h n

अखिल भारतीय अनुसूचित जाति, जनजाति संघ द्वारा सम्मान समारोह का आयोजन

अखिल भारतीय अनुसूचित जाति, जनजाति संघ ने कनॉट प्लेस में सम्मान समारोह आयोजित किया, मुख्य अतिथि के रूप में केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने समारोह में शिरकत की

img_2108नई दिल्ली: अखिल भारतीय अनुसूचित जाति, जनजाति संघ ने कनॉट प्लेस में सम्मान समारोह आयोजित किया, मुख्य अतिथि के रूप में केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने समारोह में शिरकत की। इस समारोह में दलित समाज के सभी संगठनों के प्रमुख शामिल हुए। कार्यक्रम का लक्ष्य दलित मुद्दों की ओर सरकार का ध्यान खींचना था। समारोह में विभिन्न सरकारी संस्थानों और दलित समाज के संगठनों से जुड़े लोग शामिल हुए जिनमें बीएस भारतीए एपी सिंह, मनोज गोरकेला, महेंद्र सिंह बढग़ुजर, सीबी रावत व दिल्ली विद्युत बोर्ड, इनकम टैक्स, रेलवे, एलआईसी और विभिन्न बैंकों के ट्रेड यूनियन नेता शामिल थे। कार्यक्रम में निचले तबके की विभिन्न समस्याओं को दूर करने व उनके राजनीतिक व आर्थिक सशक्तीकरण पर चर्चा हुई। साथ ही उनकी सामाजिक स्थिति को सुधारने के लिए बाबा साहेब आम्बेडकर के विचारों को व्यवहारिक रूप से अपनाने पर बल दिया।

(फारवर्ड प्रेस के मार्च, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

शीतल सरोहा

संबंधित आलेख

भारतीय ‘राष्ट्रवाद’ की गत
आज हिंदुत्व के अर्थ हैं– शुद्ध नस्ल का एक ऐसा दंगाई-हिंदू, जो सावरकर और गोडसे के पदचिह्नों को और भी गहराई दे सके और...
जेएनयू और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के बीच का फर्क
जेएनयू की आबोहवा अलग थी। फिर इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में मेरा चयन असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के पद पर हो गया। यहां अलग तरह की मिट्टी है...
बीते वर्ष 2023 की फिल्मों में धार्मिकता, देशभक्ति के अतिरेक के बीच सामाजिक यथार्थ पर एक नज़र
जाति-विरोधी फिल्में समाज के लिए अहितकर रूढ़िबद्ध धारणाओं को तोड़ने और दलित-बहुजन अस्मिताओं को पुनर्निर्मित करने में सक्षम नज़र आती हैं। वे दर्शकों को...
‘मैंने बचपन में ही जान लिया था कि चमार होने का मतलब क्या है’
जिस जाति और जिस परंपरा के साये में मेरा जन्म हुआ, उसमें मैं इंसान नहीं, एक जानवर के रूप में जन्मा था। इंसानों के...
फुले पर आधारित फिल्म बनाने में सबसे बड़ी चुनौती भाषा और उस कालखंड को दर्शाने की थी : नीलेश जलमकर
महात्मा फुले का इतना बड़ा काम है कि उसे दो या तीन घंटे की फिल्म के जरिए नहीं बताया जा सकता है। लेकिन फिर...