h n

नोटबंदी से राहत देता एक एप्प

वेबसाइट और ऐप, एटीएम इस्तेमाल कर रहे लोगों द्वारा दी गयी जानकारी के आधार पर यह बतातीं है कि किस एटीएम में पैसा है और किस में नहीं और कहाँ कितनी बड़ी क़तार है

गत 8 नवम्बर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा रु 500 और रु 1000 के नोटों को चलन से बाहर किये जाने की घोषणा के बाद से ही, आम आदमी नगदी के लिए हैरान-परेशान है। बैंकों में पुराने नोट बदलने और जमा करने के लिए लम्बी-लम्बी लाईनें लगीं हैं। एटीएम बंद पड़े हैं। जब भी उनमें नगदी रखी जाती है, ज़रा देर में वहां भारी भीड़ इकठ्ठा हो जाती है और कुछ ही घंटों में लोग उन्हें खाली कर देते हैं। यह तो हुई बड़े शहरों की बात। ग्रामीण भारत में हालात और ख़राब हैं जहाँ मीलों तक बैंक और एटीएम हैं ही नहीं।

unnamed-9

दो युवाओं मंजुनाथ तलवार और अभिजीत खास्निस ने लोगों की परेशानी कुछ कम करने के लिए कुईकर वेबसाइट के साथ मिलकर केशनोकेश डॉट कॉम नामक वेबसाइट बनायी, जो नवंबर 12 को काम करने लगी। जल्दी ही उन्होंने इसी नाम से स्मार्टफ़ोनों के लिए ऐप भी जारी कर दिया। वेबसाइट और ऐप, एटीएम इस्तेमाल कर रहे लोगों द्वारा दी गयी जानकारी के आधार पर यह बतातीं है कि किस एटीएम में पैसा है और किस में नहीं और कहाँ कितनी बड़ी क़तार है। अगर आप यह जानना चाहते हैं कि किस एटीएम से आप रुपये 2, 500 पाने की उम्मीद रख सकते हैं, तो गूगल प्ले स्टोर से यह ऐप डाउनलोड करें, अपना पिनकोड टाइप करें और शुरू हो जायें।

इसके अलावा, पेटीएम, फ्रीचार्ज और मोबीक्विक जैसी ऑनलाइन सेवाएं भी उपलब्ध हैं, जिनसे आप नगदी पर अपनी निर्भरता कम कर सकते हैं। भारतीय रिज़र्व बैंक ने ऑनलाइन वॉलेट का उपयोग करने वालों के लिए लेनदेन की उच्चतम सीमा रु 10,000 प्रतिमाह से बढ़ा कर रु  20,000 प्रतिमाह कर दी है।


 फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

बहस-तलब : बाबाओं को क्यों बचाना चाहती है भारतीय मीडिया?
यह तो अब आम बात है कि बाबाओं की बड़ी फौज देश मे हर प्रदेश में खड़ी हो गई है। अब उनके पास न...
‘रामचरितमानस’ और जातिगत जनगणना के परिप्रेक्ष्य में बौद्धिक और सियासी कूपमंडूकता
जिस तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं, उससे हिंदी क्षेत्र की राजनीति और विमर्शों की संकीर्ण दुनियाओं का अंदाजा लगाया जा सकता है।...
दलित-बहुजन यायावर की भूटान यात्रा (दूसरा भाग)
लखांग (मठ) की स्थापना सारी वर्जनाओं को तोड़ने वाले दिव्य पागल पुरुष लामा ड्रुकपा किनले को समर्पित है। यहां विदेशी पर्यटकों के अलावा मुख्यतः...
संतुलित विकास हेतु आवश्यक है जातिवार जनगणना
आवश्यक है कि देश में जातिवार जनगणना के जरिए जातियों के अंदर ध्रुवीकरण और पिछड़ापन का आकलन सही-सही किया जाय, जिससे जरूरतमंद को आवश्यक...
‘कन्तारा’ : हिंदूवादी शिकंजे में आदिवासियत
आदिवासी समाज को रहस्यात्मक अनुष्ठानों तक सीमित करके समझना या उनका अति महिमामंडन करना कोई नई बात नहीं है। उनके असली मुद्दों पर बहुत...