h n

श्मशान में दलित महिला के अंतिम संस्कार को रोका दबंगों ने

बारिश रुकने का नाम नहीं ले रही थी।इसलिए मृतक के परिजनों ने गाँव के तथाकथित उच्च जाति के लोगों से टीनशेड वाले शमशान में महिला का अंतिम संस्कार करने की गुहार लगाई। लेकिन दिमाग में ठूंस-ठूंस कर भरी हुई उंच-नीच वाली मानसिकता के चलते उन्होंने साफ़ इंकार कर दिया और कहा कि जिसके भाग्य में, जैसा लिखा है वैसा ही होगा

कहते हैं कि एक चित्र हज़ार शब्दों के बराबर होता है। नीचे दिए गए दो फोटो हमारे भारतीय समाज में मौजूद गैर बराबरी की दास्ताँ चीख-चीखकर बयां कर रहे हैं। जो लोग बराबरी की बात करते हुए यह कहते हैं कि अब तो समाज में समानता आ गयी है, अब कोई छुआछूत और जातिवाद नहीं रहा। ऐसे लोगों के लिए एक घटना के माध्यम से मैं बताना चाहता हूँ कि हमारे समाज में जातिवाद की जड़ें कितनी गहरी पैठ बनाये हुए हैं।

Jpeg
ऊंची जाति का श्मशान टीन शेड में

वाकया है राजस्थान के दौसा जिले की महवा तहसील के गाँव हुड़ला का, जहां दबंगों ने एक दलित महिला का अंतिम संस्कार शमशान में नहीं करने दिया। आपको बता दें कि राजस्थान में महवा से बीजेपी के विधायक ओमप्रकाश हुड़ला इसी गाँव के रहने वाले हैंl बीमारी के चलते बुजुर्ग दलित महिला की मृत्यु होने पर परिजन अंतिम संस्कार करने के लिए सुबह से ही बरसात के रुकने का इंतज़ार कर रहे थे,

Jpeg
बरसात मूसलाधार थी

लेकिन बारिश रुकने का नाम नहीं ले रही थी। आखिरकार शाम 4 बजे परिजन महिला के शव को अंतिम संस्कार के लिए शमशान ले गये। आपको जानकार आश्चर्य होगा कि गाँव के शमशान में अलग-अलग जाति के लोगों के लिए अलग-अलग स्थान निर्धारित हैं। चूँकि बारिश लगातार हो रही थी,  इसलिए मृतक के परिजनों ने गाँव के तथाकथित उच्च जाति के लोगों से टीनशेड वाले शमशान में महिला का अंतिम संस्कार करने की गुहार लगाई। लेकिन दिमाग में ठूंस-ठूंस कर भरी हुई उंच-नीच वाली मानसिकता के चलते उन्होंने साफ़ इंकार कर दिया और कहा कि जिसके भाग्य में, जैसा लिखा है वैसा ही होगा। जैसे-जैसे समय गुजरता गया शाम भी ढलने लगी, नतीजन खुले आसमान के नीचे ही बुजुर्ग दलित महिला का अंतिम संस्कार करना पड़ा।

Jpeg
दलित महिला के रिश्तेदार खुले में चिता पर त्रिपाल लगाकर उसके अंतिम संस्कार के लिए बाध्य किये गये

जैसा कि आप फोटो में देख सकते हैं कि बरसात की बूंदों को रोकने के लिए लोगों ने चिता के ऊपर त्रिपाल टाँगे रखा। जब बारिश थोड़ी काम हुई तो जल्दी आग पकडाने के लिए मिट्टी के तेल का भी सहारा लिया गया। खैर उस बुजुर्ग महिला के अंतिम संस्कार की क्रिया तो जैसे तैसे पूरी हो गयी लेकिन मेरे और कई अन्य लोगों के मन में बहुत से सवाल खड़े कर गई। लोग यहाँ पर तो शमशान का भी बंटवारा कर लेते हैं लेकिन मरने के बाद ऊपर जाने पर भी इसी तरह का बँटवारा होता होगा क्या?

लेखक के बारे में

लकी नरेश

लकी नरेश स्वतंत्र पत्रकार हैं, वे ईटीवी,राजस्थान में रिपोर्टर रहे हैं l

संबंधित आलेख

‘मैं धंधेवाली की बेटी हूं, धंधेवाली नहीं’
‘कोई महिला नहीं चाहती कि उसकी आने वाली पीढ़ी इस पेशे में रहे। सेक्स वर्कर्स भी नहीं चाहतीं। लेकिन जो समाज में बैठे ट्रैफिकर...
रेडलाइट एरिया के हम वाशिंदों की पहली जीत
‘बिहार में ज़्यादातर रेडलाइट ब्रोथल एरिया है। इसका मतलब लोग वहीं रहते हैं, वहीं खाते-पीते हैं, वहीं पर उनका पूरा जीवन चलता है और...
फुले, पेरियार और आंबेडकर की राह पर सहजीवन का प्रारंभोत्सव
राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के सुदूर सिडियास गांव में हुए इस आयोजन में न तो धन का प्रदर्शन किया गया और न ही धन...
भारतीय ‘राष्ट्रवाद’ की गत
आज हिंदुत्व के अर्थ हैं– शुद्ध नस्ल का एक ऐसा दंगाई-हिंदू, जो सावरकर और गोडसे के पदचिह्नों को और भी गहराई दे सके और...
जेएनयू और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के बीच का फर्क
जेएनयू की आबोहवा अलग थी। फिर इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में मेरा चयन असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के पद पर हो गया। यहां अलग तरह की मिट्टी है...