h n

चैत्यभूमि : भारत का एक स्मारक, जहां उमड़ते सर्वाधिक लोग

यह भारतीय इतिहास में सरदार पटेल के अंतिम संस्कार (1950) के बाद दूसरा ऐसा अंतिम संस्कार था, जहां सर्वाधिक लोग उमड़े। यह अब चैत्यभूमि के रूप में प्रसिद्ध है।

6 दिसंबर 1956 को डा. भीम राव आम्बेडकर का महापरिनिर्वाण दिल्ली में हुआ तब तत्कालीन बंबई (अब मुम्बई) का दादर चौपाटी उनके अंतिम संस्कार के लिए चुना गया। यह भारतीय इतिहास में सरदार पटेल के अंतिम संस्कार (1950) के बाद दूसरा ऐसा अंतिम संस्कार था, जहां सर्वाधिक लोग उमड़े। यह अब चैत्यभूमि के रूप में प्रसिद्ध है। तब से हर वर्ष ‘महापरिनिर्वाण दिवस’ पर डा. आंबेडकर को मानने वाले लाखो लोग अपनी श्रद्धा प्रकट करने यहां उमड़ते हैं। 5 दिसंबर 1971 को डा. आंबेडकर की पुत्रवधु मीरा आंबेडकर ने चैत्य भूमि को लोकार्पित किया।

6 दिसंबर 1956 को डा. आंबेडकर के सरकारी निवास, 26 अलीपुर रोड, नई दिल्ली, में अंतिम दर्शन के लिए आये शोकग्रस्त लोग

 

7 दिसंबर 1956 को डा. आम्बेडकर की शवयात्रा में 5 लाख से अधिक लोग उमड़े

 

6 दिसंबर 2013 को चैत्य भूमि पर डा. आंबेडकर को श्रद्धा अर्पित करते आर पी आई (अ) के नेता रामदास अठावले और अन्य

 

6 दिसम्बर को चैत्य भूमि पर उमड़ी भीड़ का एक हिस्सा

 

(फारवर्ड प्रेस के दिसम्बर 2014 अंक में प्रकाशित)


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

‘बाबा साहब की किताबों पर प्रतिबंध के खिलाफ लड़ने और जीतनेवाले महान योद्धा थे ललई सिंह यादव’
बाबा साहब की किताब ‘सम्मान के लिए धर्म परिवर्तन करें’ और ‘जाति का विनाश’ को जब तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने जब्त कर लिया तब...
जननायक को भारत रत्न का सम्मान देकर स्वयं सम्मानित हुई भारत सरकार
17 फरवरी, 1988 को ठाकुर जी का जब निधन हुआ तब उनके समान प्रतिष्ठा और समाज पर पकड़ रखनेवाला तथा सामाजिक न्याय की राजनीति...
जगदेव प्रसाद की नजर में केवल सांप्रदायिक हिंसा-घृणा तक सीमित नहीं रहा जनसंघ और आरएसएस
जगदेव प्रसाद हिंदू-मुसलमान के बायनरी में नहीं फंसते हैं। वह ऊंची जात बनाम शोषित वर्ग के बायनरी में एक वर्गीय राजनीति गढ़ने की पहल...
समाजिक न्याय के सांस्कृतिक पुरोधा भिखारी ठाकुर को अब भी नहीं मिल रहा समुचित सम्मान
प्रेमचंद के इस प्रसिद्ध वक्तव्य कि “संस्कृति राजनीति के आगे चलने वाली मशाल है” को आधार बनाएं तो यह कहा जा सकता है कि...
गुरु घासीदास की सतनाम क्रांति के दो सौ साल बाद
गुरु घासीदास जातिवाद और अछूत प्रथा के जड़-मूल से उन्मूलन के पक्षधर थे। वे मूर्ति पूजा, मंदिर और भक्ति को भी ख़ारिज करते थे।...