पाश की कविता का नाट्य रूपांतरण

”खेतां दा पुत” के लेखक और कलाकार राणा रणबीर ने बताया कि आम लोगों के हक की बात करने वाले कम कवि हुए है, जिनमें पाश भी एक हैं.

बठिंडा (पंजाब) : पंजाबी के क्रांतिकारी कवि अवतार सिंह पाश की जयंती 9 सितंबर को पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय, बठिंडा में ”खेतां दा पुत” नाटक का मंचन किया गया। यह बठिंडा (पंजाब)। पंजाबी के क्रांतिकारी कवि अवतार सिंह पाश की जयंती 9 सितंबर को पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय, बठिंडा में ”खेतां दा पुत” नाटक का मंचन किया गया। यह नाटक पाश की कविता, जीवन, डायरी व उनके खेत खलिहान पर आधारित है। नाटक की शुरूआत पाश की लिखी कविता ‘सपने हर किसी को नही आते’ से होती है. यह नाटक पाश के समाज, परिवार, किसान, व मजदूर के प्रति सोच को रेखांकित करता है। नाटक देखनेवालों के सामने पाश की जीवंत छवि बनती है. पाश की लेखनी में जितने तेवर हैं, अपने जीवन में भी वे उसी तरह के थे. नाटक के अंत में पाश को खालिस्तानियों द्वारा गोलियों से भूनने के दृश्य के वक्त पाश की कविता दर्शकों को भावविभोर कर गई.

”खेतां दा पुत” के लेखक और कलाकार राणा रणबीर ने बताया कि आम लोगों के हक की बात करने वाले कम कवि हुए है, जिनमें पाश भी एक हैं. नाटक शुरू होने से पहले कुलपति प्रो. आर के कोहली ने साहित्य के समाजिक महत्व पर प्रकाश डाला. उसके बाद प्रो. चमन लाल ने पाश के साथ बिताये अपने अनुभवों को साँझा किया.

(फारवर्ड प्रेस के  दिसम्बर 2014 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

About The Author

Reply