h n

अखिल भारतीय अनुसूचित जाति, जनजाति संघ द्वारा सम्मान समारोह का आयोजन

अखिल भारतीय अनुसूचित जाति, जनजाति संघ ने कनॉट प्लेस में सम्मान समारोह आयोजित किया, मुख्य अतिथि के रूप में केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने समारोह में शिरकत की

img_2108नई दिल्ली: अखिल भारतीय अनुसूचित जाति, जनजाति संघ ने कनॉट प्लेस में सम्मान समारोह आयोजित किया, मुख्य अतिथि के रूप में केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने समारोह में शिरकत की। इस समारोह में दलित समाज के सभी संगठनों के प्रमुख शामिल हुए। कार्यक्रम का लक्ष्य दलित मुद्दों की ओर सरकार का ध्यान खींचना था। समारोह में विभिन्न सरकारी संस्थानों और दलित समाज के संगठनों से जुड़े लोग शामिल हुए जिनमें बीएस भारतीए एपी सिंह, मनोज गोरकेला, महेंद्र सिंह बढग़ुजर, सीबी रावत व दिल्ली विद्युत बोर्ड, इनकम टैक्स, रेलवे, एलआईसी और विभिन्न बैंकों के ट्रेड यूनियन नेता शामिल थे। कार्यक्रम में निचले तबके की विभिन्न समस्याओं को दूर करने व उनके राजनीतिक व आर्थिक सशक्तीकरण पर चर्चा हुई। साथ ही उनकी सामाजिक स्थिति को सुधारने के लिए बाबा साहेब आम्बेडकर के विचारों को व्यवहारिक रूप से अपनाने पर बल दिया।

(फारवर्ड प्रेस के मार्च, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

शीतल सरोहा

संबंधित आलेख

दुखद है सैकड़ों का जीवन सुखमय बनानेवाले कबीरपंथी सर्वोत्तम स्वरूप साहेब की उपेक्षा
सर्वोत्तम स्वरूप साहेब ने शिक्षा और समाजसेवा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देते हुए सद्गुरु कबीर साहेब के आदर्शों को साकार करने का एक...
हिजाब और अशराफ़िया पितृसत्ता
पूरी अशराफ़िया राजनीति ज़ज़्बाती मुद्दों की राजनीति रही है। सैकड़ों सालों से यह अपनी संस्कृति, अपनी भाषा, अपने पहनावे को पूरे मुस्लिम समाज की...
राजनीति की बिसात पर धर्म और महिलाएं
पिछले सौ सालों में समाज और परिवेश धीरे-धीरे बदला है। स्त्रियां घर से बाहर निकलकर आत्मनिर्भर हुई हैं, पर आज भी पढ़ी-लिखी स्त्रियों का...
भगत सिंह की दृष्टि में सांप्रदायिक दंगों का इलाज
भगत सिंह का यह तर्क कि भूख इंसान से कुछ भी करा सकती है, स्वीकार करने योग्य नहीं है। यह गरीबों पर एक ऐसा...
भगत सिंह की दृष्टि में ‘अछूत’ और उसकी पृष्ठभूमि
वास्तव में भगत सिंह की प्रशंसा होनी चाहिए कि उन्होंने एक बड़ी आबादी को अछूत बनाकर रखने के लिए हिंदुओं और उनके ब्राह्मणवादी दर्शन...