h n

धर्म राज्य की स्थापना के नाम पर ब्राह्मण राज्य की आहट

भागवत के शब्दों में भी इसकी आहट प्रतिध्वनित हो रही हैं कि जो संस्था और व्यक्ति धर्म और राष्ट्र के उत्थान में कार्यरत हैं, संघ उनका सहयोगी हैं। इसका संदेश बहुत साफ़ हैं कि या तो उनके द्वारा गढ़ी गई परिभाषाओं के धर्म व राष्ट्र के उत्थान में लगें, अन्यथा पतन के लिए तैयार रहें। बता रहे हैं भंवर मेघवंशी

देश में दक्षिणपंथी धारा के व्यक्तियों और समूहों के लोगों की ज़हर उगलती हुई ज़ुबानें निरंतर लंबी होती जा रही हैं। कहीं चिंतन बैठकें चल रही हैं तो कहीं धर्म संसदें, सब तरफ़ अराजकतापूर्ण भाषा में देश के संविधान, क़ानून और व्यवस्था की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। निर्वाचन की राजनीति में लगातार मिल रही सफलताओं से उत्साहित सांप्रदायिक तत्व पूरी तरह से निरंकुश हो चुके हैं। वे अब भारतीय राष्ट्र राज्य को चुनौती दे रहे हैं। संविधान को ललकार रहे हैं और देश को धार्मिक राष्ट्र राज्य बनाने को आतुर हो चले हैं।

पूरा आर्टिकल यहां पढें : धर्म राज्य की स्थापना के नाम पर ब्राह्मण राज्य की आहट

लेखक के बारे में

भंवर मेघवंशी

भंवर मेघवंशी लेखक, पत्रकार और सामाजिक-सांस्कृतिक कार्यकर्ता हैं। उन्होंने आरएसएस के स्वयंसेवक के रूप में अपना सार्वजनिक जीवन शुरू किया था। आगे चलकर, उनकी आत्मकथा ‘मैं एक कारसेवक था’ सुर्ख़ियों में रही है। इस पुस्तक का अंग्रेजी अनुवाद हाल में ‘आई कुड नॉट बी हिन्दू’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ है। संप्रति मेघवंशी ‘शून्यकाल डॉट कॉम’ के संपादक हैं।

संबंधित आलेख

पसमांदा अब राजनीतिक ब्रांड, संघ प्रमुख कर रहे राजनीति
“अहम बात यह है कि पसमांदा समाज किसी भी तरह की सांप्रदायिक राजनीति को या उसके विचार को नही मान सकता है। इसलिए ये...
बहस-तलब : दलितों की भागीदारी के बगैर द्रविड़ आंदोलन अधूरा
तमिलनाडु में ब्राह्मण और गैर-ब्राह्मण की पूरी बहस में दलित हाशिए पर हैं। क्या यह बहस दलित बनाम गैर-दलित नहीं होनी चाहिए और उस...
आज 149वें सत्यशोधक दिवस से ForwardPress.in नए कलेवर में
आज सत्यशोधक समाज की स्थापना की 149वीं वर्षगांठ पर फारवर्ड प्रेस, जो स्वयं को फुले और सत्यशोधक समाज की विरासत का भाग मानती है...
दबंगई छोड़ कबीर-रैदास को अपनाएं, तेजस्वी यादव ने दी अपने नेताओं को सलाह
तेजस्वी ने अपने दल के नेताओं को समझाते हुए कहा कि वे अपने आचरण में कबीर और रैदास की शिक्षा का पालन करें। उन्होंने...
‘मिमी’ : केवल एक सरोगेट मदर की कहानी नहीं
वैसे तो फ़िल्म सरोगेसी के मुद्दे को केंद्र में रखकर बनायी गयी है, मगर कहानी के भीतर न जाने कितने ही और मुद्दे बारीकी...