h n

21 फरवरी 1948 : आम्बेडकर ने प्रस्तुत किया संविधान का मसविदा

29 अगस्त, 1947 को संविधानसभा ने डाक्टर बीआर आम्बेडकर की अध्यक्षता में भारत के संविधान का मसविदा तैयार करने के लिए 'ड्राफ्टिंग कमेटी’ का गठन किया

29 अगस्त, 1947 को संविधानसभा ने डाक्टर बीआर आम्बेडकर की अध्यक्षता में भारत के संविधान का मसविदा तैयार करने के लिए ‘ड्राफ्टिंग कमेटी’ का गठन किया। संवैधानिक सलाहकार सर एसएन राव ने अक्टूबर, 1947 में कमेटी के विचारार्थ एक मसविदा तैयार किया था। 21 फरवरी, 1948 को संशोधित मसविदा जारी किया गया, जिसके आधार पर संविधान सभा को अपना कार्य आगे बढ़ाना था।

सभा ने कई समितियों, उप समितियों और अस्थाई समितियों का गठन किया। एक समिति में तो संविधानसभा के सभी सदस्य थे! इस भूलभुलैया से संविधान के मसविदे को निकालना एक दुष्कर कार्य था। डाक्टर राजेन्द्र प्रसाद लिखते हैं कि डाक्टर आम्बेडकर ने एक कुशल पायलट की भांति संविधान के मसविदे को तूफानी हवाओं के बीच से निकाला।

 

अपरान्ह् 11 बजे, 9 दिसंबर 1946 : भारत की संविधानसभा का पहला दिन। बाएं से – बीआर आम्बेडकर, बीजी खेर, सरदार वल्लभ भाई पटेल व पटेल के पीछे केएम मुंशी।

 

आम्बेडकर (दांये) संविधानसभा की एक बैठक में।

 

भारत की मसविदा समिति : (बैठे हुए दांये से) एन माधवराव, सैयद सादुल्ला, डाक्टर आम्बेडकर (अध्यक्ष), अल्लादि कृष्णास्वामी अय्यर, सर बेनेगल नरसिंहराव (खड़े हुए दांये से) एसएन मुखर्जी, जुगल किशोर खन्ना व केवल कृष्णन (29 अगस्त 1947)।

 

21 फरवरी 1948 : आम्बेडकर भारत के संविधान का मसविदा राजेन्द्र प्रसाद को प्रस्तुत करते हुए।

 

 

 

(फारवर्ड प्रेस के फरवरी, 2014 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

‘बाबा साहब की किताबों पर प्रतिबंध के खिलाफ लड़ने और जीतनेवाले महान योद्धा थे ललई सिंह यादव’
बाबा साहब की किताब ‘सम्मान के लिए धर्म परिवर्तन करें’ और ‘जाति का विनाश’ को जब तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने जब्त कर लिया तब...
जननायक को भारत रत्न का सम्मान देकर स्वयं सम्मानित हुई भारत सरकार
17 फरवरी, 1988 को ठाकुर जी का जब निधन हुआ तब उनके समान प्रतिष्ठा और समाज पर पकड़ रखनेवाला तथा सामाजिक न्याय की राजनीति...
जगदेव प्रसाद की नजर में केवल सांप्रदायिक हिंसा-घृणा तक सीमित नहीं रहा जनसंघ और आरएसएस
जगदेव प्रसाद हिंदू-मुसलमान के बायनरी में नहीं फंसते हैं। वह ऊंची जात बनाम शोषित वर्ग के बायनरी में एक वर्गीय राजनीति गढ़ने की पहल...
समाजिक न्याय के सांस्कृतिक पुरोधा भिखारी ठाकुर को अब भी नहीं मिल रहा समुचित सम्मान
प्रेमचंद के इस प्रसिद्ध वक्तव्य कि “संस्कृति राजनीति के आगे चलने वाली मशाल है” को आधार बनाएं तो यह कहा जा सकता है कि...
गुरु घासीदास की सतनाम क्रांति के दो सौ साल बाद
गुरु घासीदास जातिवाद और अछूत प्रथा के जड़-मूल से उन्मूलन के पक्षधर थे। वे मूर्ति पूजा, मंदिर और भक्ति को भी ख़ारिज करते थे।...