h n

बीएचयू में याद की गयीं सावित्रीबाई व फातिमा शेख

लखनऊ विश्वविद्यालय की प्रोफेसर और पूर्व कुलपति रूपरेखा वर्मा ने ‘महिलाओं पर राजकीय दमन’ पर बात रखते हुए कहा कि भारत में ऐतिहासिक रूप से जातिगत ऊंच-नीच का अनंत विभाजन है। आज के दौर में जाति और धर्म के आधार पर हिंसा हो रही है। मनीष आजाद की खबर

बीते 9 जनवरी, 2023 को फ़ातिमा शेख की जयंती पर एक सेमिनार बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, बनारस में भगत सिंह छात्र मोर्चा ने आयोजित कियाइस सेमिनार में केवल स्त्री शिक्षा के क्षेत्र में बल्कि औरतों के मुक्ति की दिशा में सावित्रीबाई फुले और फ़ातिमा शेख के उल्लेखनीय योगदान को रेखांकित किया गयायुवा छात्र-छात्राओं और शहर के बुद्धिजीवियों से खचाखच भरे हॉल में उत्साही चेहरों पर मानो इन दोनों पुरखिनों की दिखाई रोशनी जगमगा रही थी

सेमिनार का विषय था– 21वीं सदी के भारत में महिलाओं की स्थिति और उनकी मुक्ति का रास्तामोर्चा की सांस्कृतिक टीम द्वारा प्रस्तुत क्रांतिकारी गीतों से इस कार्यक्रम का आगाज हुआ। बोल थे– गए यहां जवां कदम; ‘तू जिंदा है, तू जिंदगी की जीत में यकीन कर’।

संचालक इप्शिता ने सावित्रीबाई फुले और फ़ातिमा शेख के जीवन के संघर्ष और उनके योगदान को विस्तार से बताया और यह भी रेखांकित किया कि छात्र मोर्चा ऐसे महान लोगों के बताये रास्ते पर आगे बढ़ रहा है और उनकी विरासत को संजोने का प्रयास कर रहा हैअपने संबोधन में बीएचयू में हिंदी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर प्रियंका सोनकर ने रेखांकित किया कि सावित्रीबाई फुले और फ़ातिमा शेख ने ही वह ज़मीन तैयार की थी, जिस पर चल कर उनके जैसे लोग आज यहां तक पहुंचे हैंउन्होंने बताया कि किस तरह से अकादमिक जगत में दलित-बहुजन लोगों को भेदभाव और अपमानजनक व्यवहार का सामना करना पड़ता हैउन्होंने यह भी बताया कि स्वयं डॉ.आंबेडकर बंबई में जब एक कॉलेज में बतौर शिक्षक पढ़ाने गए तो सवर्ण छात्रों ने कैसे उनका मज़ाक बनाया। इसको दर्शाने के लिए उन्होंने डॉ. आंबेडकर पर जब्बार पटेल की फिल्म का एक अंश भी लोगों को दिखाया। उन्होंने यह बताया कि यह स्थिति कमोबेश आज भी जारी हैअकादमिक जगत में जाति और जेंडर का प्रभाव विषय पर अपना वक्तव्य रखते हुए उन्होंने कहा कि कोई भी बदलाव समानता की बुनियाद पर ही हो सकता हैगैरबराबरी के साथ हम कोई आमूलचूल बदलाव नहीं ला सकतेआज भी अकादमिक जगत में महिलाओं की संख्या काफी कम है शिक्षण संस्थानों में प्रमुख पदों पर आज भी अधिकांश पुरुष ही विद्यमान है

एक अन्य वक्ता महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की सेवानिव‍ृत्त प्रो. शाहीना रिज़वी तबियत खराब होने के कारण अनुपस्थित रहीं पर उन्होंने अपनी बात को वीडियो के माध्यम से भेजा जिसकी स्क्रीनिंग की गईउन्होंने बताया कि हिदुस्तान में मुस्लिम और हिंदू औरत की दशा कमोबेश एक जैसी ही थी और हैउन्होंनेमुस्लिम अल्पसंख्यक महिलाओं का समाज और राज्य द्वारा शोषण और इसके खिलाफ उनका प्रतिरोधविषय पर अपनी मुख्य बात रखीउन्होंने कहा कि पहले ज़माने में हिंदू हो या मुस्लिम औरतों को तालीम का अधिकार नहीं थापढ़ने के अधिकार के लिए एक लंबे संघर्ष के बाद समाज में शिक्षा का अधिकार मिल पाया। 

मंच पर मौजूद प्रो. रूपरेखा वर्मा, प्रो. प्रियंका सोनकर व अमिता शीरीं

लखनऊ विश्वविद्यालय की प्रोफेसर और पूर्व कुलपति रूपरेखा वर्मा नेमहिलाओं पर राजकीय दमनपर बात रखते हुए कहा कि भारत में ऐतिहासिक रूप से जातिगत ऊंचनीच का अनंत विभाजन हैआज के दौर में जाति और धर्म के आधार पर हिंसा हो रही हैइसमें न्याय जाति और धर्म के ख़ाके में रखकर ही किया जाता हैउन्होंने बिलकिस बानो और उत्तर प्रदेश के हाथरस रेप मामले का उदाहरण दियागौरतलब है कि रूपरेखा जी ने लगभग तीन साल जेल में बंद पत्रकार सिद्दीक कप्पन की ज़मानत लेने का साहस किया और बिलकिस बानो के बलात्कार और उनके परिवार के 14 लोगों की हत्या करने वाले दोषियों को गुजरात सरकार द्वारा रिहा किये जाने के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में दी जाने वाली याचिका में भी वह शामिल हैं

प्रोफ़ेसर रूपरेखा जी ने अपने संबोधन में कहा कि आज राज्य और देश को एक कर दिया गया है। राज्य की आलोचना देश की आलोचना हो गई हैकई बुद्धिजीवियों, कलाकारों, पत्रकारों को सरकार की आलोचना करने के लिए देशद्रोही बताकर जेल में डाल दिया गया हैहमारे देश में महिलाओं पर हिंसा के मामले अकल्पनीय रूप से बढ़े हैंइन सब पर राज्य या केंद्र सरकार द्वारा कोई बयान नहीं आता, कभी इस तरह के मामलों से निपटने के लिए पुलिस को सचेत नहीं किया जाताइसमें राज्य का चुप रहना हिंसा की सहमति है उन्होंने ऐसे दौर में सावित्रीबाई फुले और फतिमा शेख के माध्यम से औरतों की मुक्ति की बात करने के लिए भगत सिंह छात्र मोर्चा की सराहना की।

राजनीतिकसामाजिक कार्यकर्ता अमिता शीरीं ने महिलाओं की मुक्ति के सवाल पर अपना वक्तव्य रखा। उन्होंने सावित्रीबाई फुले और फ़ातिमा शेख के योगदान को सलाम करते हुए अपनी बात शुरू की। उन्होंने कहा कि आज के दौर में जब फासीवादी सत्ता दलितों को खुद में समायोजित कर रही है और दलितों को अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ होने वाले दंगों आदि में इस्तेमाल कर रही हैऐसे में सावित्रीबाई और फ़ातिमा शेख की एकजुटता को बार बार रेखांकित करने की ज़रूरत हैउन्होंने बताया कि जब फुले दंपत्ति पर मुश्किलें पड़ीं तो मुस्लिम लोगों ने उनकी ओर सहायता का हाथ बढायाजब फुले दंपत्ति को घर से और गांव से निकल दिया गया तो उनके मित्र उस्मान शेख ने उन्हें अपने घर में आश्रय दिया। इतना ही नहीं, जोतीराव फुले ने 1848 में अपना पहला स्कूल उनके घर में ही खोलाउस्मान शेख और उनकी बहन फ़ातिमा शेख ने फुले परिवार को हर संभव मदद की और उनके व्यक्तिगत और सामाजिक संघर्ष में उनके साथसाथ चले

उन्होंने कहा कि फ़ातिमा शेख उनके स्कूल की पहली छात्रा बनीसावित्रीबाई के साथ उन्होंने टीचर्स ट्रेनिंग कार्यक्रम की पढाई कीफिर उनके साथ ही वे उनके स्कूल में ही शिक्षिका बनींऐसा करते समय उन्हें समाज के विशेषकर सवर्णों के कोप का शिकार बनना पड़ालेकिन वे दोनों विचलित नहीं हुई और दृढ संकल्प के साथ आगे बढ़ती गईंअमिता ने यह भी बताया कि फ़ातिमा शेख ने सावित्रीबाई की अनुपस्थिति में स्कूल की प्रधानाचार्या की भूमिका भी अदा की और सफ़लतापूर्वक स्कूल के प्रबंधन का काम देखाइसका उल्लेख सावित्रीबाई द्वारा 1856 में जोतीराव को लिखे एक पत्र में मिलता है जब वह अस्वस्थ होकर अपने मायके चली गयी थीं।

अमिता ने आगे बताया कि भारत समेत पूरी दुनिया में औरतें प्रतिरोध कर रही हैं। उन्होंने कहा कि भारत में आज़मगढ़ के खिरियाबाग़ में ज़मीन के अधिग्रहण के ख़िलाफ़ औरतें, ख़ासतौर पर दलित औरतें आन्दोलन रत हैं। बस्तर के सिलेगर में आदिवासी औरतें जुल्म और शोषण के ख़िलाफ़ संघर्ष कर रही हैं। इसके पहले सीएए, एनआरसी के ख़िलाफ़ शाहीनबाग़ की मुस्लिम औरतों ने औरतों को लड़ाई की राह दिखाई। 

कार्यक्रम का समापन भगत सिंह छात्र मोर्चा के गीतबेख़ौफ़ आज़ाद जीना है हमें…’ से हुआकार्यक्रम में दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर राहुल मौर्य प्रोफेसर विवेक पांडे, भाषा विज्ञान के असिस्टेंट प्रोफेसर योगेश उमले, आर्य महिला पीजी कॉलेज की वंदना चौबे, पूर्व प्रधानाध्यापक भैयालाल यादव, एंग्लो बंगाली इंटर कॉलेज के अध्यापक पियूष दत्त सिंह, मोहम्मद अहमद अंसारी, समेत बड़ी संख्या में छात्रछात्राएं मौजूद थीं। 

(संपादन : नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

मनीष आजाद

लेखक सामाजिक कार्यकर्ता, लेखक व अनुवादक हैं

संबंधित आलेख

ताकतवर हाथियों के बीच चीटियों की दास्तान
सुजाता गिडला की यह किताब रेखांकित किये जाने के योग्य है। सत्यम और मंजुला के जीवन-वृत्त को पढ़ कर हम यह पाते हैं कि...
बहस-तलब : बाबाओं को क्यों बचाना चाहती है भारतीय मीडिया?
यह तो अब आम बात है कि बाबाओं की बड़ी फौज देश मे हर प्रदेश में खड़ी हो गई है। अब उनके पास न...
‘रामचरितमानस’ और जातिगत जनगणना के परिप्रेक्ष्य में बौद्धिक और सियासी कूपमंडूकता
जिस तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं, उससे हिंदी क्षेत्र की राजनीति और विमर्शों की संकीर्ण दुनियाओं का अंदाजा लगाया जा सकता है।...
दलित-बहुजन यायावर की भूटान यात्रा (दूसरा भाग)
लखांग (मठ) की स्थापना सारी वर्जनाओं को तोड़ने वाले दिव्य पागल पुरुष लामा ड्रुकपा किनले को समर्पित है। यहां विदेशी पर्यटकों के अलावा मुख्यतः...
संतुलित विकास हेतु आवश्यक है जातिवार जनगणना
आवश्यक है कि देश में जातिवार जनगणना के जरिए जातियों के अंदर ध्रुवीकरण और पिछड़ापन का आकलन सही-सही किया जाय, जिससे जरूरतमंद को आवश्यक...