हिंदू धर्म के नाश से ही होगा जाति का विनाश : आंबेडकर

वर्ण-जाति में जकड़ा भारतीय समाज लंबे समय से अपनी मुक्ति के लिए छटपटा रह है। वर्ण-जाति व्यवस्था की जड़ में हिंदू धर्म हैं। डॉ. आंबेडकर की किताब जाति का विनाश तथ्यों और तर्कों के साथ यह प्रतिपादित करती है कि हिंदू धर्म के विनाश के साथ ही जाति का विनाश होगा

बाबा साहेब डॉ. बी. आर. आंबेडकर की पुस्तक ‘एनिहिलेशन आफ कास्ट’ का हिन्दी अनुवाद ‘जाति का विनाश’ फारवर्ड प्रेस ने प्रकाशित किया है।

हालांकि ऐसा नहीं था कि इस पुस्तक का हिन्दी अनुवाद उपलब्ध नहीं था। हिन्दी अनुवाद तो उपलब्ध था लेकिन अनुवाद की भाषा में सहजता और सरलता का अभाव खटकता था। जिससे यह पुस्तक साधारण पाठकों तक पहुंच बनाने में उतनी सफल नहीं हो पायी थी, जितनी समाज को इसकी जरूरत थी। इसी अभाव को दूर करने के लिए प्रख्यात पत्रकार व लेखक राजकिशोर ने कठिन परिश्रम से इस पुस्तक का हिन्दी अनुवाद किया जिसे फारवर्ड प्रेस ने प्रकाशित किया है। हालांकि वे इस पुस्तक के प्रकाशित होने के पूर्व ही 4 जून 2018 को हमसे सदा के लिए विदा हो गये। वे अपनी प्रिय पुस्तक को अपने हाथों से समाज को नहीं सौंप पाये, इसका दुःख हम सभी को आजीवन रहेगा।

वर्ष 1936 में इंडिपेंडेंट लेबर पार्टी के प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ आंबेडकर

यह पुस्तक एक अन्य कारण से भी उपयोगी है। बाबासाहेब ने इस भाषण कोजातपात तोड़क मंडल, लाहौरके अधिवेशन में अध्यक्षीय भाषण के लिए तैयार किया था, इसलिए इसमें सन्दर्भ और टिप्पणियां नहीं जोड़ी गयी थीं। डॉ. सिद्धार्थ ने इस पुस्तक में सन्दर्भ और टिप्पणियों को कठिन परिश्रम से जोड़ा है। सन्दर्भ और टिप्पणियों से विषय और अधिक स्पष्ट हो जाता है।

बाबासाहेब की पहचानजातिके सन्दर्भ में एक गम्भीर अध्येता की भी है। 1916 में उन्होंनेभारत में जातियाँ: उनका तंत्र, उत्पत्ति और विकासशीर्षक पर शोध पत्र कोलंबिया विश्वविद्यालय में प्रस्तुत किया था। उनकी इच्छा थी किजाति का विनाशनामक भाषण के साथभारत में जातियाँनामक शोधपत्र भी प्रकाशित हो। फारवर्ड प्रेस धन्यवाद का पात्र है कि बाबासाहेब की इच्छा के अनुरूप सुन्दर कलेवर में दोनों निबंधों को एक साथ इस पुस्तक में प्रकाशित किया है।

अबजाति का विनाशपुस्तक के मजमून और उस समय की परिस्थितियों की थोड़ी चर्चा करते हैं। जैसा कि पहले ही स्पष्ट किया गया है कि इस भाषण कोजातपात तोड़क मंडल, लाहौरके वार्षिक अधिवेशन में अध्यक्षीय भाषण के लिए तैयार किया था लेकिन जाति तोड़ने से संबंधित बाबासाहेब के विचारों से मण्डल के सदस्यों की सहमति बन पाने के कारण अधिवेशन ही रद्द कर दिया गया, लिहाजा यह भाषण प्रस्तुत नहीं किया जा सका जिसे बाबा साहेब ने अस्वस्थता की स्थिति में भी मंडल के अनुरोध पर कड़ी मेहनत से तैयार किया था। विषय की महत्ता को देखते हुए बाबासाहेब ने 15 मई 1936 को अपने खर्च पर इस भाषण को पुस्तक के रूप में प्रकाशित करवाया। इस पुस्तक के दूसरे संस्करण (1937) में बाबा साहेब जात पात तोड़क मंडल के सदस्यों के बीच हुए पत्राचार एवं पुस्तक प्रकाशित होने पर महात्मा गांधी की प्रतिक्रिया तथा उस पर बाबा साहेब के जवाब को भी प्रकाशित किया गया।जाति का विनाशबाबा साहेब द्वारा प्रकाशित पुस्तकएनिहिलेशन आॅफ कास्टके तीसरे संस्करण (1944) में प्रकाशित सम्पूर्ण सामग्री का अनुवाद है।

यह भी पढ़ें : डॉ. आंबेडकर : एक अप्रतिम विधिवेत्ता

इस पुस्तक में प्रकाशित बाबा साहेब के दो व्याख्यानोंजाति का विनाश’ (1936) औरभारत में जातियाँ’ (1916) में भारतीय समाज में जातिव्यवस्था की एक व्यवस्थित तस्वीर पेश की गयी है। जाति की उत्पत्ति, विस्तार एवं जाति के विनाश सम्बन्धी तरीके पर बाबा साहेब ने प्रमाण सहित तार्किक ढंग से प्रकाश डाला है।जाति का विनाशव्याख्यान पढ़कर महात्मा गांधी ने कहा था ‘‘कोई भी सुधारक इस व्याख्यान की उपेक्षा नहीं कर सकता। जो रूढ़िवादी हैं वे इसे पढ़कर लाभान्वित होंगे। इसका मतलब यह नहीं कि व्याख्यान में आपत्ति करने योग्य कुछ भी नहीं है। इसे सिर्फ इसलिए पढ़ना चाहिए कि इस पर गंभीर आपत्ति की जा सकती है। डॉ. आंबेडकर हिन्दुत्व के लिए एक चुनौती है।’’ स्वतंत्रता के पश्चात् भारतीय समाज और राजनीति की दिशा बदलने वाले कांशीराम का जीवन बदलने में इस व्याख्यान का विशेष योगदान है। उन्हें जब यह पुस्तक मिली तो उसी रात उन्होंने इस पुस्तक को तीन बार पढ़ा और अगले कई दिनों तक उनको नींद भी नहीं आई। उन्होंने अपनी पुस्तकचमचा युगमें इन दोनों व्याख्यानों को जातिव्यवस्था को समझने के लिए बेहद महत्वपूर्ण माना है।

बंबई में आचार्य अतरे की फिल्म ‘महात्मा जोती राव फुले’ की शुटिंग शुरू होने के समय आंबेडकर

डॉ. आंबेडकर की स्थापना है किजातिस्वतंत्र ईकाई नहीं है।जाति’ ‘हिन्दू समाज व्यवस्थाका अभिन्न अंग है। इसकी उत्पत्तिपुरोहित वर्गद्वारा अपने को बन्द वर्ग घोषित करने के उपरान्त हुई। जाति एक स्वेच्छा से बन्द वर्ग है। बन्द वर्ग का अर्थ है विजातीय विवाह पर रोक। विजातीय विवाह पर रोक ही जाति व्यवस्था का मुख्य आधार है।

दलित पैंथर : आशा और आक्रोश का समन्वय

डॉ. आंबेडकर के शब्दों में, ‘‘अन्य समाजों की तरह भारतीय समाज भी चार वर्गों में विभाजित था और सबसे पुराने वर्ग, जिनके बारे में हमें पता है, ये हैं– (1) ब्राह्मण या पुरोहित वर्ग, (2) क्षत्रिय या सैनिक वर्ग, (3) वैश्य अथवा व्यापारिक वर्ग, (4) शूद्र अथवा शिल्पकार और सेवक वर्ग। इस तथ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है कि यह सारतः एक वर्ग समाज था, जिसमें व्यक्ति योग्यता हासिल कर लेने पर, अपना वर्ग बदल सकता था और इसलिए किसी भी वर्ग में शामिल व्यक्तियों की परिवर्तनशीलता स्वीकार्य थी। हिन्दुओं के इतिहास में किसी समय पुजारी वर्ग ने सामाजिक रूप से समाज के अन्य वर्गों से अपने को अलग कर लिया और बंद घेरे में रहने की नीति अपनाने हुए उन्होंने अपने को एक जाति में बदल लिया।’’ सजातीय विवाह की प्रथा जाति का मूल लक्षण है। सजातीय विवाह के बगैर जाति एक धोखा थी, विधवा विवाह पर रोक, बाल विवाह और सती प्रथा जैसी कुरीतियाँ सजातीय विवाह को बनाये रखने के लिए बनायी गयीं तथा हिन्दू धर्मशास्त्रों द्वारा इन कुरीतियों का महिमामंडन किया गया। इसलिए डॉ. अांबेडकर जाति को तोड़ने के लिए हिन्दू धर्म को नष्ट करने की सलाह देते हैं।

वैसे तो यह पुस्तकजातिपर केन्द्रित है, लेकिन इस पुस्तक में डॉ. आंबेडकर की छवि एक समग्र दार्शनिक के रूप में उभरती है। भारतीय समाज को समझने के लिए यह पुस्तक केवल अतुलनीय है बल्कि आवश्यक भी है। आशा है यह पुस्तक हिन्दी पाठकों की चेतना को विकसित करने में उपयोगी सिद्ध होगी।

 

किताब : जाति का विनाश

लेखक : डॉ. भीमराव आंबेडकर

अनुवादक : राजकिशोर

प्रकाशक : फारवर्ड प्रेस

मूल्य : 400 रुपए (सजिल्द), 200 रुपए(अजिल्द)

अमेजन से खरीदने के लिए यहां क्लिक करें

https://www.amazon.in/dp/9387441261


फारवर्ड प्रेस वेब पोर्टल के अतिरिक्‍त बहुजन मुद्दों की पुस्‍तकों का प्रकाशक भी है। एफपी बुक्‍स के नाम से जारी होने वाली ये किताबें बहुजन (दलित, ओबीसी, आदिवासी, घुमंतु, पसमांदा समुदाय) तबकों के साहित्‍य, सस्‍क‍ृति व सामाजिक-राजनीति की व्‍यापक समस्‍याओं के साथ-साथ इसके सूक्ष्म पहलुओं को भी गहराई से उजागर करती हैं। एफपी बुक्‍स की सूची जानने अथवा किताबें मंगवाने के लिए संपर्क करें। मोबाइल : +917827427311, ईमेल : info@forwardmagazine.in

फारवर्ड प्रेस की किताबें किंडल पर प्रिंट की तुलना में सस्ते दामों पर उपलब्ध हैं। कृपया इन लिंकों पर देखें 

 

बहुजन साहित्य की प्रस्तावना 

दलित पैंथर्स : एन ऑथरेटिव हिस्ट्री : लेखक : जेवी पवार 

महिषासुर एक जननायक’

महिषासुर : मिथक व परंपराए

जाति के प्रश्न पर कबी

चिंतन के जन सरोकार 

About The Author

One Response

  1. Dhammasheel Bodhidhamma Reply

Reply