h n

चंद्रशेखर होते तो हाशिए के बाशिंदों के साथ होते

सीवान उनके लिए पार्लियामेंट पहुंचने भर का प्लेटफॉर्म नहीं था, और ना ही केवल पार्लियामेंट जाने भर की जद्दोजहद तक के लिए वे आए थे। वे सीवान को क्रांतिकारी लोकतांत्रिक बदलाव के संघर्ष की प्रयोगभूमि बनाने के स्वप्न के साथ दिल्ली से बिहार आए। वे वहीं शहीद हुए, जहां पैदा हुए थे। लेकिन यह अनायास हुई शहादत नहीं थी। बता रहे हैं रिंकू यादव

चंद्रशेखर (20 सिंतबर, 1964 – 31 मार्च, 1997) पर विशेष 

बीते 31 मार्च को चंद्रशेखर को उनकी शहादत के मौके पर याद किया गया। उन्हें मानने वाले प्यार से उसे ‘चंदू’ कहते हैं। जब चंद्रशेखर भगत सिंह की विरासत को पुनर्परिभाषित कर रहे थे तब वह दौर था जब इतिहास के अंत की घोषणा हो रही थी। पूंजीवाद से आगे सोचने पर सवाल खड़ा हो रहा था। हमारे मुल्क में भी वैश्वीकरण-उदारीकरण-निजीकरण की नीतियों का डंका बज रहा था। छात्र-नौजवानों के सामने गुलाबी सपने परोसे जा रहे थे और क्रांतिकारी परिवर्तन के संघर्ष व राजनीति को अप्रासंगिक बताने का शोर था। सामाजिक न्याय की राजनीति के साथ ही भाजपा-आरएसएस की चुनौती भी उभर रही थी। धुंध व अंधेरे, हताशा, निराशा व पस्तहिम्मती के दौर में इतिहास के ऐसे मोड़ पर चंद्रशेखर ने भगत सिंह के रास्ते आगे बढ़ने का काम किया। आगे का रास्ता खोला। 

चंद्रशेखर अकसर अपने भाषणों में ‘पाश’ की प्रसिद्ध पंक्ति दुहराते थे– ‘सबसे खतरनाक है हमारे सपनों का मर जाना’। ‘पाश’ की ही एक कविता की पंक्ति है–

…. मसलन : आदमी का एक और नाम मेन्शेविक है

और आदमी की असलियत हर साँस के बीच को खोजना है

लेकिन हाय-हाय! …

बीच का रास्ता कहीं नहीं होता….

भगत सिंह और ‘पाश’ की तरह ही चंद्रशेखर ने न जीवन और न ही राजनीतिक बदलाव के संघर्ष में बीच को खोजने-बीच का रास्ता तलाशने की कोशिश की। मध्यमवर्गीय सपनों-आकांक्षाओं की सीमाओं में वे नहीं रुके।

कुशवाहा (ओबीसी) परिवार में जन्मे चंद्रशेखर बिहार के सीवान जिले के बिंदुसार नामक गांव के रहने वाले थे। उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा गांव के बाद सैनिक स्कूल तिलैया से हासिल की थी। वे एनडीए में चुने गये थे। लेकिन उन्होंने आगे की पढ़ाई के लिए एनडीए छोड़ा। पढ़ाई के क्रम में जेएनयू गये और वहां से पीएचडी तक की पढ़ाई पूरी की। उन्होंने जेएनयू छात्रसंघ में एक बार उपाध्यक्ष और लगातार दो बार अध्यक्ष होने का रिकॉर्ड बनाया।

चंद्रशेखर (20 सिंतबर, 1964 – 31 मार्च, 1997)

चंद्रशेखर कहा करते थे– “… आने वाली पीढ़ियां हमसे पूछेंगी तुम तब कहां थे जब समाज में संघर्ष की नयी शक्तियों का उदय हो रहा था, जब हमारे समाज की हाशिए पर डाल दी गयी आवाजें बुलंद होने लगी थीं …यह हमारी जिम्मेदारी है कि सच्चे धर्मनिरपेक्ष, लोकतांत्रिक, आत्मनिर्भर, समतामूलक भारत के निर्माण के लिए उस संघर्ष का हिस्सा बनें।”

उनके ही शब्दों में– “हमारे स्वाधीनता आंदोलन में बड़ी तादात में विद्यार्थी विश्वविद्यालयों से बाहर निकलकर आंदोलन में शरीक हुए। हमें भी विश्वविद्यालयों से बाहर निकलना चाहिए, क्योंकि हम समाज के उस तबके से हैं, जिसे कुछ सुविधाएं हासिल हैं। हम विश्वविद्यालयों में आने वाले लोग, अपने आपको शिक्षित बनाते हैं, ज्ञान हासिल करते हैं, दुनिया को समझते-बूझते हैं। इसलिए समाज की हकीकतों को समझने और उसका विश्लेषण करने में हम ज्यादा सक्षम हैं। ठीक इसीलिए यह हमारी ज़िम्मेदारी है कि हम अपने ज्ञान को फैलाएं। हमने समाज से जो भी लिया है, हमें समाज को वापस देना होगा।”

इन्हीं जिम्मेदारियों के साथ चंद्रशेखर छात्र आंदोलन में सक्रिय रहे और फिर सीवान आए। सीवान उनके लिए पार्लियामेंट पहुंचने भर का प्लेटफॉर्म नहीं था, और ना ही केवल पार्लियामेंट जाने भर की जद्दोजहद तक के लिए वे आए थे। वे सीवान को क्रांतिकारी लोकतांत्रिक बदलाव के संघर्ष की प्रयोगभूमि बनाने के स्वप्न के साथ दिल्ली से बिहार आए। वे वहीं शहीद हुए, जहां पैदा हुए थे। लेकिन यह अनायास हुई शहादत नहीं थी, बल्कि उन्होंने जो रास्ता चुना था, जो संघर्ष की जो जमीन चुनी थी, वहां पहले से ही यह संभावना थी।

वे छात्र जीवन में सबसे पहले एआईएसएफ के साथ जुड़े। वामपंथी राजनीति की पुरानी धारा से राजनीतिक जीवन की शुरुआत की। एआईएसएफ के बिहार राज्य उपाध्यक्ष भी रहे। लेकिन जेएनयू पहुंचने के बाद वे वामपंथी राजनीति की एक अलग किस्म की धारा-भाकपा(माले) के छात्र संगठन आइसा से जुड़े। खासतौर पर भाकपा(माले) के नेतृत्व में भोजपुर से सीवान तक की जमीनी लड़ाई में सामाजिक न्याय का आयाम महत्वपूर्ण है, जिसके संघर्ष में मेहनतकश बहुजनों की सामाजिक-राजनीतिक दावेदारी का प्रश्न केंद्र में रहा है और मेहनतकश बहुजन ही इस लड़ाई की ताकत भी रहे हैं। हिंदी पट्टी के वाम-लोकतांत्रिक आंदोलन में भोजपुर से सीवान तक की लड़ाई की खास बात यह रही है कि यह लड़ाई समाज के सबसे हाशिए के छोर से आगे बढ़ी है। जरूर किसी बदलाव के संघर्ष के क्रांतिकारी लोकतांत्रिक चरित्र-अंतर्वस्तु के लिए यह महत्वपूर्ण होता है कि वह किस छोर से आगे बढ़ रही है, वह समाज के किन हिस्सों की दावेदारी को बुलंद करते हुए आगे बढ़ रही है, उसके मुद्दे क्या हैं। 

चंद्रशेखर ने जेएनयू की पारंपरिक वामपंथी छात्र राजनीति की सीमाओं से परे जाते हुए क्रांतिकारी छात्र आंदोलन को गढ़ने और उसमें सामाजिक न्याय का आयाम जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। छात्र जीवन के बाद उन्होंने सीवान का रूख किया। वे एआईएसएफ और सीपीआई तक नहीं रुके। वे बीच की तलाश में नहीं रुके। वे सीवान सर्वहाराओं को संगठित करने आए। 

जरूर ही भाजपा-आरएसएस से लड़ने की जरूरत और आवश्यक बड़ी एकता के बीच चंदू की शहादत ने लकीर खींच रखी है, जो आगे का रास्ता व दिशा तय करने के लिए बेहद जरूरी है। बड़ी एकता के बीच में भी चंदू भटकने, गुम होने से बचाते हैं! अपना छोर पकड़े रहें। बीच का रास्ते न भटकें, यह बताते हैं।

चंदू विधानसभा-संसद में होते या नहीं, लेकिन जरूर ही उनके लिए प्राथमिकता सड़कों की लड़ाई होती। वे समाज के सबसे हाशिए के छोर से इस लड़ाई में होते! उनके लिए लड़ाई में टिके रहने के लिए विधानसभा-संसद की कुर्सी की जरूरत नहीं होती! 

(संपादन : नवल/अनिल)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

मिस कैथरीन मेयो की बहुचर्चित कृति : मदर इंडिया

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार

लेखक के बारे में

रिंकू यादव

रिंकू यादव सामाजिक न्याय आंदोलन, बिहार के संयोजक हैं

संबंधित आलेख

गांधी को आंबेडकर की नजर से देखें दलित-बहुजन
आधुनिक काल में गांधी ऊंची जातियों और उच्च वर्ग के पुरुषों के ऐसे ही एक नायक रहे हैं, जो मूलत: उनके ही हितों के...
भारतीय समाज में व्याप्त पूर्व-आधुनिक सोच का असर
देश भर में दलितों, पिछड़ों और‌ आदिवासियों के नरसंहार तथा उनके साथ ‌भेदभाव एवं गैरबराबरी से इतिहास भरा पड़ा है और कमोबेश यह आज...
अंकिता हत्याकांड : उत्तराखंड में बढ़ता जनाक्रोश और जाति का सवाल
ऋषिकेश के जिस वनंतरा रिजार्ट में अंकिता की हत्या हुई, उसका मालिक भाजपा के ओबीसी प्रकोष्ठ का नेता रहा है और उसके बड़े बेटे...
महाकाल की शरण में जाने को विवश शिवराज
निश्चित तौर पर भाजपा यह चाहेगी कि वह ऐसे नेता के नेतृत्व में चुनाव मैदान में उतरे जो उसकी जीत सुनिश्चित कर सके। प्रधानमंत्री...
आदिवासी दर्जा चाहते हैं झारखंड, बंगाल और उड़ीसा के कुर्मी
कुर्मी जाति के लोगों का यह आंदोलन गत 14 सितंबर, 2022 के बाद तेज हुआ। इस दिन केंद्रीय मंत्रिपरिषद ने हिमालच प्रदेश की हट्टी,...