h n

फडऩवीस सरकार आंबेडकर का लंदन स्थित मकान खरीदेगी

महाराष्ट्र सरकार ने यह घोषणा की है कि वह लंदन में स्थित 2050 वर्गफिट का वह मकान खरीदेगी, जिसमें डॉ. बाबा साहेब आंबेडकर 1921-22 में लंदन स्कूल ऑफ इकोनोमिक्स से पीएचडी करने के दौरान रहते थे

ambedkars-house-in-loondonमुंबई। महाराष्ट्र सरकार ने यह घोषणा की है कि वह लंदन में स्थित 2050 वर्गफिट का वह मकान खरीदेगी, जिसमें डॉ. बाबा साहेब आंबेडकर 1921-22 में लंदन स्कूल ऑफ इकोनोमिक्स से पीएचडी करने के दौरान रहते थे। महाराष्ट्र के शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े ने यह घोषणा मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडऩवीस से परामर्श के बाद की। नंबर 10, किंग हैनरी रोड, एनडब्ल्यू-3 में स्थित इस मकान की कीमत 35 करोड़ रूपए है। तावड़े ने कहा कि आंबेडकर जयंती (14 अप्रैल) से यह मकान आमजनों के लिए खोल दिया जायेगा। सरकार को इस मकान के बिकाऊ होने की जानकारी मुंबई में रहने वाले उद्योगपति कल्पना सरोज के जरिये मिली। कल्पना सरोज ने अपनी लंदन यात्रा के दौरान इस मकान के दरवाजे पर ‘फॉर सेल’ का बोर्ड टंगा हुआ देखा। इसके बाद उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल से दिल्ली में मुलाकात की और महाराष्ट्र की पूर्व कांग्रेस व वर्तमान भाजपा सरकार से यह अनुरोध किया कि वह इस मकान को खरीद ले। कहने की आवश्यकता नहीं कि वे सरकार के इस निर्णय से बहुत प्रसन्न हैं। यह मकान शिक्षा का मंदिर है। यही वह स्थान है जहां रहकर बाबासाहेब आंबेडकर ने छ: वर्ष का पाठ्यक्रम केवल दो वर्षों में पूरा कर लिया था।

(फारवर्ड प्रेस के मार्च, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

पहुंची वहीं पे ख़ाक जहां का खमीर था
शरद यादव ने जबलपुर विश्वविद्यालय से अपनी राजनीति की शुरुआत की थी और धीरे-धीरे देश की राजनीति के केंद्र में आ गए। पिता ने...
मंडल आयोग की सिफारिशें लागू करवाने में शरद यादव की भूमिका भुलाई नहीं जा सकती
“इस स्थिति का लाभ उठाते हुए मैंने वी. पी. सिंह से कहा कि वे मंडल आयोग की सिफारिशों को लागू करने की घोषणा तुरंत...
शरद यादव : रहे अपनों की राजनीति के शिकार
शरद यादव उत्तर प्रदेश और बिहार की यादव राजनीति में अपनी पकड़ नहीं बना पाए और इसका कारण थे लालू यादव और मुलायम सिंह...
सावित्रीबाई फुले : पहली मुकम्मिल भारतीय स्त्री विमर्शकार
स्त्रियों के लिए भारतीय समाज हमेशा सख्त रहा है। इसके जातिगत ताने-बाने ने स्त्रियों को दोहरे बंदिशों मे जकड़ रखा था। उन्हें मानवीय अधिकारों...
आधुनिक भारत के पुरोधा डॉ. मुख्तार अहमद अंसारी
अपनी खिदमात के जरिए डॉ. अंसारी लगातार समाज को जोड़ते रहे। थोड़े ही दिनो में उनकी बातों को पूरे देश में सम्मानपूर्वक सुना जाने...