h n

गोकुलराज हत्या प्रकरण : कैसे हुई एससी-एसटी एक्ट के तहत दोषसिद्धि?

गत 8 मार्च, 2022 को मदुरै के एक विशेष न्यायालय ने दस अभियुक्तों को एक युवा दलित विद्यार्थी की हत्या का दोषी करार देते हुए सभी को आजीवन कारावास की सज़ा सुनायी। अपने निर्णय में न्यायाधीश ने डॉ. आंबेडकर के हवाले से लिखा कि ‘अगर जाति को तोड़ना है, तो अंतरजातीय विवाह इसका एकमात्र उपाय हैं।’ बता रही हैं वी. गीता

वर्ष 2015 में तमिलनाडू के नामक्कल जिले के तिरूचेनगोड में स्थित प्रसिद्ध अर्द्धनारीश्वर मंदिर से गोकुलराज नामक इंजीनियरिंग के एक मेधावी छात्र का तब अपहरण कर लिया गया जब वह वहां एक छात्रा से बातचीत कर रहा था। बाद में, उसे अत्यंत ही क्रूरतापूर्वक मौत के घाट उतार दिया गया। उसकी जीभ काट दी गई और उसका सिर धड़ से अलग कर दिया गया।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : गोकुलराज हत्या प्रकरण : कैसे हुई एससी-एसटी एक्ट के तहत दोषसिद्धि?

लेखक के बारे में

वी. गीता

लेखिका वी. गीता एक अनुवादक, सामाजिक इतिहासकार और सामाजिक कार्यकर्ता हैं। इन्होंने तमिल और अंग्रेजी में आधुनिक तमिल इतिहास, जाति, लैंगिक विषयों, शिक्षा और मानव अधिकार पर विस्तारपूर्वक लेखन किया है। इन्होने एस वी राजादुरई के साथ मिलकर द्रविड़ आन्दोलन और राजनीति पर भी लेखन किया है जिसका प्रकाशन ईपीडब्ल्यू (इकोनॉमिक एंड पालिटिकल वीकली) में किया गया है। इसके अलावा इनकी एक पुस्तक, जिसका शीर्षक है ‘‘टुवर्ड्स, अ नॉन-ब्राह्मिन मिलीनियमः फ्रॉम आयोथी थास टू पेरियार’’। इन्होंने पश्चिमी मार्क्सवाद पर भी कई प्रबंधों का लेखन भी किया है जिनमें एन्टेनियो ग्रामसी के जीवन और विचारों पर केन्द्रित एक विषद ग्रंथ शामिल है

संबंधित आलेख

‘आत्मपॅम्फ्लेट’ : दलित-बहुजन विमर्श की एक अलहदा फिल्म
मराठी फिल्म ‘आत्मपॅम्फलेट’ उन चुनिंदा फिल्मों में से एक है, जो बच्चों के नजरिए से भारतीय समाज पर एक दिलचस्प टिप्पणी करती है। यह...
‘मैं धंधेवाली की बेटी हूं, धंधेवाली नहीं’
‘कोई महिला नहीं चाहती कि उसकी आने वाली पीढ़ी इस पेशे में रहे। सेक्स वर्कर्स भी नहीं चाहतीं। लेकिन जो समाज में बैठे ट्रैफिकर...
रेडलाइट एरिया के हम वाशिंदों की पहली जीत
‘बिहार में ज़्यादातर रेडलाइट ब्रोथल एरिया है। इसका मतलब लोग वहीं रहते हैं, वहीं खाते-पीते हैं, वहीं पर उनका पूरा जीवन चलता है और...
फुले, पेरियार और आंबेडकर की राह पर सहजीवन का प्रारंभोत्सव
राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के सुदूर सिडियास गांव में हुए इस आयोजन में न तो धन का प्रदर्शन किया गया और न ही धन...
भारतीय ‘राष्ट्रवाद’ की गत
आज हिंदुत्व के अर्थ हैं– शुद्ध नस्ल का एक ऐसा दंगाई-हिंदू, जो सावरकर और गोडसे के पदचिह्नों को और भी गहराई दे सके और...