होगी। देश के 13वें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को होगा। उपराष्ट्रपति का कार्यकाल अगस्त के अंत में समाप्त हो रहा है। हालांकि इस बार की राजनीतिक लड़ाई का सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह है कि दलित और पिछड़ा वर्ग केंद्रीय भूमिका में है। केंद्र में सत्तासीन एनडीए के अंदर भी इस बार किसी गैर ब्राह्म्ण को राष्ट्रपति बनाये जाने की मांग उठ रही है। जबकि विपक्ष भी दलित और ओबीसी को ध्यान में रखकर मोहरे चलने की फ़िराक में है।

इसके बावजूद सूत्रों की मानें तो भाजपा और उनके सहयोगी घटक दल मोहन भागवत के नाम पर मुहर लगाने को तैयार हैं। इसके लिए मोदी-शाह की जोड़ी ने तीन सदस्यों की कमिटी का गठन किया है। हालांकि इसमें अन्य घटक दलों के नेताओं को बाहर रखा गया है। इसमें तीन केंद्रीय मंत्रियों राजनाथ सिंह, अरुण जेटली और वेंकैया नायडू शामिल हैं। ये तीनों नेता मोदी-शाह के अनुयायी होने के साथ आरएसएस के हार्डकोर सदस्य भी हैं।

उपराष्ट्रपति के रुप में एनडीए के लिए तुरुप का पत्ता साबित हो सकते हैं झारखंड के सबसे बुजुर्ग सांसद करिया मुंडा

इस प्रकार यदि भागवत के नाम पर मुहर लगती है तो एक बार फ़िर एक ब्राह्मण के बाद दूसरे ब्राह्म्ण की ताजपोशी मुमकिन है। जबकि उपराष्ट्रपति पद के लिए एक आदिवासी चेहरे की तलाश की जा रही है। सूत्रों के अनुसार इनमें झारखंड के खुंटी से सांसद करिया मुंडा भी रेस में सबसे आगे हैं। श्री मुंडा पूर्व में लोकसभा के उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक 18 जून तक भाजपा के तीन नेताओं की कमेटी अपना सुझाव देगी।

उधर विपक्षी पार्टियां 14 जून को चर्चा करने के लिए बैठक करेंगी। सूत्र बताते हैं कि विपक्षी खेमे में मुलायम सिंह यादव रेस में सबसे आगे हैं। वैसे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाधी ने जुलाई में होने जा रहे राष्ट्रपति चुनाव के लिए सभी विपक्षी दलों को एक साझा मंच पर लाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। सोनिया गांधी ने चुनाव पर चर्चा के मद्देनजर इस महीने की शुरुआत में विपक्षी पार्टियों के दस सदस्यीय उपसमूह का गठन किया था।

वामदलों की निगाह में महात्मा गांधी के प्रपौत्र गोपाल कृष्ण गांधी हैं राष्ट्रपति पद के सुयोग्य उम्मीदवार

विपक्षी पार्टियों के उपसमूह के सदस्यों की 14 जून को औपचारिक रूप से बैठक शुरू होगी और इस दौरान राष्ट्रपति एवं उपराष्ट्रपति चुनावों को लेकर चर्चा की जाएगी। इस उपसमूह में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और मल्लिकार्जुन खड़गे, जदयू नेता शरद यादव, राजद नेता लालू प्रसाद यादव, सीपी नेता सीताराम येचुरी, टीएमसी नेता डेरेक ओब्रायन, समाजवादी पार्टी के नेता रामगोपाल यादव, बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्रा, डीएमके नेता आर.एस.भारती और एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल हैं।

सोनिया गांधी के नेतृत्व में संपूर्ण विपक्ष एकजुटता की आस में

बहरहाल, इस पूरे राजनीतिक उठापटक के बीच संख्या बल से अलग सबसे महत्वपूर्ण यह है कि क्या विपक्ष इसी बहाने अपनी एकजुटता बना पायेगा। वजह यह है कि वामदल अभी से ही महात्मा गांधी के प्रपौत्र गोपाल कृष्ण गांधी के नाम का शोर मचा रहे हैं तो दूसरी ओर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अभी भी अपेक्षा है कि भाजपा अपनी ओर से राष्ट्रपति पद के लिए ऐसे उम्मीदवार की घोषणा करे जिनके नाम पर विपक्ष भी सहमत हो।


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

नवल किशोर कुमार

नवल किशोर कुमार फॉरवर्ड प्रेस के संपादक (हिन्दी) हैं।

संबंधित आलेख

ईडब्ल्यूएस आरक्षण लोकतांत्रिक संविधान में जातिगत भेदभाव का आगाज़ : प्रोफेसर जी. मोहन गोपाल (अंतिम भाग)
हाशियाकृत और प्रतिनिधित्व से वंचित सामाजिक समूहों की गोलबंद होने और सत्ता में अपना जायज़ हिस्सा मांगने की ताकत और क्षमता को समाप्त करना...
छत्तीसगढ़ : विरोध करती रह गई भाजपा, भूपेश सरकार ने कर दिया 76 फीसदी आरक्षण
विधेयक पर चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री ने जोर देते हुए कहा कि राज्य में जिस समुदाय की जितनी आबादी है, उसके हिसाब से ही...
बहस-तलब : राष्ट्रपति के अनकहे का निहितार्थ
छोटे-मोटे अपराधों के आरोपियों की जिंदगी बिना मुकदमा की सुनवाई के जेलों में खत्म हो जाती है और किसी को उनकी सुध भी नहीं...
ईडब्ल्यूएस आरक्षण लोकतांत्रिक संविधान में जातिगत भेदभाव का आगाज़: प्रोफेसर जी. मोहन गोपाल
हाशियाकृत और प्रतिनिधित्व से वंचित सामाजिक समूहों की गोलबंद होने और सत्ता में अपना जायज़ हिस्सा मांगने की ताकत और क्षमता को समाप्त करना...
बहस-तलब : कौन है श्वेता-श्रद्धा का गुनहगार?
डॉ. आंबेडकर ने यह बात कई बार कही कि जाति हमारी वैयक्तिकता का सम्मान नहीं करती और जिस समाज में वैयक्तिकता नहीं है, वह...