h n

नवदीप कौर के बाद अब निशाने पर निर्देश सिंह, 2 अप्रैल, 2018 ‘भारत बंद’ मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी

पिछले कुछ दिनों से निर्देश सिंह द्वारा संचालित सावित्रीबाई फुले पाठशाला की चर्चा लगातार मीडिया विमर्श के केंद्र में रहा है। साथ ही, इस पाठशाला में किसानों के बच्चों के साथ साथ दलित-बहुजन समाज के कूड़ा बीनने वाले बच्चों के पढ़ने आने के कारण किसान आंदोलन दलित-बहुजन समाज तक पहुंचने में कामयाब रहा है। सरकार को अब यह रास नहीं आ रहा। बता रहे हैं सुशील मानव

तीन महीने से अधिक समय से चल रहे किसान आंदोलन को दबाने के लिए केंद्र सरकार मुकदमों का सहारा ले रही है। पहले किसान नेताओं के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए गए। जब सरकार उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकी तब उसने आंदोलन से जुड़े सामाजिक कार्यकर्ताओं व स्वतंत्र रूप से रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकारों को अपना निशाना बनाया।इस क्रम में दलित सामाजिक व मानवाधिकार कार्यकर्ता नवदीप कौर, शिव कुमार और मनदीप पुनिया आदि गिरफ्तार किए गए तथा नवदीप और शिव कुमार पुलिस की अमानवीय यातनाओं के शिकार हुए। बाद में इन तीनों को अदालत ने जमानत दी। अब इस कड़ी में अगला नाम है निर्देश सिंह का जो पिछले ढाई महीने से गाजीपुर बार्डर पर सावित्रीबाई फुले पाठशाला चला रही हैं। उनके खिलाफ तीन साल पहले दर्ज एक मुकदमे के सिलसिले में गिरफ्तारी का वारंट जारी किया गया है।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से निर्देश सिंह द्वारा संचालित सावित्रीबाई फुले पाठशाला की चर्चा लगातार मीडिया विमर्श के केंद्र में रहा है। साथ ही, इस पाठशाला में किसानों के बच्चों के साथ साथ दलित-बहुजन समाज के कूड़ा बीनने वाले बच्चों के पढ़ने आने के कारण किसान आंदोलन दलित बहुजन समाज तक पहुंचने में कामयाब रहा है। इस तरह यह पाठशाला मीडिया के उस इकहरे नैरेटिव को तोड़ने में कामयाब रहा ,जो अब तक किसान आंदोलन को अमीर किसानों का आंदोलन बता रहा था। 

गाजीपुर बार्डर पर स्थापित सावित्रीबाई फुले पाठशाला में बच्चों को पढ़ातीं निर्देश सिंह

ध्यातव्य है कि कृषि क्षेत्र में मजदूरी करने वाले 80 से 90 प्रतिशत मजदूर दलित बहुजन-समाज से ताल्लुक रखते हैं। निर्देश सिंह, नवदीप कौर और शिव कुमार जैसे दलित सामाजिक कार्यकर्ताओं ने किसान आंदोलन को हरियाणा और पंजाब से निकालकर उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड के दूर दराज के जिलों तक फैला दिया है। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि इसी बात से घबराकर केंद्र सरकार किसान आंदोलन से जुड़े दलित कार्यकर्ताओं के खिलाफ़ कार्रवाई कर रही है।     

निर्देश सिंह से मिली जानकारी के अनुसार उन्हें 10 मार्च, 2021 को ऐन सावित्रीबाई फुले के महापरिनिर्वाण दिवस के दिन रेलवे न्यायिक दंडाधिकारी की ओर से गिरफ्तारी वारंट भेजा गया है। यह वारंट तीन साल पहले एससी-एसटी एट्रोसिटी एक्ट को न्यायपालिका के द्वारा कमजोर किए जाने के खिलाफ़ 2 अप्रैल, 2018 को आहूत ‘भारत बंद’ में शामिल होकर मुरादाबाद में ट्रेन रोकने के आरोप में भेजा गया है। सनद रहे कि निर्देश सिंह को गिरफ़्तारी वारंट ह्वाट्सऐप के जरिए भेजा गया है।  

यह भी पढ़ें : किसान आंदोलन में शिक्षा की लौ जलातीं बहुजन महिलाएं

इस पूरे मामले में निर्देश सिंह बताती हैं कि “उस वक़्त कुछ भी नहीं हुआ था। एफआईआर भी नहीं। तब से मुरादाबाद में तीन इंस्पेक्टर आये और चले गए। पिछले साल इन लोगों ने 127 लोगों का नाम दर्ज कर रखा था, जिनके उपर मुरादाबाद में 2 अप्रैल, 2018 के विरोध प्रदर्शन में भाग लेने का आरोप था। उनमें से अधिकांश छात्र और सरकारी नौकरीपेशा लोगों के नाम थे। तब मैंने बहुत दौड़-धूप कर उन लोगों के नाम कटवाया। साथ ही, मैंने यह भी कहा कि मुरादाबाद में वह आंदोलन मेरे नेतृत्व में हुआ था। यदि आपको कुछ करना है तो मेरे खिलाफ़ करें। तब मुझसे कहा गया था कि कुछ नहीं होगा। कोई केस ही नहीं है किसी के खिलाफ़।”

उन्होंने आगे कहा कि “इन लोगों को सारी परेशानी लोगों के शिक्षित  व जागरूक होने से है। किसान आंदोलन में शामिल हर एक प्रभावशाली व्यक्ति को अलग-अलग तरीके से निशाना बनाया जा रहा है। मेरे खिलाफ़ कार्रवाई करने के लिए इनके पास कोई ठोस कारण नहीं था, तो अब तीन साल पुराने मामले को नये सिरे से खड़ा करके मुझे सलाखों के पीछे भेजने की तैयारी की गई है। लेकिन मुझे गिरफ़्तार करके सरकार न तो किसान आंदोलन को तोड़ पाएगी और ना ही माता सावित्रीबाई फुले द्वारा 200 साल पहले जलाए गये शिक्षा के मशाल को बुझा पाएगी।”

(संपादन : नवल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

सुशील मानव

सुशील मानव स्वतंत्र पत्रकार और साहित्यकार हैं। वह दिल्ली-एनसीआर के मजदूरों के साथ मिलकर सामाजिक-राजनैतिक कार्य करते हैं

संबंधित आलेख

गोरखपुर : दलित ने किया दलित का उत्पीड़न, छेड़खानी और मार-पीट से आहत किशोरी की मौत
यह मामला उत्तर प्रदेश पुलिस की असंवेदनशील कार्यशैली को उजागर करता है, क्योंकि छेड़खानी व मारपीट तथा मौत के बीच करीब एक महीने के...
फुले-आंबेडकरवादी आंदोलन के विरुद्ध है मराठा आरक्षण आंदोलन (पहला भाग)
महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण आंदोलन राजनीतिक और सामाजिक प्रश्नों को जन्म दे रहा है। राजनीतिक स्तर पर अब इस आंदोलन के साथ दलित राजनेता...
ब्रह्मेश्वर मुखिया हत्याकांड : बिहार की भूमिहार राजनीति में फिर नई हलचल
भोजपुर जिले में भूमिहारों की राजनीति अब पहले जैसी नहीं रही। एक समय सुनील पांडे और उसके भाई हुलास पांडे की इस पूरे इलाके...
मध्य प्रदेश : विकास से कोसों दूर हैं सागर जिले के तिली गांव के दक्खिन टोले के दलित-आदिवासी
बस्ती की एक झोपड़ी में अनिता रहती हैं। वह आदिवासी समुदाय की हैं। उन्हें कई दिनों से बुखार है। वह कहतीं हैं कि “मेरी...
लोकसभा चुनाव के बाद उपचुनावों में भी मिली एनडीए को हार
अयोध्या लोकसभा क्षेत्र में हार के सदमे से अभी भाजपा उबरी भी नहीं थी कि उपचुनाव में बद्रीनाथ विधानसभा सीट हारने के बाद सोशल...