मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

इस किताब की लेखिका कैथरीन मेयो हैं। यह 1927 में अंग्रेजी में प्रकाशित किताब का पहला मुकम्मल हिंदी अनुवाद है। विभिन्न पुस्तक विक्रेताओं और ई-कामर्स वेबसाइटों पर उपलब्ध। विशेष छूट! शीघ्र आर्डर करें

850 रुपए (सजिल्द), 350 रुपए (अजिल्द)

ऑनलाइन खरीदें : अमेजन

थोक खरीद के लिए संपर्क : (मोबाइल) : 7827427311, (ईमेल) : fpbooks@forwardpress.in

1927 में प्रकाशित कैथरीन मेयो की किताब ‘मदर इंडिया’ ने भारतीय समाज में शूद्रों और महिलाओं की क्या स्थिति है, इसको दुनिया के सामने उजागर किया। इस किताब में दिए गए तथ्य और विवरण आंखें खोल देने वाले हैं। यह कैथरीन मेयो का आंखों-देखा विवरण है। यह किताब बताती है कि भारतवासी अपने ही भाई-बंधुओं और महिलाओं के साथ कैसा बुरा बर्ताव करते हैं और एक आम भारतीय का जीवन कितने दु:खों से भरा हुआ है। यह किताब हिंदू धर्म एवं संस्कृति पर हमला करती है, यह कहकर सवर्ण जाति के राष्ट्रवादी नेताओं ने इसकी निंदा की। निंदा करने वालों में गांधी भी शामिल थे। कंवल भारती ने इसका अनुवाद करके एक महत्वपूर्ण कार्य को अंजाम दिया है – जे. वी. पवार, दलित पैंथर्स के संस्थापकों में से एक

मदर इंडिया का कवर पृष्ठ

कँवल भारती ने कैथरीन मेयो की मदर इंडिया का एक सुपाठ्य और संप्रेषणीय अनुवाद करके एक ऐतिहासिक जरूरत की पूर्ति की है। यह एक चुनौतीभरा काम था, जिसे कँवल भारती जैसा जीवट आदमी ही कर सकता था। इस किताब में भारतीय समाज की उन सच्चाइयों को दुनिया के सामने उजागर किया है, जिन सच्चाइयों को फुले, आंबेडकर और पेरियार ने अपने तरीके से उजागर किया। पेरियार ने इसे एक जरूरी किताब के रूप में रेखांकित किया है। डॉ. आंबेडकर की रचनाओं में भी इसका जिक्र आया है। जो कोई भी बेहतर भारत के निर्माण का सपना देखता है, उसे यह किताब जरूर पढ़नी चाहिए  – मोहनदास नैमिशराय

कहां से खरीदें

थोक खरीदने के लिए fpbooks@forwardpress.in पर ईमेल करें या 7827427311 पर कार्यालय अवधि (सुबह 11 बजे से लेकर शाम सात बजे तक) फोन करें

अमेजन से खरीदें

https://www.amazon.in/dp/9387441261?ref=myi_title_dp

About The Author

Reply