h n

कांग्रेस, बसपा, सपा और राजद जान लें कि बीच का कोई रास्ता नहीं होता!

कांग्रेस, सपा-बसपा और राजद जैसी विपक्षी पार्टियां संघ और उसकी विचाराधारा को देश एवं समाज के लिए गंभीर खतरा कहती हैं, लेकिन सच तो यह है कि इन पार्टियों के पास भी संघ को चुनौती देने वाली कोई विचारधारा नहीं है। बता रहे हैं कंवल भारती :

मिथकों और किंवदंतियों में आता है कि जब शूद्र तप करता है, या असुर दहाड़ता है, तो ब्राह्मण-राज इंद्र का सिंहासन हिलने लगता है।मैं यह तो नहीं कहूँगा कि राहुल गाँधी शूद्र या असुर हैं, पर लन्दन में आरएसएस (संघ) के खिलाफ उन्होंने जो हुंकार भरी है, उससे संघ का सिंहासन भले ही न हिला हो, पर उसके मुखिया जरूर हिल गए हैं। परिणामत: राहुल पर चौतरफा हमला शुरू हो गया है। उसे नादान,नासमझ, सुपारी लेकर देश को बदनाम करने वाला और देशद्रोही सब कुछ कहा जा रहा है। निस्संदेह, राहुल गाँधी ने सात समन्दर पार के मुल्कों में संघ की असलियत बता कर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के उस झूठ का पर्दाफ़ाश कर दिया है, जो वहां भारत की झूठी तस्वीर पेश करके आते हैं। राहुल की वाकई तारीफ करनी होगी कि जो बात भारत में भी कोई कहने की हिम्मत नहीं जुटा सका, वह बेधड़क होकर राहुल ने लन्दन में कह दी कि संघ कई देशों में प्रतिबंधित मुस्लिम ब्रदरहुड जैसा संगठन है, जिसका काम गैर-हिन्दुओं में दहशत फैलाना है, और वह भारत की सभी संवैधानिक संस्थाओं पर कब्ज़ा करके यहाँ के लोकतंत्र को समाप्त करने में लगा हुआ है।

पूरा आर्टिकल यहां पढें कांग्रेस, बसपा, सपा और राजद जान लें कि बीच का कोई रास्ता नहीं होता!

 

लेखक के बारे में

कंवल भारती

कंवल भारती (जन्म: फरवरी, 1953) प्रगतिशील आंबेडकरवादी चिंतक आज के सर्वाधिक चर्चित व सक्रिय लेखकों में से एक हैं। ‘दलित साहित्य की अवधारणा’, ‘स्वामी अछूतानंद हरिहर संचयिता’ आदि उनकी प्रमुख पुस्तकें हैं। उन्हें 1996 में डॉ. आंबेडकर राष्ट्रीय पुरस्कार तथा 2001 में भीमरत्न पुरस्कार प्राप्त हुआ था।

संबंधित आलेख

कह रहे प्रयागराज के बहुजन, कांग्रेस, सपा और बसपा एकजुट होकर चुनाव लड़े
राहुल गांधी जब भारत जोड़ो न्याय यात्रा के क्रम में प्रयागराज पहुंचे, तब बड़ी संख्या में युवा यात्रा में शामिल हुए। इस दौरान राहुल...
उत्तर प्रदेश में राम के बाद कल्कि के नाम पर एक और धार्मिक ड्रामा शुरू
एक भगवाधारी मठाधीश ने हमारे प्रधानमंत्री को कल्कि भगवान के मंदिर के लिए भूमि-पूजन का न्यौता दिया, और उन्होंने तुरंत स्वीकार कर लिया, पलट...
महाराष्ट्र : दो अधिसूचनाओं से खतरे में एससी, एसटी और ओबीसी का आरक्षण, विरोध जारी
सरकार ने आरक्षण को लेकर 27 दिसंबर, 2023 और 26 जनवरी, 2024 को दो अधिसूचनाएं जारी की। यदि ये अधिसूचनाएं वास्तव में लागू हो...
महाराष्ट्र को चाहिए ‘कर्पूरी ठाकुर’
आज महाराष्ट्र फुले-शाहू-आंबेडकर की भूमि नहीं रह गई है। मौजूदा एकनाथ शिंदे सरकार ओबीसी का आरक्षण लूटकर नष्ट करने के लिए निकली है। ऐसे...
लोकसभा चुनाव : कसौटी पर होगा आंबेडकरवाद
2025 आरएसएस का शताब्दी वर्ष है। सौवें साल से पहले संघ अपने हिंदू राष्ट्र के सपने को पूरा करना चाहता है। नरेंद्र मोदी संघ...