h n

राष्ट्रपति ने डीपी यादव की पुस्तक का लोकार्पण किया

पूर्व सांसद स्व. डीपी यादव की पुस्तक 'मुंगेर थ्रू द ऐजेज' का लोकार्पण सात अगस्त को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने किया

नई दिल्ली : पूर्व सांसद स्व. डीपी यादव की पुस्तक ‘मुंगेर थ्रू द ऐजेज’ का लोकार्पण सात अगस्त को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने किया। राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में प्रणब मुखर्जी ने कहा कि अपने घनिष्ठ मित्रों के बीच वे ‘डीपी’ के नाम से पुकारे जाते थे। राष्ट्रपति मुखर्जी ने कहा कि ‘डीपी’ ने एक प्रमुख कांग्रेसजन के रूप में, बिहार के मुंगेर जिले का संसद में प्रतिनिधित्व करने के दौरान, विभिन्न पदों पर रहकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन तो किया ही, साथ ही उन्होंने इफको के अध्यक्ष के रूप में अपनी प्रशासनिक कुशलता का भी परिचय दिया।

इस मौके पर सांसद कर्ण सिंह ने डीपी यादव से संबंधित संस्मरण सुनाए। इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार, सांसद जय प्रकाश नारायण यादव, पूर्व केन्द्रीय मंत्री मोहसिना किदवई, सांसद डा. प्रसन्न कुमार पटसाणी, पूर्व सांसद संजय भाई तथा इफको के प्रबंध निदेशक डा. उदय शंकर अवस्थी उपस्थित थे। इस पुस्तक के शोधकार्य में यादव की सहायता करने वाले उनके सबसे छोटे पुत्र ब्रिजेन्दु कुमार ने बताया कि इस कार्य में उनके पिता ने अपना पूरा समय तथा शक्ति लगाई थी।

 

(फारवर्ड प्रेस के सितम्बर 2014 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें :

महिषासुर : मिथक व परंपराएं

चिंतन के जन सरोकार 

महिषासुर : एक जननायक

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

पुनर्पाठ : सिंधु घाटी बोल उठी
डॉ. सोहनपाल सुमनाक्षर का यह काव्य संकलन 1990 में प्रकाशित हुआ। इसकी विचारोत्तेजक भूमिका डॉ. धर्मवीर ने लिखी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि...
कबीर पर एक महत्वपूर्ण पुस्तक 
कबीर पूर्वी उत्तर प्रदेश के संत कबीरनगर के जनजीवन में रच-बस गए हैं। अकसर सुबह-सुबह गांव कहीं दूर से आती हुई कबीरा की आवाज़...
पुस्तक समीक्षा : स्त्री के मुक्त होने की तहरीरें (अंतिम कड़ी)
आधुनिक हिंदी कविता के पहले चरण के सभी कवि ऐसे ही स्वतंत्र-संपन्न समाज के लोग थे, जिन्हें दलितों, औरतों और शोषितों के दुख-दर्द से...
पुस्तक समीक्षा : स्त्री के मुक्त होने की तहरीरें (पहली कड़ी)
नूपुर चरण ने औरत की ज़ात से औरत की ज़ात तक वही छिपी-दबी वर्जित बात ‘मासिक और धर्म’, ‘कम्फर्ट वुमन’, ‘आबरू-बाखता औरतें’, ‘हाँ’, ‘जरूरत’,...
‘अगर हमारे सपने के केंद्र में मानव जाति के लिए प्रेम है, तो हमारा व्यवहार भी ऐसा होना चाहिए’
गेल ऑम्वेट गांव-गांव जाकर शोध करती थीं, उससे जो तथ्य इकट्ठा होता था, वह बहुत व्यापक था और बहुत लोगों से जुड़ा होता था।...