author

Alakh Niranjan

यूपी : दलित जैसे नहीं हैं अति पिछड़े, श्रेणी में शामिल करना न्यायसंगत नहीं
सामाजिक न्याय की दृष्टि से देखा जाय तो भी इन 17 जातियों को अनुसूचित जाति में शामिल करने...
उत्तर भारत के बहुजनों में राजनीतिक चेतना जगाने वाले कांशीराम
कांशीराम का जीवन स्वयं में एक आंदोलन है। एक ऐसा आंदोलन जिसने उत्तर भारत के बहुजनों की सोच...
उत्तर भारत के बहुजनों में राजनीतिक चेतना जगाने वाले कांशीराम
कांशीराम का जीवन स्वयं में एक आंदोलन है। एक ऐसा आंदोलन जिसने उत्तर भारत के बहुजनों की सोच...
Gandhi and Ambedkar: Continuing tussle between two distinct worldviews on nation-building
Dr Ambedkar wanted a reorganization of political power in India on the basis of the Western concept of...
गांधी और आंबेडकर : राष्ट्र निर्माण की दो पृथक विश्वदृष्टियों का संघर्ष
डॉ. आंबेडकर और महात्मा गांधी दो भिन्न-भिन्न विचारधाराओं के प्रतिनिधि हैं। वैश्विक संदर्भ में आंबेडकर पाश्चात्य दर्शन (तर्क)...
पूना पैक्ट : दलित राजनीति में चमचा युग की शुरूआत
कांशीराम का मानना था कि 24 सितंबर 1932 को गांधी ने आंबेडकर को पूना पैक्ट के लिए बाध्य...
और आलेख