h n

एलेनर जेलिअट की नज़र में डॉ. आंबेडकर

एलेनर जेलिअट की किताब ‘आंबेडकर्स वर्ल्ड : द मेकिंग ऑफ़ बाबासाहेब एंड द दलित मूवमेंट’ डॉ. आंबेडकर के जीवन के सामाजिक-राजनीतिक पक्षों एक विस्तृत और गंभीर अध्ययन प्रस्तुत करती है। यह पूरा अध्ययन प्रमाणिक तथ्यों और संदर्भों से युक्त है। डॉ. आंबेडकर को समझने के लिए यह एक जरूरी किताब है। यशवंत ज़गाडे :

एलेनर जेलिअट ने 1960 के दशक में आंबेडकर पर जो शोध पत्र लिखा उसका विषय था आंबेडकर्स वर्ल्ड : द मेकिंग ऑफ़ बाबासाहेब एंड द दलित मूवमेंट। यही उनकी पी.एच.डी. का थीसिस भी था। उनका यह शोधपत्र हमें एक इतिहासकार की दृष्टि से आंबेडकर के जीवन और दलित आन्दोलन के बारे में विस्तार से बताता है। उनकी यह पुस्तक आज भी एक महत्त्वपूर्ण कृति है क्योंकि बाबासाहेब के नहीं रहने के बाद दलित आन्दोलन पर लिखा गया यह पहला अकादमिक शोध था। इस शोधपत्र ने इस आन्दोलन के इतिहास को वैश्विक पाठकों तक पहुंचा दिया क्योंकि इसकी भाषा (अंग्रेजी) सरल और प्रांजल थी।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : एलेनर जेलिअट की नज़र में डॉ. आंबेडकर

लेखक के बारे में

यशवंत ज़गाडे

यशवंत ज़गाडे टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस, मुंबई में पीएचडी कर रहे हैं

संबंधित आलेख

पुनर्पाठ : सिंधु घाटी बोल उठी
डॉ. सोहनपाल सुमनाक्षर का यह काव्य संकलन 1990 में प्रकाशित हुआ। इसकी विचारोत्तेजक भूमिका डॉ. धर्मवीर ने लिखी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि...
कबीर पर एक महत्वपूर्ण पुस्तक 
कबीर पूर्वी उत्तर प्रदेश के संत कबीरनगर के जनजीवन में रच-बस गए हैं। अकसर सुबह-सुबह गांव कहीं दूर से आती हुई कबीरा की आवाज़...
पुस्तक समीक्षा : स्त्री के मुक्त होने की तहरीरें (अंतिम कड़ी)
आधुनिक हिंदी कविता के पहले चरण के सभी कवि ऐसे ही स्वतंत्र-संपन्न समाज के लोग थे, जिन्हें दलितों, औरतों और शोषितों के दुख-दर्द से...
पुस्तक समीक्षा : स्त्री के मुक्त होने की तहरीरें (पहली कड़ी)
नूपुर चरण ने औरत की ज़ात से औरत की ज़ात तक वही छिपी-दबी वर्जित बात ‘मासिक और धर्म’, ‘कम्फर्ट वुमन’, ‘आबरू-बाखता औरतें’, ‘हाँ’, ‘जरूरत’,...
‘अगर हमारे सपने के केंद्र में मानव जाति के लिए प्रेम है, तो हमारा व्यवहार भी ऐसा होना चाहिए’
गेल ऑम्वेट गांव-गांव जाकर शोध करती थीं, उससे जो तथ्य इकट्ठा होता था, वह बहुत व्यापक था और बहुत लोगों से जुड़ा होता था।...