h n

हरियाणा में अनुसूचित जातियों के लिए पदोन्नति में आरक्षण

अनुसूचित जातियों में पिछड़ेपन के अध्ययन के लिए बनाई गई एक समिति की रपट स्वीकार करने के बाद, हरियाणा मंत्रिमंडल ने अनुसूचित जातियों को पदोन्नति में आरक्षण देने का निर्णय किया है

1चंडीगढ़। अनुसूचित जातियों में पिछड़ेपन के अध्ययन के लिए बनाई गई एक समिति की रपट स्वीकार करने के बाद, हरियाणा मंत्रिमंडल ने अनुसूचित जातियों को पदोन्नति में आरक्षण देने का निर्णय किया है। हरियाणा के वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने बताया कि अतिरिक्त मुख्य सचिव पी. राघवेंद्र राव की अध्यक्षता वाली समिति की रपट, सरकारी विभागों व सार्वजनिक क्षेत्र के प्रतिष्ठानों द्वारा उपलब्ध करवाये गये आंकड़ों पर आधारित है। समिति ने ग्रुप ए, बी, सी व डी के सभी 3,81,847 कर्मचारियों से संबंधित आंकड़ों का विस्तृत विश्लेषण किया और इस नतीजे पर पहुंची कि सरकारी सेवाओं में अनुसूचित जातियों का प्रतिनिधित्व, आबादी में उनके हिस्से की तुलना में कम है।

(फारवर्ड प्रेस के मार्च, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, संस्कृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

हिजाब और अशराफ़िया पितृसत्ता
पूरी अशराफ़िया राजनीति ज़ज़्बाती मुद्दों की राजनीति रही है। सैकड़ों सालों से यह अपनी संस्कृति, अपनी भाषा, अपने पहनावे को पूरे मुस्लिम समाज की...
राजनीति की बिसात पर धर्म और महिलाएं
पिछले सौ सालों में समाज और परिवेश धीरे-धीरे बदला है। स्त्रियां घर से बाहर निकलकर आत्मनिर्भर हुई हैं, पर आज भी पढ़ी-लिखी स्त्रियों का...
भगत सिंह की दृष्टि में सांप्रदायिक दंगों का इलाज
भगत सिंह का यह तर्क कि भूख इंसान से कुछ भी करा सकती है, स्वीकार करने योग्य नहीं है। यह गरीबों पर एक ऐसा...
भगत सिंह की दृष्टि में ‘अछूत’ और उसकी पृष्ठभूमि
वास्तव में भगत सिंह की प्रशंसा होनी चाहिए कि उन्होंने एक बड़ी आबादी को अछूत बनाकर रखने के लिए हिंदुओं और उनके ब्राह्मणवादी दर्शन...
मोदी दशक में ब्राह्मणवादियों के निशाने पर रहा हिंदी सिनेमा
सनद रहे कि यह केवल एक-दो या तीन फिल्मों का मसला भर नहीं है। हकीकत तो यह है कि 2014 में केंद्र में मोदी...