h n

‘अधिकांश स्वर्णकार कारीगर-मजदूर हैं’

संत नरहरी सोनार की जयंती, 'अधिकार महारैली' के रुप में गर्दनीबाग पटना में 3 फरवरी को मनाई गयी। महारैली में विभिन्न जिलों से करीब दस हजार लोग पहुंचे

6औरंगाबाद (बिहार): संत नरहरी सोनार की जयंती, ‘अधिकार महारैली’ के रुप में गर्दनीबाग पटना में 3 फरवरी को मनाई गयी। महारैली में विभिन्न जिलों से करीब दस हजार लोग पहुंचे। इस अवसर पर बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि स्वर्णकारों का व्यवसाय काफी संघर्षपूर्ण है। उन्होंने कहा कि स्वर्णकारों को धनी माना जाता है मगर धनवानों से दस गुना अधिक कारीगर हैं, जो मजदूर हैं। जदयू नेता ललन सर्राफ ने कहा कि स्वर्णकारों की अति पिछडी जातियों में शामिल किये जाने की मांग जायज है। इन्हें पिछडा वर्ग की सूची के हटाकर अति पिछडा वर्ग में रखा जाना चाहिए। इस अवसर पर एक स्मारिका का भी विमोचन किया गया। समारोह में ‘स्वर्णकार समाज विकास एवं शोध संस्थान’ के राष्ट्रीय अध्यक्ष किरण वर्मा, प्रदेश अध्यक्ष अरुण वर्मा एवं महासचिव अशोक वर्मा भी उपस्थित थे।

(फारवर्ड प्रेस के मार्च, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

उपेंद्र कश्‍यप

पत्रकार उपेंद्र कश्‍यप ने अपनी रिर्पोटों के माध्‍यम से बिहार के शाहाबाद क्षेत्र की अनेक सांस्‍कृतिक-सामाजिक विशिष्‍टताओं को उजागर किया है। जिउतिया के बहुजन कला-पक्ष को सर्वप्रथम सामने लाने का श्रेय भी इन्‍हें प्राप्‍त है

संबंधित आलेख

क्रिसमस : सभी प्रकार के दमन के प्रतिकार का उत्सव
यह प्रतीत होता है कि ‘ओ होली नाईट’ राजनैतिक प्रतिरोध का गीत था। ज़रा कल्पना करें कि गृहयुद्ध के पहले के कुछ सालों में...
छेल्लो शो : परदे पर ईडब्ल्यूएस
यह फिल्म, जिसे 95वें ऑस्कर पुरस्कारों के लिए बेस्ट इंटरनेशनल फीचर श्रेणी में भारत की आधिकारिक प्रविष्टि के रूप में चुना गया है, में...
सहजीवन : बदलते समाज के अंतर्द्वंद्व के निहितार्थ
विवाह संस्था जाति-धर्म की शुद्धता को बनाये रखने का एक तरीका मात्र है, इसलिए समाज उसका हामी है और इसलिए वह ऐसे जोड़ों की...
यात्रा संस्मरण : वैशाली में भारत के महान अतीत की उपेक्षा
मैं सबसे पहले कोल्हुआ गांव गयी, जहां दुनिया के सबसे प्राचीन गणतंत्र में से एक राजा विशाल की गढ़ी है। वहां एक विशाल स्नानागार...
शैक्षणिक बैरभाव मिटाने में कारगर हो सकते हैं के. बालगोपाल के विचार
अपने लेखन में बालगोपाल ने ‘यूनिवर्सल’ (सार्वभौमिक या सार्वत्रिक) की परिकल्पना की जो पुनर्विवेचना की है, उसे हम विद्यार्थियों और शिक्षाविदों को समझना चाहिए।...