h n

पहले मैं जिनके बारे में लिखता था, अब उनके दुख-दर्द दूर करने का मौका है मेरे पास : मनोरंजन ब्यापारी

“राजनीति में दलितों और गरीब लोगों को जरूर आना चाहिए।” यह कहना है रिक्शा चलाने से लेकर सरकारी स्कूल में रसोइया का काम करने वाले साहित्यकार व अब विधायक मनोरंजन ब्यापारी का। उनकी कहानी व उनकी प्राथमिकताएं, उनकी जुबानी। पढ़ें विशेष साक्षात्कार

साक्षात्कार

वर्ष 2012 में “चांडाल जीबोन” के प्रकाशन के बाद चर्चा में आए पश्चिम बंगाल के मनोरंजन ब्यापारी को ममता बनर्जी सरकार ने बीते 14 सितंबर, 2020 को दलित साहित्य अकादमी का अध्यक्ष मनोनीत किया। हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी ने उन्हें बालागढ़ सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया और मनोरंजन ब्यापारी को जीत मिली। मनोरंजन ब्यापारी का जीवन संघर्षपूर्ण रहा है। वर्ष 1971 में बांग्लादेश निर्माण के पहले शरणार्थी के रूप में आए मनोरंजन ब्यापारी नमोशूद्रा समुदाय के हैं। 1975 में जब उनकी उम्र केवल 20 वर्ष थी, तब एक राजनीतिक कार्यक्रम के दौरान उन्हें बंदी बना लिया गया। जेल में उन्होंने पढ़ना-लिखना सीखा। जेल से बाहर आने के बाद वे रिक्शा चलाने लगे। इसी क्रम में उनकी मुलाकात बांग्ला की मूर्धन्य साहित्यकार महाश्वेता देवी से हुई। इस मुलाकात ने उनका जीवन बदल दिया। वे रिक्शा चालक से साहित्यकार बन गए। आजीविका के लिए मनोरंजन ब्यापारी ने पश्चिम बंगाल के एक सरकारी स्कूल में रसोइया की नौकरी की। लेकिन इससे साहित्य सृजन बाधित नहीं हुआ। 2012 में “चांडाल जीबोन” के बाद उन्होंने 2013 में “बाताशे बारूदेर गंधो” (हवा में बारूदी गंध) नामक उपन्यास लिखा। उनका यह उपन्यास बहुचर्चित रहा। पिछले वर्ष उनके इस उपन्यास के अंग्रेजी अनुवाद को डीएससी साउथ एशियन लिटरेचर सम्मान के लिए चयनित किया गया। श्रमिक से साहित्यकार और साहित्यकार से राजनीति के क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने वाले मनोरंजन ब्यापारी से कार्तिक चौधरी ने बातचीत की। प्रस्तुत है इस बातचीत का संपादित अंश –

इस समय ममता बनर्जी ही वामपंथी : मनोरंजन ब्यापारी

  • कार्तिक चौधरी

श्रमिक से साहित्यकार और साहित्यकार से राजनेता बनने के अनुभव को आप किस रूप में देखते हैं?

जब मैं श्रमिक था, उस समय मैंने जो जीवन जिया, उस जीवन का जो दुख-दर्द देखा-समझा, उसी को लिखा। साहित्यकार बनने के बाद जब राजनीति में आने का मौका मिला तो अब महसूस हो रहा है कि पहले जिनके बारे में लिखता था उनके दुख-दर्द दूर करने का मेरे पास माध्यम नहीं था, लेकिन अब स्थिति बदल गई है। अभी बंगाल में भारी बारिश और तूफान आया हुआ है। सभी आम लोग परेशान हैं, हमारे पास आ रहे हैं। हमें फोन कर रहे हैं। हम उनकी कुछ मदद कर सकते हैं और कर रहे हैं। हम पहले नहीं कर पाते थे।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : पहले मैं जिनके बारे में लिखता था, अब उनके दुख-दर्द दूर करने का मौका है मेरे पास : मनोरंजन ब्यापारी

लेखक के बारे में

कार्तिक चौधरी

लेखक डॉ. कार्तिक चौधरी, महाराजा श्रीशचंद्र कॉलेज (कलकत्ता विश्वविद्यालय) के हिंदी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। इनकी प्रकाशित पुस्तकों में “दलित चेतना के संदर्भ में ओमप्रकाश वाल्मीकि की कहानियां” (समालोचना), “दलित साहित्य की दशा-दिशा समकालीन परिप्रेक्ष्य में” (संपादन), “अस्मितामूलक विमर्श, दलित और आदिवासी साहित्य के संदर्भ में” (समालोचना), “बंगाल में दलित और आदिवासी कविताएं” (संपादित काव्य संग्रह) शामिल हैं। इन्हें डॉ. आंबेडकर सृजन सम्मान (2021) से सम्मानित किया गया है

संबंधित आलेख

पसमांदा अब राजनीतिक ब्रांड, संघ प्रमुख कर रहे राजनीति
“अहम बात यह है कि पसमांदा समाज किसी भी तरह की सांप्रदायिक राजनीति को या उसके विचार को नही मान सकता है। इसलिए ये...
बहस-तलब : दलितों की भागीदारी के बगैर द्रविड़ आंदोलन अधूरा
तमिलनाडु में ब्राह्मण और गैर-ब्राह्मण की पूरी बहस में दलित हाशिए पर हैं। क्या यह बहस दलित बनाम गैर-दलित नहीं होनी चाहिए और उस...
आज 149वें सत्यशोधक दिवस से ForwardPress.in नए कलेवर में
आज सत्यशोधक समाज की स्थापना की 149वीं वर्षगांठ पर फारवर्ड प्रेस, जो स्वयं को फुले और सत्यशोधक समाज की विरासत का भाग मानती है...
दबंगई छोड़ कबीर-रैदास को अपनाएं, तेजस्वी यादव ने दी अपने नेताओं को सलाह
तेजस्वी ने अपने दल के नेताओं को समझाते हुए कहा कि वे अपने आचरण में कबीर और रैदास की शिक्षा का पालन करें। उन्होंने...
जातिवाद की बीमारी से कब उबरेंगे देश के मेडिकल कॉलेज?
डा. किरीत प्रेमजी भाई सोलंकी के नेतृत्व वाली संसदीय कमेटी की रपट के मुताबिक सामाजिक तौर पर उत्पीड़ित तबकों के छात्रों को सुपर‌ स्पेशियलिटी...