author

Sushil Manav

कौन और कैसे रोकेगा विश्वविद्यालयों में छात्राओं के साथ यौन शोषण?
लड़कियों और पिछड़े, दलित, आदिवासी छात्रों को तो वैसे ही उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए तरह-तरह के...
मोदी के दस साल के राज में ऐसे कमजोर किया गया संविधान
भाजपा ने इस बार 400 पार का नारा दिया है, जिसे संविधान बदलने के लिए ज़रूरी संख्या बल...
कौन हैं 60 लाख से अधिक वे बच्चे, जिन्हें शून्य खाद्य श्रेणी में रखा गया है? 
प्रयागराज के पाली ग्रामसभा में लोनिया समुदाय की एक स्त्री तपती दोपहरी में भैंसा से माटी ढो रही...
‘हम पढ़ेंगे लिखेंगे … क़िस्मत के द्वार खुद खुल जाएंगे’  
दलित-बहुजन समाज (चमार जाति ) की सीमा भारती का यह गीत अब राम पर आधारित गीत को कड़ी...
अयोध्या में राम : क्या सोचते हैं प्रयागराज के दलित-बहुजन?
बाबरी मस्जिद ढहाने और राम मंदिर आंदोलन में दलित-बहुजनों की भी भागीदारी रही है। राम मंदिर से इन...
कह रहे प्रयागराज के बहुजन, कांग्रेस, सपा और बसपा एकजुट होकर चुनाव लड़े
राहुल गांधी जब भारत जोड़ो न्याय यात्रा के क्रम में प्रयागराज पहुंचे, तब बड़ी संख्या में युवा यात्रा...
सामने आई सरकारी स्कूलों की बदहाली, दलित-बहुजन बच्चे हो रहे प्रभावित
रिपोर्ट बताती है कि देश के लगभग 8 प्रतिशत स्कूलों में केवल एक शिक्षक है। शिक्षकों के पास...
वार्षिकी : आंशिक ही सही, गलियारे में नजर आया दलित-बहुजन साहित्य
इस साल की विशेष घटना रही आदिवासी साहित्यकार जसिंता केरकेट्टा द्वारा ‘इंडिया टुडे’ समूह के पुरस्कार को ठुकरा...
और आलेख