पचास फीसदी तक बढ़ेगी फेलोशिप, जावड़ेकर ने बंधायी रिसर्च स्कॉलरों को उम्मीद

एकबार फिर रिसर्च स्कॉलरों को आश्वासन ही हाथ लगा है। अब केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने उन्हें आश्वस्त किया है कि जल्द ही फेलोशिप की राशि में वृद्धि की घोषणा होगी

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने देश भर में आंदोलन कर रहे रिसर्च स्कॉलरों को आश्वासन दिया है। 26 दिसंबर को जब यंग साइंटिस्ट सोसायटी के प्रतिनिधियों ने जावड़ेकर से मिलकर रिसर्च फेलोशिप की राशि बढ़ाने की मांग की तब उन्होंने आश्वस्त किया कि जल्द ही सरकार द्वारा इसकी घोषणा की जाएगी। अभी यह पाइपलाइन में है।

यंग साइंटिस्ट सोसायटी के अध्यक्ष लालचंद्र विश्वकर्मा ने बताया कि वे और उनके साथियों ने प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात की और अपनी मांगों के बाबत एक ज्ञापन सौंपा। इस क्रम में उन्होंने फेलोशिप की राशि में 80 फीसदी तक की वृद्धि करने तथा दिसंबर के अंत तक इसकी घोषणा करने की मांग की। रिसर्च स्कॉलरों के प्रतिनिधिमंडल में लालचंद्र विश्वकर्मा के अलावा आईआईटी,कानपुर के मनोज चहल व सुरेंद्र सिंह, आईआईटी, दिल्ली के विक्की नंदलाल, सीबीएमआर एसजीपीजीआई, लखनऊ के निखिल गुप्ता और आईआईएससी, बेंगलूरू के सौरव मजूमदार शामिल रहे।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपते रिसर्च स्कॉलर्स संगठनों के प्रतिनिधि

यह पूछने पर कि केंद्रीय मंत्री से उन्हें किस प्रकार का आश्वासन मिला, लालचंद्र विश्वकर्मा ने बताया कि अभी केवल आश्वासन दिया गया है। प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि यह पाइपलाइन में है और जल्द ही इसकी घोषणा भी की जाएगी। वहीं फेलोशिप की राशि में कितनी वृद्धि होगी, इस बारे में जावड़ेकर ने 2014 में की गई 50-55 प्रतिशत वृद्धि का हवाला देते हुए कहा कि सरकार गंभीरतापूर्वक विचार कर रही है।

यह भी पढ़ें : रिसर्च स्कॉलरों के लिए खुशखबरी, इसी सप्ताह होगी फेलोशिप में वृद्धि

इस संबंध में  कार्यपालिका के उच्च पदस्थ सूत्रों ने फ़ॉरवर्ड प्रेस को बताया था कि फेलोशिप में 15 फीसदी वृद्धि की योजना है। इस संबंध्स में फारवर्ड प्रेस द्वारा खबर प्रकाशित किए जाने के बाद देश भर के रिसर्च स्कॉलरों ने आंदोलन छेड़ दिया। इस क्रम में सबसे पहले सरकार के प्रिंसिपल साइंटिफिक एडवाइजर के. विजय राघवन, केंद्रीय विज्ञान व प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सचिव प्रो. आशुतोष शर्मा और इसी विभाग के मंत्री हर्षवर्द्धन के द्वारा रिसर्च स्कॉलरों को आश्वासन दिया जा चुका है। जबकि आंदोलनरत रिसर्च स्कॉलर सरकार पर 80 फीसदी तक की वृद्धि व इसकी घोषणा इसी माह करने की मांग पर डटे हैं।

(कॉपी संपादन : एफपी डेस्क)

[परिवर्धित : 27.12.2018, 8.50 AM]


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

 

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

About The Author

Reply