author

Ravikant

उत्तर प्रदेश : अखिलेश के ‘पीडीए’ समीकरण का निहितार्थ
पिछड़े या शूद्र होने का एहसास अखिलेश यादव को पहली बार शायद तब हुआ जब 2017 में विधानसभा...
लोकसभा चुनाव : आरएसएस की संविधान बदलने की नीयत के कारण बदल रहा नॅरेटिव
क्या यह चेतना अचानक दलित-बहुजनों के मन में घर कर गई? ऐसा कतई नहीं है। पिछले 5 साल...
‘अबकी बार चार सौ पार’ का नारा और डॉ. आंबेडकर की चेतावनी
डॉ. आंबेडकर लोकतांत्रिक व्यवस्था में राजनीतिक दलों को लेकर भी सचेत थे। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा, “यदि...
क्या आप जानते हैं मोदी के ‘मुस्लिम राग’ की यह वजह?
जिस दिन कांग्रेस का घोषणा पत्र आया, भाजपा के खेमे में बेचैनी बढ़ गई। अभी यह घोषणा पत्र...
लोकसभा चुनाव के बयार के बीच जेएनयू में आरएसएस समर्थित एबीवीपी की हार का निहितार्थ
यह सही है कि जेएनयू भी उसी भारत का हिस्सा है, जिसे 22 जनवरी को भगवा झंडों से...
लोकसभा चुनाव : भाजपा को क्यों चाहिए चार सौ से अधिक सीटें?
आगामी 19 अप्रैल से लेकर 1 जून तक कुल सात चरणों में लाेकसभा चुनाव की अधिसूचना चुनाव आयोग...
लोकसभा चुनाव : कसौटी पर होगा आंबेडकरवाद
2025 आरएसएस का शताब्दी वर्ष है। सौवें साल से पहले संघ अपने हिंदू राष्ट्र के सपने को पूरा...
Karpoori Thakur deserves the Bharat Ratna but so does Karunanidhi
Is this a genuine expression of respect for Karpoori Thakur or does it have a hidden agenda? Will...
More posts