e n

Sorry, the Hindi translation of this English article is unavailable

This post is only available in English.

Forward Press is both a website and a publisher of books on issues pertaining to Dalits, Adivasis and Other Backward Classes. Follow us on Facebook and Twitter for updates


For more information on Mahishasur, see Mahishasur: A People’s Hero. The book is available both in English and Hindi. Contact The Marginalised, Delhi (Phone: 9968527911).

Or, find the book on Amazon:  Mahishasur: A People’s Hero  (English edition),  Mahishasur: Ek Jan Nayak (Hindi edition)

And on Flipkart:

Mahishasur: A People’s Hero (English edition), Mahishasur: Ek Jan Nayak (Hindi edition)

About The Author

Amrish Herdenia

Amrish Herdenia is Editor (Translation), Forward Press. He has been the Madhya Pradesh bureau chief for ‘Deccan Herald’, ‘Daily Tribune’, ‘Daily Newstime’ and the weekly ‘Sunday Mail’. He has translated several books, including ‘Gujarat: Behind the Curtain’ by R.B. Sreekumar, former Director General of Police, Gujarat, from the original English to Hindi

Related Articles

दलित कविता में प्रतिक्रांति का स्वर
उत्तर भारत में दलित कविता के क्षेत्र में शून्यता की स्थिति तब भी नहीं थी, जब डॉ. आंबेडकर का आंदोलन चल रहा था। उस...
पुनर्पाठ : सिंधु घाटी बोल उठी
डॉ. सोहनपाल सुमनाक्षर का यह काव्य संकलन 1990 में प्रकाशित हुआ। इसकी विचारोत्तेजक भूमिका डॉ. धर्मवीर ने लिखी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि...
कबीर पर एक महत्वपूर्ण पुस्तक 
कबीर पूर्वी उत्तर प्रदेश के संत कबीरनगर के जनजीवन में रच-बस गए हैं। अकसर सुबह-सुबह गांव कहीं दूर से आती हुई कबीरा की आवाज़...
महाराष्ट्र में आदिवासी महिलाओं ने कहा– रावण हमारे पुरखा, उनकी प्रतिमाएं जलाना बंद हो
उषाकिरण आत्राम के मुताबिक, रावण जो कि हमारे पुरखा हैं, उन्हें हिंसक बताया जाता है और एक तरह से हमारी संस्कृति को दूषित किया...
‘अगर हमारे सपने के केंद्र में मानव जाति के लिए प्रेम है, तो हमारा व्यवहार भी ऐसा होना चाहिए’
गेल ऑम्वेट गांव-गांव जाकर शोध करती थीं, उससे जो तथ्य इकट्ठा होता था, वह बहुत व्यापक था और बहुत लोगों से जुड़ा होता था।...