h n

आरएसएस और बहुजन चिंतन

इस किताब के लेखक कंवल भारती हैं। यह पुस्तक आरएसएस के विचारों और फुले-आंबेडकर के विचारों के बीच के अंतर को सामने लाती है। यह बताती है कि कैसे एक ओर आरएसएस समाज में वर्चस्ववादी जातिव्यवस्था और पितृसत्ता को स्थापित करना चाहता है तो दूसरी ओर फुले-आंबेडकर के विचार एक ऐसे समाज बनाने का मार्ग प्रशस्त करते हैं जिसमें सभी को आत्मसम्मान के साथ बराबरी के स्तर पर जीने का अधिकार हो। यह पुस्तक विभिन्न पुस्तक विक्रेताओं और ई-कामर्स वेबसाइटों पर उपलब्ध। विशेष छूट! शीघ्र आर्डर करें

500 रुपए (सजिल्द), 200 रुपए (अजिल्द)

ऑनलाइन खरीदें : किंडल, अमेजन, फ्लिपकार्ट

थोक खरीद के लिए संपर्क : (मोबाइल) : 7827427311, (ईमेल) : fpbooks@forwardpress.in

कँवल भारती ने आरएसएस के झूठ का पर्दाफाश करने के लिए अपने तर्कों को कुशलतापूर्वक प्रस्तुत करते हुए साबित किया है कि आरएसएस कितना दलित-विरोधी और आंबेडकर-विरोधी है। इस पुस्तक की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह आमजन के साथ संवाद करती है। मुझे उम्मीद है कि इस पुस्तक को पढ़ने के बाद ऐसा कोई दलित नहीं होगा, जो आरएसएस और संघ परिवार की दलित-विरोधी और बड़े पैमाने पर जन-विरोधी छवि को पहचानने से इनकार करेगा। 

प्रस्तुत पुस्तक में मुख्य रूप से दलित-बहुजनों के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा वितरित आठ पुस्तकों पर उनके विचार शामिल हैं, जिनके अक्सर सीधे-सादे दलित शिकार हो जाते हैं। अब यह महज़ एक परिकल्पना नहीं रह गई है; यह पहले भी हुआ है और कुछ वर्षों से होता आ रहा है। 2014 के चुनाव से पहले दलितों को भरमाने की यह प्रक्रिया खतरनाक स्तर तक पहुंच गई थी। ज़्यादातर दलित नेता निर्लज्ज होकर भाजपा से जा मिले या आंबेडकर का नाम जपते हुए उस दल में शामिल हो गए।

आनंद तेलतुंबड़े, प्रोफेसर, गोवा इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट

यह आरएसएस के सच को बहुजन नजरिए से उजागर करने वाली पहली किताब है। 

मोहनदास नैमिशराय, पूर्व मुख्य संपादक, डॉ. आंबेडकर प्रतिष्ठान, भारत सरकार

जाने-माने दलित-चिंतक तथा प्रगतिशील लेखक कंवल भारती की यह किताब आरएसएस की राजनीति और इतिहास बोध का बहुत ही तार्किक ढंग से पोस्टमार्टम करता है। 

ईश मिश्र, प्रोफेसर, राजनीति शास्त्र, हिंदू कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय

इस किताब के ‘हिंदुत्व एक मिथ्या दृष्टि और जीवन पद्धति’अध्याय में कॅंवल भारती ने ‘गर्व से कहो हम हिंदू हैं’ पुस्तिका की समीक्षा की है। इस पुस्तिका में भी आरएसएस के विद्वानों ने इतिहास के साथ धोखाधड़ी और फर्जी तरीके से इतिहास प्रस्तुत करने का अपना कार्यक्रम किस तरीके से बदस्तूर जारी किया हुआ है, इसकी समीक्षा मिलती है कि किस प्रकार भारतीय अपने आप को विश्व गुरु मानते आ रहे हैं। जबकि एक बड़ा सवाल यह है कि दुनिया के कितने देशों ने भारत को विश्व गुरु माना है? इस सवाल का आज तक कोई मुकम्मल जवाब नहीं मिल पाया है।

विकाश सिंह मौर्य, फारवर्ड प्रेस में प्रकाशित एक समीक्षा का अंश

कहां से खरीदें

थोक खरीदने के लिए fpbooks@forwardpress.in पर ईमेल करें या 7827427311 पर कार्यालय अवधि (सुबह 11 बजे से लेकर शाम सात बजे तक) फोन करें

अमेजन से खरीदें : https://www.amazon.in/dp/8193992202?ref=myi_title_dp

फ्लिपकार्ट से खरीदें : https://www.flipkart.com/rss-aur-bahujan-chintan/p/itmfd4znzdszwfgv?pid=9788193992203

ई-बुक खरीदें : https://www.amazon.in/dp/B07V3MRK56 

लेखक के बारे में

फारवर्ड प्रेस

संबंधित आलेख

कबीर का इतिहासपरक निरपेक्ष मूल्यांकन करती किताब
आमतौर पर हिंदी में कबीर के संबंध में उनके पदों का पाठ उनकी व्याख्या और कबीर के काव्य में सामाजिकता जैसे शीर्षक पर साहित्य...
‘अगर हमारे सपने के केंद्र में मानव जाति के लिए प्रेम है, तो हमारा व्यवहार भी ऐसा होना चाहिए’
गेल ऑम्वेट गांव-गांव जाकर शोध करती थीं, उससे जो तथ्य इकट्ठा होता था, वह बहुत व्यापक था और बहुत लोगों से जुड़ा होता था।...
बहुजन विमर्श की ‌एक‌ महत्वपूर्ण पुस्तक
प्रेमकुमार मणि के मुताबिक, उपेक्षित और उत्पीड़ित राष्ट्रीयताओं तथा अस्मिता और पहचान के लिए अलग-अलग चल रहे संघर्षों को समन्वित करना बड़ी बात ‌होगी।...
कबीर और कबीरपंथ
कुल ग्यारह अध्यायों में बंटी यह पुस्तक कबीर के जन्म से लेकर उनके साहित्य, कबीरपंथ के संस्कारों, परंपराओं और कर्मकांडों आदि का प्रामाणिक ब्यौरा...
दलित विद्रोह का जीवंत दस्तावेज
ज. वि. पवार ने इस आंदोलन को आंबेडकर के बाद दलित आंदोलन का स्वर्णकाल माना है। इस संगठन के महासचिव होने के कारण उन्होंने...