इस किताब में पढ़ें, जाति को लेकर क्या थी कबीर की राय?

फारवर्ड प्रेस द्वारा प्रकाशित ‘जाति के प्रश्न पर कबीर’ पुस्तक लिखने की जरूरत कमलेश वर्मा को क्यों पड़ी। इस संबंध में वे बताते हैं कि कबीर केवल वर्णाश्रम के विरोधी कवि नहीं हैं, वे जातिवाद के केवल भावुक विरोधी नहीं हैं; बल्कि समाज की निर्मिति में जातियों की भूमिका पर विचार करनेवाले कवि हैं

कबीर की कविताएँ जातियों के विवरण और विन्यास के माध्यम से अनेक बातें कहती हैं. वे अपने परिवेश में जातियों की सामाजिक स्थिति को बखूबी समझते हुए भक्तिपरक बातें करते हैं. उन्हें जरा भी भ्रम नहीं है कि जातियों की असलियत क्या है? ‘जाति के प्रश्न पर कबीर’ पुस्तक में कबीर से सम्बन्धित उन प्रश्नों पर विचार किया गया है जिनका जुड़ाव ‘जाति’ से है.

पूरा आर्टिकल यहां पढें : इस किताब में पढ़ें, जाति को लेकर क्या थी कबीर की राय?

About The Author

Reply