h n

हमारी भारत माता : सोनी सोरी

सोनी के बारे में जो खबरें और तथ्य मीडिया में पिछले वर्षों में सामने आए हैं, वे किसी भीं संवेदनशील मन को विचलित कर देने वाले हैं। इस नयी घटना ने कलाकारों को भी विचलित किया है

एक आदिवासी मां, शिक्षिका और सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ता सोनी सोरी एक बार फिर चर्चा में हैं। 20 फरवरी को उनके चेहरे पर ज्वलनशील पदार्थ फेंक दिया गया और बाद में उनकी बहन और बहनोई को पुलिस प्रताडऩा भी झेलनी पडी। सोनी के बारे में जो खबरें और तथ्य मीडिया में पिछले वर्षों में सामने आए हैं, वे किसी भीं संवेदनशील मन को विचलित कर देने वाले हैं। इस नयी घटना ने कलाकारों को भी विचलित किया है। सेलीना, केन्सास, अमरीका में रहने वाली चित्रकार प्रीति गुलाटी कॉक्स ने जहां इस घटना के बाद सोनी सोरी का एक चित्र ‘सेव मदर इंडिया’ शीर्षक से बनाया, वहीं दिल्ली के ख्यात बहुजन चित्रकार डॉ. लाल रत्नाकर ने भी छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के उत्पीडन पर एक चित्र श्रंखला बनायी है। इस बार फोटो फीचर में हम इन दोनों चित्रकारों के कामों की झलक दिखा रहे हैं।

SS-7

SS-6

SSS-6

SS-5

SS-2

‘भारत की बिलखती मताएं’ शीर्षक से यह चित्र श्रृंखला डॉ. लाल रत्नाकर ने बनायी है

12819460_584282905070563_3467110159088040416_o-e1464454104882-281x300

प्रीति गुलाटी कॉक्स एक अन्त:विषय कलाकार है. वे अमरीका में सेलीना, केन्सास में रहतीं हैं। यह चित्र डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट काउन्टरकरेंट्स डॉट ओआरजी से साभार

 

(फारवर्ड प्रेस के अप्रैल, 2016 अंक में प्रकाशित )

लेखक के बारे में

एफपी डेस्‍क

संबंधित आलेख

पहुंची वहीं पे ख़ाक जहां का खमीर था
शरद यादव ने जबलपुर विश्वविद्यालय से अपनी राजनीति की शुरुआत की थी और धीरे-धीरे देश की राजनीति के केंद्र में आ गए। पिता ने...
मंडल आयोग की सिफारिशें लागू करवाने में शरद यादव की भूमिका भुलाई नहीं जा सकती
“इस स्थिति का लाभ उठाते हुए मैंने वी. पी. सिंह से कहा कि वे मंडल आयोग की सिफारिशों को लागू करने की घोषणा तुरंत...
शरद यादव : रहे अपनों की राजनीति के शिकार
शरद यादव उत्तर प्रदेश और बिहार की यादव राजनीति में अपनी पकड़ नहीं बना पाए और इसका कारण थे लालू यादव और मुलायम सिंह...
सावित्रीबाई फुले : पहली मुकम्मिल भारतीय स्त्री विमर्शकार
स्त्रियों के लिए भारतीय समाज हमेशा सख्त रहा है। इसके जातिगत ताने-बाने ने स्त्रियों को दोहरे बंदिशों मे जकड़ रखा था। उन्हें मानवीय अधिकारों...
आधुनिक भारत के पुरोधा डॉ. मुख्तार अहमद अंसारी
अपनी खिदमात के जरिए डॉ. अंसारी लगातार समाज को जोड़ते रहे। थोड़े ही दिनो में उनकी बातों को पूरे देश में सम्मानपूर्वक सुना जाने...