h n

दलित बहुजन पेज 3 : फरवरी 2016

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने 10 जनवरी को 'विश्व हिन्दी दिवस' के अवसर पर डीजी वैष्णव कॉलेज में तमिलनाडु हिन्दी साहित्य अकादमी द्वारा आयोजित कार्यक्रम में डॉ. सुनील कुमार परीट को 'सुरेशचंद्र कुशवाहा सहस्राक्ष सम्मान' से सम्मानित किया

डॉ. सुनील परीट सम्मानित

चेन्नई : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने 10 जनवरी को ‘विश्व हिन्दी दिवस’ के अवसर पर डीजी वैष्णव कॉलेज में तमिलनाडु हिन्दी साहित्य अकादमी द्वारा आयोजित कार्यक्रम में डॉ. सुनील कुमार परीट को ‘सुरेशचंद्र कुशवाहा सहस्राक्ष सम्मान’ से सम्मानित किया। कार्यक्रम में अकादमी अध्यक्ष रमेश गुप्त नीरद, महासचिव डॉ. मधु धवन, पी. हरिदास, डॉ. पी. के. बालसुब्रह्मण्यन, राजलक्ष्मी राजन आदि उपस्थित थे। डॉ. सुनील परीट, कर्नाटक के प्रसिद्ध हिन्दी-कन्नड़ साहित्यकार व हिन्दी प्रचारक हैं। उन्हें अभी तक 60 से अधिक सम्मान-पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं। उनकी छ: पुस्तकें प्रकाशित हैं।

sunil-parit-1-1024x768

अधिवेशन में आए बड़ी संख्या में मूलनिवासी

हैदराबाद : बामसेफ एवं राष्ट्रीय मूल निवासी संघ का 32वाँ एवं भारत मुक्ति मोर्चा का 5वाँ संयुक्त राष्ट्रीय अधिवेशन 25 से 29 दिसंबर 2015 तक हैदराबाद (तेलांगना) नें संपन्न हुआ, जिसमें देश भर से बड़ी संख्या में मूलनिवासी बहुजन समाज के लोगों ने भाग लिया।

bamsef_dhanbad-1-e1479154870644

आबादी के अनुरूप आरक्षण की मांग

भदोही (उत्तरप्रदेश) : 52 प्रतिशत ओबीसी के लिए 52 प्रतिशत आरक्षण की मांग सहित 12-सूत्रीय मांगों को लेकर बहुजन मुक्ति पार्टी और गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के संयुक्त बैनर तले एक दिवसीय धरने का आयोजन यहाँ किया गया। 16 जनवरी को यह धरना डा. विनोद सम्राट मौर्य, डा. महेंद्र कुमार गोंड और आरपी मौर्य के नेतृत्व में दिया गया। मांगें जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को भेजी गईं। -विनय कुमार

(फारवर्ड प्रेस के फरवरी, 2016 अंक में प्रकाशित )

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

फुले-आंबेडकरवादी आंदोलन के विरुद्ध है मराठा आरक्षण आंदोलन (दूसरा भाग)
मराठा आरक्षण आंदोलन पर आधारित आलेख शृंखला के दूसरे भाग में प्रो. श्रावण देवरे बता रहे हैं वर्ष 2013 में तत्कालीन मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण...
अनुज लुगुन को ‘मलखान सिंह सिसौदिया सम्मान’ व बजरंग बिहारी तिवारी को ‘सत्राची सम्मान’ देने की घोषणा
डॉ. अनुज लुगुन को आदिवासी कविताओं में प्रतिरोध के कवि के रूप में प्रसिद्धि हासिल है। वहीं डॉ. बजरंग बिहारी तिवारी पिछले करीब 20-22...
गोरखपुर : दलित ने किया दलित का उत्पीड़न, छेड़खानी और मार-पीट से आहत किशोरी की मौत
यह मामला उत्तर प्रदेश पुलिस की असंवेदनशील कार्यशैली को उजागर करता है, क्योंकि छेड़खानी व मारपीट तथा मौत के बीच करीब एक महीने के...
फुले-आंबेडकरवादी आंदोलन के विरुद्ध है मराठा आरक्षण आंदोलन (पहला भाग)
महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण आंदोलन राजनीतिक और सामाजिक प्रश्नों को जन्म दे रहा है। राजनीतिक स्तर पर अब इस आंदोलन के साथ दलित राजनेता...
ब्रह्मेश्वर मुखिया हत्याकांड : बिहार की भूमिहार राजनीति में फिर नई हलचल
भोजपुर जिले में भूमिहारों की राजनीति अब पहले जैसी नहीं रही। एक समय सुनील पांडे और उसके भाई हुलास पांडे की इस पूरे इलाके...