शरद-सावित्री संग दलित-बहुजनों ने लिया संविधान की रक्षा का संकल्प

पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव और भाजपा सांसद सावित्री बाई फुले ने एक मंच से केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला। संविधान दिवस के मौके पर दोनों नेताओं ने भाजपा पर हमलावर होते हुए कहा कि वह संविधान में छेड़छाड़ करने की साजिश कर रही है। फारवर्ड प्रेस की खबर :

बीते 26 नवंबर को संविधान दिवस के मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव और भाजपा सासंद सावित्री बाई फुले ने केंद्र सरकार को चेताया। संविधान दिवस के मौके पर तीसरे दलित इंटरनेशनल कांफ्रेंस का आयोजन अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति परिसंघ के तत्वावधान में दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में  किया गया। इस मौके पर देश-विदेश से आए विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया और संविधान की रक्षा का संकल्प लिया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि व पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव ने बहुजन समाज को आगाह किया कि अगर अब भी एकजुट नहीं हुए तो न्याय मिल पाना मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने कहा कि पहले ही एक लाख से अधिक जातियों में बहुजन को बांट दिया गया है। हमें इस बात को नहीं भूलना चाहिए कि जो साजिश की गई थी, उसे खत्म करने के लिए जाति से जमात बनाना होगा। तभी हम अपने अधिकार की रक्षा कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र में सत्तासीन भाजपा किस तरह बहुजन के खिलाफ काम कर रही है, यह बताने की जरूरत नहीं है। संविधान बचाने के लिए संघर्ष की बात उठनी शुरू हो गई है और अगर 2019 के आम चुनाव के बाद फिर से सत्ता में आई तो संविधान व लोकतंत्र दोनों को बचाना मुश्किल हो जाएगा।

संविधान की रक्षा का संकल्प लेते पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव, भाजपा सांसद सावित्री बाई फुले व अन्य

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि भाजपा सांसद सावित्री बाई फूले ने कहा कि वह खुद भी शरद यादव जी के कथन से इत्तेफाक रखती हैं। भाजपा की सांसद होने के बावजूद मुझे यह कहने से कोई गुरेज नहीं है कि संविधान से छेड़छाड़ की साजिश अंदरखाने में चल रही है, क्योंकि अगर ऐसा नहीं होता तो आरएसएस के जरिए संविधान की समीक्षा की कोशिशें नहीं होतीं। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी के ही सांसद खुलकर बोलना शुरू कर दिया है कि संविधान बदलने के लिए ही तो भाजपा की सरकार बनी है।

सावित्री बाई फूले ने कहा कि उन्होंने पार्टी के भीतर बाहर दोनों जगहों पर इसका पुरजोर विरोध किया और तब कहा गया कि शांत हो जाओ नहीं तो पॉलिटिकल कैरियर खत्म कर दिया जाएगा।

कार्यक्रम में उपस्थित दलित-बहुजन

भाजपा सांसद ने कहा कि ऐसी धमकी देने वालों से वह डरने वाली नहीं हैं। उन्होंने कहा कि आरक्षण की वजह से आज वह सांसद हैं, किसी के रहमोकरम पर नहीं। बाबा साहेब के सिद्धांत पर चलकर यह मुकाम उन्हें हासिल हुआ है और उनके बनाए संविधान पर आंच आई तो मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जब भाजपा की अगवाई में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार बनी थी तब भी संविधान समीक्षा आयोग बनाकर उसे कमजोर करने की नापाक कोशिश की गई थी, लेकिन तब कांशीराम जी ने इसका पुरजोर तरीके से विरोध किया था और दो टूक शब्दों में कह दिया था कि संविधान नहीं बदलने देंगे।

कार्यक्रम के अंत में संकल्प लिया गया कि दलित-बहुजन संविधान के साथ छेड़छाड़ की किसी भी कोशिश को सफल नहीं होने देंगे। धन्यवाद ज्ञापन अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति परिसंघ के प्रधान महासचिव के.पी. चौधरी व सुखीराम ने किया और भरोसा दिलाया कि जरूरत पड़ने पर परिसंघ संघर्ष के लिए हर समय तैयार रहेगा।

(कॉपी संपादन : एफपी डेस्क)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। हमारी किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्कृति, सामाज व राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के सूक्ष्म पहलुओं को गहराई से उजागर करती हैं। पुस्तक-सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

 

About The Author

Reply