h n

मिर्चपुर के दलित विस्थापितों का शीघ्र होगा पुनर्वास: खट्टर

मिर्चपुर के दलित करीब पांच वर्षों से अपने गांव से दूर हरियाणा के हिसार में स्थित तंवर फ़ार्म हाउस रहने को मजबूर हैं। इस संबंध में केन्द्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास अठावले ने विशेष पहल किया। इसके आलोक में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का आश्वासन दलितों के लिए महत्वपूर्ण साबित होगा

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है उनकी सरकार जल्द ही करीब पांच वर्षों से विस्थापित मिर्चपुर के दलितों का पुनर्वास करेगी। इस संबंध में बीते 2 जून को देर शाम हरियाणा भवन, दिल्ली में

मिर्चपुर के दलितों की समस्याओं के बाबत हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर से मिलते केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास अठावले

सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास अठावले ने श्री खट्टर से मुलाकात की। इस मौके पर उन्होंने हरियाणा में दलितों के लिए विभिन्न योजनाओं और उनके साथ हुए विभिन्न हिंसक घटनाओं में हुए विस्थापन को देखते हुए पुनर्वास और मुआवाजे पर बातचीत की। उल्लेखनीय है कि हरियाणा के हिसार जिले के मिर्चपुर में 2011 में हिंसक घटनायें घटित हुई थीं। तबसे दर्जनों दलित परिवार पलायन कर हिसार में ही स्थित तंवर फार्म हाउस में रह रहे हैं।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने केंद्रीय राज्यमंत्री श्री अठावले को जानकारी दी कि मिर्चपुर के पीड़ितों को या तो किसी हाउसिंग प्लान के तहत पुनर्वास कराया जायेगा या पुनर्वास के लिए कुछ जगह सुनिश्चित होने पर उनका वहाँ पुनर्वास किया जायेगा। वहीं तंवर फ़ार्म हाउस के मालिक वेदपाल तंवर ने मुख्यमंत्री की इस घोषणा और इसके लिए पहल करने हेतु सामाजिक न्याय मंत्री (राज्य) के प्रति आभार जताया है। उल्लेखनीय है कि तंवर ने न सिर्फ़ मिर्चपुर के विस्थापितों को पिछले 6 सालों से अपने फ़ार्म हाउस में जगह दे रखी है बल्कि वे उनके पुनर्वास तथा मुआवजा की न्यायिक लड़ाई की अगुआई भी कर रहे हैं।

इसके अलावा श्री अठावले ने इस मौके पर मुख्यमंत्री से मई के पहले सप्ताह में हरियाणा के रोहतक में सामूहिक बलात्कार और ह्त्या की शिकार पीडिता के परिवार को मुआवजे की राशि (10.5 लाख) शीघ्र दिलवाने का आग्रह किया। हरियाणा सरकार ने इस घटना की पीडिता को अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार अधिनियम के तहत 8.5 लाख और दो लाख अतिरिक्त देने की घोषणा की थी। इसमें दो लाख रुपए की राशि रेड क्रॉस के माध्यम से दी जाने वाली थी और 8.5 लाख रुपए अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार अधिनियम के तहत गठित कोष से दिये जाने थे।

जैसे-तैसे पिछले पांच वर्षों से हरियाणा के हिसार जिले में तंवर फ़ार्म हाउस में जीवन गुजार रहे हैं मिर्चपुर के दलित

श्री अठावले ने हरियाणा में नियुक्तियों में बैकलॉग भरने, विश्वविद्यालयों में दलित विद्यार्थियों और शिक्षकों के लिए अनुकूल माहौल सुनिश्चित करने, अनुसूचित जाति के लोगों के लिए आवंटित जमीनों का कब्जा सुनिश्चित कराने और आरक्षण के स्लैब को बढ़ाकर जाट आरक्षण आदि मसलों को हल करने जैसे विषयों पर मुख्यमंत्री मनोहर खट्टर से विस्तृत बातचीत की। उन्होंने मुख्यमंत्री का ध्यान कैथल जिले में 1962 में दलितों को आवंटित जमीन पर कब्जा न करवाये जाने की ओर भी मुख्यमंत्री का ध्यान खीचा। वर्ष 2009 में भी पिछली सरकार के दौरान कुछ भूखंड भूमिहीन दलित परिवारों को आवंटित किए गए थे, लेकिन कब्जा नहीं दिलाया जा सका है।

इन सवालों के मद्देनजर मुख्यमंत्री श्री खट्टर ने सामाजिक न्याय राज्य मंत्री रामदास अठावले से कहा कि हरियाणा सरकार डा. अम्बेडकर के विचारों के प्रति प्रतिबद्ध है। उन्होंने राज्य सरकार की पहल पर डा अम्बेडकर के विचारों पर चार दिनों तक हुए आयोजन की चर्चा की। बातचीत में श्री अठावले ने कहा कि दलितों की संवेदना पर गठबंधन की सरकार को विशेष ध्यान देना चाहिए। उनके लिए योजनाओं की जितनी जरूरत है उतनी ही उनके प्रति सरकारों द्वारा प्रत्यक्ष-परोक्ष सम्मान प्रदर्शित करने की।


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

संजीव चन्दन

संजीव चंदन (25 नवंबर 1977) : प्रकाशन संस्था व समाजकर्मी समूह ‘द मार्जनालाइज्ड’ के प्रमुख संजीव चंदन चर्चित पत्रिका ‘स्त्रीकाल’(अनियतकालीन व वेबपोर्टल) के संपादक भी हैं। श्री चंदन अपने स्त्रीवादी-आंबेडकरवादी लेखन के लिए जाने जाते हैं। स्त्री मुद्दों पर उनके द्वारा संपादित पुस्तक ‘चौखट पर स्त्री (2014) प्रकाशित है तथा उनका कहानी संग्रह ‘546वीं सीट की स्त्री’ प्रकाश्य है। संपर्क : themarginalised@gmail.com

संबंधित आलेख

जानिए, मोदी के माथे पर हार का ठीकरा क्यों फोड़ रहा आरएसएस?
इंडिया गठबंधन भले ही सरकार बनाने में कामयाब नहीं हुआ हो, लेकिन उसके एजेंडे की जीत हुई है। सामाजिक न्याय और संविधान बचाने के...
अमेरिका के विश्वविद्यालयों में हिंदू पाठ्यक्रम के मायने
यदि हिंदू दर्शन, जिसे वेदांतवादी दर्शन का नाम भी दिया जाता है, भारत की सरहदों से बाहर पहुंचाया जाता है तो हमें इसके विरुद्ध...
बसपा : एक हितैषी की नजर में
राजनीति में ऐसे दौर आते हैं और गुजर भी जाते हैं। बसपा जैसे कैडर आधरित पार्टी दोबारा से अपनी ताकत प्राप्त कर सकती है,...
यूपी के पूर्वांचल में इन कारणों से मोदी-योगी के रहते पस्त हुई भाजपा
पूर्वांचल में 25 जिले आते हैं। इनमें वाराणसी, जौनपुर, भदोही, मिर्ज़ापुर, गोरखपुर, सोनभद्र, कुशीनगर, देवरिया, महाराजगंज, संत कबीरनगर, बस्ती, आजमगढ़, मऊ, ग़ाज़ीपुर, बलिया, सिद्धार्थनगर,...
बांसगांव लोकसभा क्षेत्र से मेरी हार में ही जीत की ताकत मौजूद है : श्रवण कुमार निराला
श्रवण कुमार निराला उत्तर प्रदेश के बांसगांव लोकसभा क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी रहे। हालांकि इस चुनाव में उन्हें केवल 4142 मत प्राप्त हुए। लेकिन...