h n

सरस्वती पूजा की जगह मनायी गयी सावित्री बाई जयंती

रंगनिया प्राथमिक विद्यालय में 25 जनवरी को सरस्वती पूजा के स्थान पर सावित्रीबाई फूले का जयंती समारोह आयोजित किया गया

जमूई (बिहार): जिले में रंगनिया प्राथमिक विद्यालय में 25 जनवरी को सरस्वती पूजा के स्थान पर सावित्रीबाई फूले का जयंती समारोह आयोजित किया गया। इस अवसर पर विद्यालय के छात्रों, शिक्षकों व अभिभावकों के अतिरिक्त, आसपास के गांवों से सामाजिक परिवर्तन के लिए काम करने वाले कार्यकर्ता जुटे। विद्यालय के शिक्षक धर्मेन्द्र कुमार ने बताया कि उन्हों ने यह आयोजन ‘फारवर्ड प्रेस’ व सोशल मीडिया से प्रेरित होकर किया। इस अवसर पर लोगों को विभिन्न बहुजन जैसी पत्रिकाओं से परिचित करवाया गया।

(फारवर्ड प्रेस के मार्च, 2015 अंक में प्रकाशित )


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +919968527911, ईमेल : info@forwardmagazine.in

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

पुनर्पाठ : सिंधु घाटी बोल उठी
डॉ. सोहनपाल सुमनाक्षर का यह काव्य संकलन 1990 में प्रकाशित हुआ। इसकी विचारोत्तेजक भूमिका डॉ. धर्मवीर ने लिखी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि...
उत्तर भारत की महिलाओं के नजरिए से पेरियार का महत्व
ई.वी. रामासामी के विचारों ने जिस गतिशील आंदोलन को जन्म दिया उसके उद्देश्य के मूल मे था – हिंदू सामाजिक व्यवस्था को जाति, धर्म...
सत्यशोधक फुले
ज्योतिबा के पास विचारों की समग्र प्रणाली थी और वह उन प्रारंभिक विचारकों में से थे, जिन्होंने भारतीय समाज में वर्गों की पहचान की...
कबीर पर एक महत्वपूर्ण पुस्तक 
कबीर पूर्वी उत्तर प्रदेश के संत कबीरनगर के जनजीवन में रच-बस गए हैं। अकसर सुबह-सुबह गांव कहीं दूर से आती हुई कबीरा की आवाज़...
जब गोरखपुर में हमने स्थापित किया प्रेमचंद साहित्य संस्थान
छात्र जीवन में जब मैं गोरखपुर विश्वविद्यालय में अध्ययनरत था तथा एक प्रगतिशील छात्र संगठन से जुड़ा था, तब मैंने तथा मेरे अनेक साथियों...