संत अय्यंकाली : सामाजिक क्रांति के अग्रदूत

लेखक ओमप्रकाश कश्यप बता रहे हें कि किस तरह की परिस्थितियों का सामना कर संत अय्यंकाली ने केरल में दलित जातियों को गोलबंद किया और उन्हें राजनीतिक, शैक्षणिक और सामाजिक स्तर पर मजबूत बनाया

अय्यंकाली (28 अगस्त 1863 – 18 जून 1941) पर विशेष

मैंने पढ़े हैं कई सभ्यताओं के इतिहास

खोजा है, देश-प्रदेश के प्रत्येक इतिहास में

कहीं, कुछ भी नहीं मिला मेरी जाति पर

पृथ्वी पर नहीं कोई ऐसा कलमकार

जो लिखे मेरी जाति का इतिहास

जिसे डुबा दिया गया है रसातल में

जो खो चुकी है

इतिहास की अतल गहराइयों में

पोईकायल योहान्नमलयाली कवि

इतिहास सभ्यता का ऐसा दर्पण है, जो सिर्फ सतह से ऊपर देखता है। इसलिए उसमें राजा-महाराजों के ऐश्वर्य राग, लड़ाइयां, स्वामीभक्ति और बुजदिली के किस्से, रणनीति और राजनीति, षड्यंत्र और विश्वासघात—यही सब दिखाई पड़ते हैं। इतिहास उन स्वेद-बिंदुओं की गिनती याद नहीं रखता जो खेती करने वाले किसान, मजदूर इसलिए बहाते हैं, ताकि राजा-महाराजाओं के अन्न-भंडार भरे रहें। उनके मंत्रियों, सिपहसालारों के चेहरे दिपदिपाते रहें। वह देवताओं और पैगंबरों के किस्सों को सहेजता है। जाति, धर्म और सांप्रदायिकता के नाम पर हुए दमन के उन किस्सों को भूल जाता है, जो जमीन के लोगों के हिस्से आते हैं। इसलिए ऐरिक हॉब्सबाम ने सलाह दी थी कि इतिहास को केवल उन सवालों के माध्यम से याद करना चाहिए जो हम उसे लेकर उठा सकते हैं—उस रूप मेंजिसपरहम इतिहासकारों का भरोसा हो। इतिहास का ऐसा वस्तुनिष्ट सत्य, जिसे सवालों के जरिये जांचापरखा जा सके। ठीक उस तरह जैसे हमउसे परखना चाहते हैं।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : संत अय्यंकाली : सामाजिक क्रांति के अग्रदूत

 

 

 

 

About The Author

Reply