h n

जानिए, मोदी के माथे पर हार का ठीकरा क्यों फोड़ रहा आरएसएस?

इंडिया गठबंधन भले ही सरकार बनाने में कामयाब नहीं हुआ हो, लेकिन उसके एजेंडे की जीत हुई है। सामाजिक न्याय और संविधान बचाने के मुद्दे की जीत भाजपा की ही नहीं, बल्कि आरएसएस की बड़ी हार है। मनुस्मृति के आधार पर नया संविधान लिखने और लागू करने की आरएसएस की बुनियादी हसरत चूर-चूर हो गई। बता रहे हैं प्रो. रविकांत

इस बार के लोकसभा चुनाव में भाजपा को बहुमत नहीं मिला, लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार बनाने में कामयाब हो गए। चुनाव नतीजों के बाद आरएसएस लगातार नरेंद्र मोदी पर प्रहार कर रहा है। भाजपा की हार को आरएसएस नरेंद्र मोदी के अहंकार की पराजय बता रहा है। इसके प्रमुख मोहन भागवत से लेकर इंद्रेश कुमार तक चुनाव नतीजे को मोदी के अहंकार और राम के न्याय के रूप में दर्ज कर रहे हैं। आरएसएस द्वारा की जा रही बयानबाजी क्या नरेंद्र मोदी के खिलाफ है?

दरअसल, इन बयानों को आरएसएस और नरेंद्र मोदी के बीच बढ़ती दूरियों के रूप में भी देखा जा रहा है। कुछ विश्लेषक इसे भाजपा के विभाजन का संकेत भी मान रहे हैं। मोदी और योगी के बीच बढ़ती दूरियों और पसरी खामोशी को भी इस बयानबाजी के संदर्भ में देखा जा रहा है। कुछ लोग तो यहां तक कह रहे हैं कि आरएसएस योगी को आगे करके मोदी-शाह यानी गुजरात लॉबी को निपटाने के मूड में है। क्या इस बात को स्वीकार किया जा सकता है? आरएसएस जो कह रहा है, क्या उसका अर्थ वही है या कुछ और?

गौरतलब है कि आरएसएस जो कहता है, करता उससे एकदम उलट है। आरएसएस के बारे में यह भी कहा जाता है कि उसके कई मुख हैं। मोहन भागवत और इंद्रेश कुमार के बयानों की इसी संदर्भ में पड़ताल की जानी चाहिए।

दरअसल, आरएसएस मोदी की हार को तवज्जो दे रहा है, इंडिया गठबंधन की जीत को नहीं। इंडिया गठबंधन ने इस चुनाव में निहत्थे होकर भी विभिन्न शक्तियों से लैस भाजपा का बहुत मजबूती से मुकाबला किया। नरेंद्र मोदी के पास कॉरपोरेट मीडिया, अथाह पूंजी, ईडी-सीबीआई जैसी कुख्यात एजेंसियां लगातार विपक्ष के किसी भी नैरेटिव को ध्वस्त करने में लगी हुई थीं। लेकिन एक बड़ा मुद्दा विपक्ष के हाथ लगा या यूं कहें कि खुद नरेंद्र मोदी ने थाली में परोस कर विपक्ष को दे दिया। संविधान बदलने का ऐलान करना नरेंद्र मोदी और भाजपा के लिए नासूर बन गया। राहुल गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे, शरद पवार, तेजस्वी यादव, अरविंद केजरीवाल, अखिलेश यादव, उद्धव ठाकरे जैसे तमाम विपक्षी नेताओं ने संविधान और डॉ. आंबेडकर का अपने भाषणों में बार-बार जिक्र किया। संविधान और लोकतंत्र पर खतरा इस चुनाव का सबसे बड़ा मुद्दा बन गया। राहुल गांधी ने इसे सबसे पैनी धार दी। हाथ में संविधान लेकर राहुल गांधी हर सभा में दलित, आदिवासी, पिछड़ों के आरक्षण, प्रतिनिधित्व, जाति जनगणना, जमीन के अधिकार और सम्मान की बात करते। इस मुद्दे ने नरेंद्र मोदी के पूरे प्रचार तंत्र की हवा निकाल दी। हालत यह हो गई कि नरेंद्र मोदी को कहना पड़ा कि अगर डॉ. आंबेडकर भी आ जाएं तो वह भी संविधान नहीं बदल सकते।

हार का ठीकरा : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

सामाजिक न्याय और आरक्षण का मुद्दा इतना कारगर साबित हो रहा था कि नरेंद्र मोदी ने आचार संहिता की धज्जियां उड़ाते हुए रात-दिन हिंदू-मुसलमान करना शुरू कर दिया। जातिगत जनगणना की बात को नरेंद्र मोदी ने हिंदू महिलाओं के मंगलसूत्र से जोड़ दिया। इसके बाद तो नरेंद्र मोदी इतना नीचे गिर गए कि उन्होंने डराने की सारी सीमा ही पार कर दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार आई तो ये लोग आपकी भैंस छीन लेंगे। यह अनायास नहीं था और ना ही मानसिक विकृति का कोई लक्षण। यह कुटिल राजनीति थी। मंगलसूत्र और भैंस का डर जाहिर तौर पर गरीब खेतिहर समाज के लिए था। यह समाज कौन है? दलित, पिछड़ा और आदिवासी। इसके बाद नरेंद्र मोदी ने आरक्षण के मुद्दे को भी सांप्रदायिक रंग देते हुए कहा कि इंडिया गठबंधन के लोग दलित, आदिवासी और पिछड़ों का आरक्षण छीनकर मुसलमानों को देना चाहते हैं। लेकिन वे ऐसा नहीं होने देंगे।

यहां एक सवाल पूछा जा सकता है कि नरेंद्र मोदी को उस समय बाबा साहब आंबेडकर और संविधान की चिंता क्यों नहीं हुई, जब उन्होंने 2019 के चुनाव से ठीक पहले ईडब्ल्यूएस आरक्षण यानी आर्थिक आधार पर कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण लागू किया था। इसमें मुसलमानों का सवर्ण तबका भी लाभार्थी है।

बहरहाल, ताबड़तोड़ 80 टीवी चैनलों को तूफानी गति से इंटरव्यू देने वाले नरेंद्र मोदी इंडिया गठबंधन के संविधान और सामाजिक न्याय के मुद्दे को बदलने की लगातार कोशिश में लगे रहे। लेकिन नतीजों में इन मुद्दों का सीधा असर दिखाई दिया। भाजपा 240 सीटों पर सिमट गई और कांग्रेस पार्टी की सीटों की संख्या लगभग दोगुनी होकर 99 तक पहुंच गई। यूपी में कांग्रेस और सपा ने भाजपा के मंसूबों पर पानी फेर दिया। राजस्थान के दलित, आदिवासी बहुल इलाकों में भाजपा का सूपड़ा साफ हो गया।

इंडिया गठबंधन भले ही सरकार बनाने में कामयाब नहीं हुआ हो, लेकिन उसके एजेंडे की जीत हुई है। सामाजिक न्याय और संविधान बचाने के मुद्दे की जीत भाजपा की ही नहीं, बल्कि आरएसएस की बड़ी हार है। मनुस्मृति के आधार पर नया संविधान लिखने और लागू करने की आरएसएस की बुनियादी हसरत चूर-चूर हो गई। भाजपा और अपनी पराजय आरएसएस को पच नहीं रही है। इसलिए इंडिया गठबंधन के नॅरेटिव को किनारे लगाने के लिए संघ बार-बार इस पराजय को मोदी के अहंकार की हार बता रहा है।

यह चुनाव जितना नरेंद्र मोदी के लिए महत्वपूर्ण था, उससे कहीं ज्यादा आरएसएस के लिए खास था। अपनी स्थापना के सौवें वर्ष में होने वाले चुनाव को आरएसएस किसी भी कीमत पर जीतना चाहता था। जो लोग यह कह रहे हैं कि भाजपा के चुनाव प्रचार से संघ ने हाथ खींच लिए थे या आरएसएस ने नरेंद्र मोदी का सहयोग नहीं किया, वे या तो बेवकूफ हैं या बदमाश। चुनावी नतीजों के बाद आरएसएस द्वारा इस तरह की बयानबाजी एक सोची-समझी रणनीति है। आरएसएस विचारकों के बयानों की क्रोनोलॉजी को समझने की जरूरत है। पहले मोहन भागवत का बयान आता है जिसमें उन्होंने अप्रत्यक्ष तौर पर मोदी के अहंकार को भाजपा की हार का कारण माना। इसके बाद इंद्रेश कुमार ने इसे दूसरा रंग दे दिया। उन्होंने कहा कि राम भक्तों को अपने ऊपर अहंकार हो गया था। इसलिए राम ने उन्हें 240 पर रोक दिया और जो राम विरोधी थे, उन्हें 234 सीटों पर समेट दिया। राम ने दोनों पार्टियों के साथ न्याय किया है।

जरा इंद्रेश कुमार के बयान की मीमांसा कीजिए। क्या भारत धर्मतंत्र है? चुनावी नतीजों को राम भक्त और राम विरोधी के दायरे में समेटना एक साजिश है। मतदाता के वोट को मूल्यहीन बनाने की एक खतरनाक कला है। भारत में चुनाव जीतने और सरकार बनाने का काम राम कर रहे हैं! यह बयान लोकतंत्र और संविधान विरोधी ही नहीं, बल्कि नागरिकों के अधिकारों की धज्जियां उड़ाने वाला है। यह सीधे तौर पर बाबासाहब डॉ. आंबेडकर के द्वार बनाए गए संविधान की तौहीन है।

आरएसएस चुनावी नतीजों को राम पर लाकर केंद्रित कर देना चाहता है। जबकि भाजपा फैजाबाद (अयोध्या) में भी चुनाव हार गई। अयोध्या में सामाजिक और आर्थिक न्याय की जीत हुई है। कॉरपोरेटपरस्त हिंदुत्व की हार हुई है। सामान्य सीट पर एक दलित की जीत सामान्य बात नहीं है। यह चाहत बाबासाहब डॉ. आंबेडकर और कांशीराम जी की थी। कहा जा सकता है कि अभी तो यह शुरुआत है। सामाजिक समीकरण भी इसके पक्ष में जाते हैं। सैकड़ों ऐसी सामान्य सीटें हैं, जहां दलित प्रत्याशी को चुनाव मैदान में उतारकर जीत हासिल की जा सकती है। जाहिर तौर पर अयोध्या के प्रयोग को आने वाले चुनावों में दोहराया जाएगा। लोकतंत्र में यही वोट की ताकत है। इस ताकत के एहसास को खत्म करने के लिए ही आरएसएस जीत हार को राम के दायरे में समेटना चाहता है।

(संपादन : राजन/नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

रविकांत

उत्तर प्रदेश के जालौन जिले के दलित परिवार में जन्मे रविकांत ने जेएनयू से एम.ए., एम.फिल और लखनऊ विश्वविद्यालय से पीएच.डी. की डिग्री हासिल की है। इनकी प्रकाशित पुस्तकों में 'समाज और आलोचना', 'आजादी और राष्ट्रवाद' , 'आज के आईने में राष्ट्रवाद' और 'आधागाँव में मुस्लिम अस्मिता' शामिल हैं। साथ ही ये 'अदहन' पत्रिका का संपादक भी रहे हैं। संप्रति लखनऊ विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं।

संबंधित आलेख

मध्य प्रदेश : मासूम भाई और चाचा की हत्या पर सवाल उठानेवाली दलित किशोरी की संदिग्ध मौत पर सवाल
सागर जिले में हुए दलित उत्पीड़न की इस तरह की लोमहर्षक घटना के विरोध में जिस तरह सामाजिक गोलबंदी होनी चाहिए थी, वैसी देखने...
फुले-आंबेडकरवादी आंदोलन के विरुद्ध है मराठा आरक्षण आंदोलन (दूसरा भाग)
मराठा आरक्षण आंदोलन पर आधारित आलेख शृंखला के दूसरे भाग में प्रो. श्रावण देवरे बता रहे हैं वर्ष 2013 में तत्कालीन मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण...
अनुज लुगुन को ‘मलखान सिंह सिसौदिया सम्मान’ व बजरंग बिहारी तिवारी को ‘सत्राची सम्मान’ देने की घोषणा
डॉ. अनुज लुगुन को आदिवासी कविताओं में प्रतिरोध के कवि के रूप में प्रसिद्धि हासिल है। वहीं डॉ. बजरंग बिहारी तिवारी पिछले करीब 20-22...
गोरखपुर : दलित ने किया दलित का उत्पीड़न, छेड़खानी और मार-पीट से आहत किशोरी की मौत
यह मामला उत्तर प्रदेश पुलिस की असंवेदनशील कार्यशैली को उजागर करता है, क्योंकि छेड़खानी व मारपीट तथा मौत के बीच करीब एक महीने के...
फुले-आंबेडकरवादी आंदोलन के विरुद्ध है मराठा आरक्षण आंदोलन (पहला भाग)
महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण आंदोलन राजनीतिक और सामाजिक प्रश्नों को जन्म दे रहा है। राजनीतिक स्तर पर अब इस आंदोलन के साथ दलित राजनेता...